Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Apr 2023 · 1 min read

देते फल हैं सर्वदा , जग में संचित कर्म (कुंडलिया)

देते फल हैं सर्वदा , जग में संचित कर्म (कुंडलिया)
—————————————————-
देते फल हैं सर्वदा , जग में संचित कर्म
अच्छा या मिलता बुरा ,उसका यह ही मर्म
उसका यह ही मर्म ,कर्म से कब बच पाता
पीछा करता कर्म , दूर तक दौड़ा आता
कहते रवि कविराय , हमेशा वापस लेते
मिलता वह ही लौट ,प्रकृति को जो हम देते
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
संचित = इकट्ठा या जमा किया हुआ
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

369 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
खुद को खोने लगा जब कोई मुझ सा होने लगा।
खुद को खोने लगा जब कोई मुझ सा होने लगा।
शिव प्रताप लोधी
हौसला
हौसला
डॉ. शिव लहरी
रोशन है अगर जिंदगी सब पास होते हैं
रोशन है अगर जिंदगी सब पास होते हैं
VINOD CHAUHAN
54….बहर-ए-ज़मज़मा मुतदारिक मुसम्मन मुज़ाफ़
54….बहर-ए-ज़मज़मा मुतदारिक मुसम्मन मुज़ाफ़
sushil yadav
चित्रकार
चित्रकार
Ritu Asooja
*सवा लाख से एक लड़ाऊं ता गोविंद सिंह नाम कहांउ*
*सवा लाख से एक लड़ाऊं ता गोविंद सिंह नाम कहांउ*
Harminder Kaur
सतत् प्रयासों से करें,
सतत् प्रयासों से करें,
sushil sarna
2633.पूर्णिका
2633.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
* हासिल होती जीत *
* हासिल होती जीत *
surenderpal vaidya
*वह भी क्या दिन थे : बारात में नखरे करने के 【हास्य-व्यंग्य 】
*वह भी क्या दिन थे : बारात में नखरे करने के 【हास्य-व्यंग्य 】
Ravi Prakash
हश्र का वह मंज़र
हश्र का वह मंज़र
Shekhar Chandra Mitra
यदि मैं अंधभक्त हूँ तो, तू भी अंधभक्त है
यदि मैं अंधभक्त हूँ तो, तू भी अंधभक्त है
gurudeenverma198
साथ
साथ
Neeraj Agarwal
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बेरोजगार लड़के
बेरोजगार लड़के
पूर्वार्थ
"परम्परा"
Dr. Kishan tandon kranti
याद रखना
याद रखना
Dr fauzia Naseem shad
विश्वास
विश्वास
विजय कुमार अग्रवाल
मैं हूं न ....@
मैं हूं न ....@
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
#देसी_ग़ज़ल
#देसी_ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
तितलियां
तितलियां
Adha Deshwal
संभल जाओ, करता हूँ आगाह ज़रा
संभल जाओ, करता हूँ आगाह ज़रा
Buddha Prakash
संगीत में मरते हुए को भी जीवित करने की क्षमता होती है।
संगीत में मरते हुए को भी जीवित करने की क्षमता होती है।
Rj Anand Prajapati
तुम गर मुझे चाहती
तुम गर मुझे चाहती
Lekh Raj Chauhan
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है।
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
यह क्या अजीब ही घोटाला है,
यह क्या अजीब ही घोटाला है,
Sukoon
नव संवत्सर आया
नव संवत्सर आया
Seema gupta,Alwar
बच्चे का संदेश
बच्चे का संदेश
Anjali Choubey
मैं जाटव हूं और अपने समाज और जाटवो का समर्थक हूं किसी अन्य स
मैं जाटव हूं और अपने समाज और जाटवो का समर्थक हूं किसी अन्य स
शेखर सिंह
राखी की यह डोर।
राखी की यह डोर।
Anil Mishra Prahari
Loading...