Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2018 · 1 min read

देश भक्ति

मेरे प्यारे हिंद गगन में फैली है मेरी भक्ति
भारत माँ के आशीष से बाहों में जागी शक्ति ।

कुछ करना है तो कांटो की राहपर आगे बढे,
भारत माँ शक्ति के आगे सब हो नतमस्तक खड़े।

मेरे देश का तिरंगा उड़ते परिंदे से बवाल हो ,,,
हर देशवासी की छाती में देशभक्ति का उबाल हो ।

मेरी भारत माँ की माटी में मेरा मन मस्ताना हो
सोंधी सोंधी खुशबू से मेरा ह्रदय देश भक्ति में परवाना हो ।

आंतकियो को मार गिराने का होशला हर बच्चे में बुलन्द जगाना हो ।
तभी मेरी भारत माँ के पैर में छुपे कांटे को निकाला हो ।

जकड़ी जंजीरो से भारत माँ के मस्तक पर आँतकवादियो के लहु से तिलक लगाना हो ।
चीर फाडके दुश्मन गद्दार देशों को समुद्र में जाके डुबाना हो ।

अगर दुश्मन देश आंख दिखाए तो उसकी आंखों में धूल चटाना हो ,,
वीर शहीदों के परिवार के सामने ही दुश्मनों को फांसी के फंदे पर लटकाना हो ।

यही मेरी देश भक्ति में मेरा मन हिंदुस्तानी हो ,,
पताका के रंग रंग में मेरा दिल हिंदुस्थानी हो ।

✍✍प्रवीण शर्मा ताल
स्वरचित कविता
सुरक्षित काफिराइट कविता
दिनांक 14 /052018
मोबाईल नंबर 9165996865

Language: Hindi
576 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल(उनकी नज़रों से ख़ुद को बचाना पड़ा)
ग़ज़ल(उनकी नज़रों से ख़ुद को बचाना पड़ा)
डॉक्टर रागिनी
राम रहीम और कान्हा
राम रहीम और कान्हा
Dinesh Kumar Gangwar
*दो बूढ़े माँ बाप (नौ दोहे)*
*दो बूढ़े माँ बाप (नौ दोहे)*
Ravi Prakash
दृढ़ निश्चय
दृढ़ निश्चय
विजय कुमार अग्रवाल
तेरा मेरा खुदा अलग क्यों है
तेरा मेरा खुदा अलग क्यों है
VINOD CHAUHAN
"विस्मृति"
Dr. Kishan tandon kranti
#सामयिक_व्यंग्य...
#सामयिक_व्यंग्य...
*प्रणय प्रभात*
गुजरा कल हर पल करे,
गुजरा कल हर पल करे,
sushil sarna
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
Otteri Selvakumar
दिल ए तकलीफ़
दिल ए तकलीफ़
Dr fauzia Naseem shad
खुश रहने वाले गांव और गरीबी में खुश रह लेते हैं दुःख का रोना
खुश रहने वाले गांव और गरीबी में खुश रह लेते हैं दुःख का रोना
Ranjeet kumar patre
3159.*पूर्णिका*
3159.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Love Night
Love Night
Bidyadhar Mantry
दुनिया इतनी बड़ी किताब है
दुनिया इतनी बड़ी किताब है
Indu Singh
वो भारत की अनपढ़ पीढ़ी
वो भारत की अनपढ़ पीढ़ी
Rituraj shivem verma
शिक्षक श्री कृष्ण
शिक्षक श्री कृष्ण
Om Prakash Nautiyal
मन बहुत चंचल हुआ करता मगर।
मन बहुत चंचल हुआ करता मगर।
surenderpal vaidya
Fight
Fight
AJAY AMITABH SUMAN
प्रेम में मिट जाता है, हर दर्द
प्रेम में मिट जाता है, हर दर्द
Dhananjay Kumar
हमारा अस्तिव हमारे कर्म से होता है, किसी के नजरिए से नही.!!
हमारा अस्तिव हमारे कर्म से होता है, किसी के नजरिए से नही.!!
Jogendar singh
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
देश हमारा भारत प्यारा
देश हमारा भारत प्यारा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मेरे ख्याल से जीवन से ऊब जाना भी अच्छी बात है,
मेरे ख्याल से जीवन से ऊब जाना भी अच्छी बात है,
पूर्वार्थ
वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई
वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मा ममता का सागर
मा ममता का सागर
भरत कुमार सोलंकी
कभी फौजी भाइयों पर दुश्मनों के
कभी फौजी भाइयों पर दुश्मनों के
ओनिका सेतिया 'अनु '
छोटी - छोटी बातें
छोटी - छोटी बातें
Shyam Sundar Subramanian
डॉ. नामवर सिंह की दृष्टि में कौन-सी कविताएँ गम्भीर और ओजस हैं??
डॉ. नामवर सिंह की दृष्टि में कौन-सी कविताएँ गम्भीर और ओजस हैं??
कवि रमेशराज
नेता बनि के आवे मच्छर
नेता बनि के आवे मच्छर
आकाश महेशपुरी
वादा
वादा
Bodhisatva kastooriya
Loading...