Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2017 · 1 min read

देख फिर आई होली

पीली सरसों ने किया, स्वर्ण कनक मनुहार
नीली अलसी मिल हुआ, अजब धरा श्रृंगार
अजब धरा श्रृंगार, देख फिर आई होली
रंग, अबीर, गुलाल, मस्त मस्तों की टोली
सुनकर ‘अदिति’ धमाल, छिपी सजनी नखरीली
साजन बन चितचोर, किया फिर नीली पीली

लोधी डॉ.आशा ‘अदिति’
भोपाल

2 Likes · 564 Views

Books from लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

You may also like:
माँ स्कंदमाता
माँ स्कंदमाता
Vandana Namdev
हर चीज से वीरान मैं अब श्मशान बन गया हूँ,
हर चीज से वीरान मैं अब श्मशान बन गया हूँ,
Aditya Prakash
इश्क
इश्क
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
श्री राम के आदर्श
श्री राम के आदर्श
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
फंस गया हूं तेरी जुल्फों के चक्रव्यूह मैं
फंस गया हूं तेरी जुल्फों के चक्रव्यूह मैं
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*चिड़िया रानी कैसे तुम उड़ती हो (बाल कविता)*
*चिड़िया रानी कैसे तुम उड़ती हो (बाल कविता)*
Ravi Prakash
में हूँ हिन्दुस्तान
में हूँ हिन्दुस्तान
Irshad Aatif
पुलवामा शहीद दिवस
पुलवामा शहीद दिवस
Ram Krishan Rastogi
उगता सूरज
उगता सूरज
Satish Srijan
ठंडी क्या आफत है भाई
ठंडी क्या आफत है भाई
AJAY AMITABH SUMAN
■ आज का शेर...
■ आज का शेर...
*Author प्रणय प्रभात*
आईना
आईना
Saraswati Bajpai
आदत में ही खामी है,
आदत में ही खामी है,
Dr. Kishan tandon kranti
*खुशियों का दीपोत्सव आया* 
*खुशियों का दीपोत्सव आया* 
Deepak Kumar Tyagi
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तुम वही ख़्वाब मेरी आंखों का
तुम वही ख़्वाब मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
मैं जान लेना चाहता हूँ
मैं जान लेना चाहता हूँ
Ajeet Malviya Lalit
लिव इन रिलेशनशिप
लिव इन रिलेशनशिप
Shekhar Chandra Mitra
कैसे कहूँ....?
कैसे कहूँ....?
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
जिनवानी स्तुती (अभंग )
जिनवानी स्तुती (अभंग )
Ajay Chakwate *अजेय*
सुबह की आहटें
सुबह की आहटें
Ranjana Verma
स्पंदित अरदास!
स्पंदित अरदास!
Rashmi Sanjay
मोदी जी
मोदी जी
Shivkumar Bilagrami
"औरत”
Dr Meenu Poonia
आओ दीप जलायें
आओ दीप जलायें
डॉ. शिव लहरी
💐अब क्या है?डिग्री मिल गई डीजे बजवा ले💐💐
💐अब क्या है?डिग्री मिल गई डीजे बजवा ले💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आया क़िसमिस का त्यौहार
आया क़िसमिस का त्यौहार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ताबीर तुम्हारे हर ख़्वाब की।
ताबीर तुम्हारे हर ख़्वाब की।
Taj Mohammad
🏄तुम ड़रो नहीं स्व जन्म करो🏋️
🏄तुम ड़रो नहीं स्व जन्म करो🏋️
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तुम्हारा देखना ❣️
तुम्हारा देखना ❣️
अनंत पांडेय "INϕ9YT"
Loading...