Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Nov 2022 · 1 min read

दोगले मित्र

दोगलों के जैसे पवित्र हो,
हमसे कहते हो, हमारे मित्र हो ॥
दिखाने को रखते हो कोमल हृदय,
वैसे तो त्रिया चरित्र हो ।
बिन बोले पाल्हा बदल लिए,
लगता है नेताओं के मित्र हो ॥
फंसा हूँ मरूंगा पर नहीं दोस्त,
मैं बचूँ या फँसू तुम सचरित्र हो ।
तुम फफूंदियाँ कितने ही लगाओ मेरे ऊपर,
मैं तो हर बार कहूँगा तुम इत्र हो, तुम इत्र हो..!

©®अमरेश मिश्र

12 Likes · 4 Comments · 339 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
स्वर्णिम दौर
स्वर्णिम दौर
Dr. Kishan tandon kranti
■ बस, इतना कहना काफ़ी है।
■ बस, इतना कहना काफ़ी है।
*प्रणय प्रभात*
बल और बुद्धि का समन्वय हैं हनुमान ।
बल और बुद्धि का समन्वय हैं हनुमान ।
Vindhya Prakash Mishra
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
, गुज़रा इक ज़माना
, गुज़रा इक ज़माना
Surinder blackpen
तुम और बिंदी
तुम और बिंदी
Awadhesh Singh
भाव में शब्द में हम पिरो लें तुम्हें
भाव में शब्द में हम पिरो लें तुम्हें
Shweta Soni
परीक्षाएँ आ गईं........अब समय न बिगाड़ें
परीक्षाएँ आ गईं........अब समय न बिगाड़ें
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
कर दिया समर्पण सब कुछ तुम्हे प्रिय
कर दिया समर्पण सब कुछ तुम्हे प्रिय
Ram Krishan Rastogi
दो धारी तलवार
दो धारी तलवार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
रोज हमको सताना गलत बात है
रोज हमको सताना गलत बात है
कृष्णकांत गुर्जर
यादों की महफिल सजी, दर्द हुए गुलजार ।
यादों की महफिल सजी, दर्द हुए गुलजार ।
sushil sarna
महायज्ञ।
महायज्ञ।
Acharya Rama Nand Mandal
नजरों को बचा लो जख्मों को छिपा लो,
नजरों को बचा लो जख्मों को छिपा लो,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
3120.*पूर्णिका*
3120.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अंगदान
अंगदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चिला रोटी
चिला रोटी
Lakhan Yadav
जिंदगी भर ख्वाहिशों का बोझ तमाम रहा,
जिंदगी भर ख्वाहिशों का बोझ तमाम रहा,
manjula chauhan
THIS IS WHY YOU DON’T SUCCEED:
THIS IS WHY YOU DON’T SUCCEED:
पूर्वार्थ
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
Vishvendra arya
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Neeraj Agarwal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
दोहे -लालची
दोहे -लालची
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*** रेत समंदर के....!!! ***
*** रेत समंदर के....!!! ***
VEDANTA PATEL
भाईचारे का प्रतीक पर्व: लोहड़ी
भाईचारे का प्रतीक पर्व: लोहड़ी
कवि रमेशराज
कितना खाली खालीपन है !
कितना खाली खालीपन है !
Saraswati Bajpai
वो कहती हैं ग़ैर हों तुम अब! हम तुमसे प्यार नहीं करते
वो कहती हैं ग़ैर हों तुम अब! हम तुमसे प्यार नहीं करते
The_dk_poetry
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
यादगार
यादगार
Bodhisatva kastooriya
किताबों में तुम्हारे नाम का मैं ढूँढता हूँ माने
किताबों में तुम्हारे नाम का मैं ढूँढता हूँ माने
आनंद प्रवीण
Loading...