Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2022 · 1 min read

देश के कण कण में उनके गीत

बचपन से संगीत था भाया
सूर ताल थीं उनकी आराध्या
धरा की सरस्वती थीं
संगीत की अधिष्ठात्री थीं

पुत्री थीं वो वाणी की
साधक थीं वो संगीत की
रग रग में संगीत समाया था
जीवन को संगीतमय बनाया था

सूरज की पहली किरण में
कल कल बहती धारा में
मंद मंद बहते वयार में
गीत उन्ही के रचते थे

संगीत ही थे उनके साथी
सूर ताल मन के मीत
संतान सदृश दुलारती थीं
गीत संग प्रेम, उनकी थी अपरिमित

घर घर की थीं वो सदस्या
घर घर सुने जाते उनके गीत
संगीत प्रेमी की हैं पूज्या
हृदय में अनंत तक रहेंगे उनके गीत

स्वयं कंठ में आसीन थीं सरस्वती
वाणी जब स्वर लहरियां सुनाती थीं
ब्रह्मांड भी तन्मय हो सुनते थे
अतुल्य, अद्वितीय हैं सभी मानते थे

देश के कण कण में उनके गीत
अनंत काल तक अमर रहें
चिर काल तक श्रवण होते रहें स्वर
सदा ही गाते रहें अधर

स्वर साम्राज्ञी,स्वर कोकिला
सदा ही अमर रहें संगीत की दुहिता
चिर निद्रा में सो गईं
नीर भर गईं नयनों में

Language: Hindi
1 Like · 4 Comments · 530 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
योग की महिमा
योग की महिमा
Dr. Upasana Pandey
हमको तू ऐसे नहीं भूला, बसकर तू परदेश में
हमको तू ऐसे नहीं भूला, बसकर तू परदेश में
gurudeenverma198
मेरी दुनियाँ.....
मेरी दुनियाँ.....
Naushaba Suriya
*जो होता पेड़ रूपयों का (सात शेर)*
*जो होता पेड़ रूपयों का (सात शेर)*
Ravi Prakash
"जड़"
Dr. Kishan tandon kranti
हिन्दी दोहा लाड़ली
हिन्दी दोहा लाड़ली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तुम हो तो मैं हूँ,
तुम हो तो मैं हूँ,
लक्ष्मी सिंह
गुरु अंगद देव
गुरु अंगद देव
कवि रमेशराज
भगवान
भगवान
Adha Deshwal
गृहणी का बुद्ध
गृहणी का बुद्ध
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
मुझ में
मुझ में
हिमांशु Kulshrestha
अपनों के बीच रहकर
अपनों के बीच रहकर
पूर्वार्थ
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बढ़ती हुई समझ
बढ़ती हुई समझ
शेखर सिंह
तहजीब राखिए !
तहजीब राखिए !
साहित्य गौरव
سب کو عید مبارک ہو،
سب کو عید مبارک ہو،
DrLakshman Jha Parimal
जब -जब धड़कन को मिली,
जब -जब धड़कन को मिली,
sushil sarna
(15)
(15) " वित्तं शरणं " भज ले भैया !
Kishore Nigam
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Dr. Seema Varma
बदलाव जरूरी है
बदलाव जरूरी है
Surinder blackpen
■अहम सवाल■
■अहम सवाल■
*प्रणय प्रभात*
थी हवा ख़ुश्क पर नहीं सूखे - संदीप ठाकुर
थी हवा ख़ुश्क पर नहीं सूखे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
चुनिंदा बाल कविताएँ (बाल कविता संग्रह)
चुनिंदा बाल कविताएँ (बाल कविता संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कैसा दौर है ये क्यूं इतना शोर है ये
कैसा दौर है ये क्यूं इतना शोर है ये
Monika Verma
3235.*पूर्णिका*
3235.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आसान होते संवाद मेरे,
आसान होते संवाद मेरे,
Swara Kumari arya
श्री कृष्ण का चक्र चला
श्री कृष्ण का चक्र चला
Vishnu Prasad 'panchotiya'
साधना से सिद्धि.....
साधना से सिद्धि.....
Santosh Soni
Loading...