Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Aug 2016 · 2 min read

देश का दुर्भाग्य

“देश का दुर्भाग्य ”
************
एक समय था जब नेता आज़ादी की लड़ाई लड़ते थे
आज़ादी की लड़ाई में बच्चो को भी आगे करते थे
खुद ही रहकर सबसे आगे देते थे जान देश की खातिर
देश की खातिर तन मन धन सब कुछ कुर्बान करते थे

आज के नेता संसद के भीतर ही एक दुसरे से लड़ते हैं
उनके बच्चे ही उनकी जगह ले मंत्री और नेता बनते हैं
देश की खातिर जान देना बहुत दूर की बात है ‘कुमार’
रक्त चूस के गरीबों का बस अपना ही खजाना भरते हैं
लूटकर देश को कमाते अंधाधुंध काली धन और दौलत
ले जाकर विदेश काला धन स्विस खातों में जमा करते हैं
भगाते क्वात्रोची, दाउद, मोदी और माल्याओं को देश से
कोरी बातें कर निकल जाने के बाद सांप लकीर पीटते हैं
सरकारी धन पर पूंजीपति को ही मौज मिलती बस
ज़रूरतमंद और किसान यहाँ कर्जे के लिए मुंह तकते हैं
नेता अभिनेता पूंजीपति सब बातों से दरियादिली दिखाते
फसलों की सही कीमत नहीं देते अपने देसी किसानों को
विदेशों से आयात कर ऊंची कीमत पर अनाज मंगवाते है
मेरे देश के किसान यहाँ कंगाली में आत्महत्या करते हैं
पांच साल गुजार देते यूँ ही मस्ती और रंगरेलियों में
बेवकूफ हैं हम अगली बार दोबारा भी उन्ही को चुनते हैं
यहाँ जेल के कैदी को मतदान का अधिकार भी नहीं
जेल में बैठे अपराधी मंत्री, विधायक और सांसद बनते हैं
पुलिस के रोजनामचे में फरार घोषित हैं वो अपराधी
मेरी समझ से परे है फिर वो चुनाव का पर्चा कैसे भरते हैं

“सन्दीप कुमार”

Language: Hindi
4 Comments · 859 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अधूरा प्रयास
अधूरा प्रयास
Sûrëkhâ
बिन बोले ही  प्यार में,
बिन बोले ही प्यार में,
sushil sarna
संवेग बने मरणासन्न
संवेग बने मरणासन्न
प्रेमदास वसु सुरेखा
खूबसूरती
खूबसूरती
Mangilal 713
** मंजिलों की तरफ **
** मंजिलों की तरफ **
surenderpal vaidya
भीड़ से आप
भीड़ से आप
Dr fauzia Naseem shad
दूसरा मौका
दूसरा मौका
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
चुनाव फिर आने वाला है।
चुनाव फिर आने वाला है।
नेताम आर सी
चुप्पी
चुप्पी
डी. के. निवातिया
जितना तुझे लिखा गया , पढ़ा गया
जितना तुझे लिखा गया , पढ़ा गया
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
लग जाए गले से गले
लग जाए गले से गले
Ankita Patel
गुरुर ज्यादा करोगे
गुरुर ज्यादा करोगे
Harminder Kaur
2496.पूर्णिका
2496.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रात बसर कर ली है मैंने तुम्हारे शहर में,
रात बसर कर ली है मैंने तुम्हारे शहर में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आ जाओ
आ जाओ
हिमांशु Kulshrestha
गुमनाम राही
गुमनाम राही
AMRESH KUMAR VERMA
#ऐसे_समझिए…
#ऐसे_समझिए…
*प्रणय प्रभात*
हकीकत उनमें नहीं कुछ
हकीकत उनमें नहीं कुछ
gurudeenverma198
छंद मुक्त कविता : बचपन
छंद मुक्त कविता : बचपन
Sushila joshi
खुद से मुहब्बत
खुद से मुहब्बत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
नन्ही परी और घमंडी बिल्ली मिनी
नन्ही परी और घमंडी बिल्ली मिनी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
यूँ ही नहीं फहरते परचम
यूँ ही नहीं फहरते परचम
Dr. Kishan tandon kranti
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / मुसाफ़िर बैठा
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
चले ससुराल पँहुचे हवालात
चले ससुराल पँहुचे हवालात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कभी कभी भाग दौड इतना हो जाता है की बिस्तर पे गिरने के बाद कु
कभी कभी भाग दौड इतना हो जाता है की बिस्तर पे गिरने के बाद कु
पूर्वार्थ
सुंदर नयन सुन बिन अंजन,
सुंदर नयन सुन बिन अंजन,
Satish Srijan
हमें अलग हो जाना चाहिए
हमें अलग हो जाना चाहिए
Shekhar Chandra Mitra
चिरैया पूछेंगी एक दिन
चिरैया पूछेंगी एक दिन
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Image of Ranjeet Kumar Shukla
Image of Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
सच तो सच ही रहता हैं।
सच तो सच ही रहता हैं।
Neeraj Agarwal
Loading...