Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Nov 2023 · 1 min read

दूर देदो पास मत दो

दूर देदो पास मत दो
मना करदो आस मत दो
बहुत दुख तकलीफ़ होती है
इसलिए विष देदो विश्वास मत दो

कवि आजाद मंडौरी

177 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चमकते सूर्य को ढलने न दो तुम
चमकते सूर्य को ढलने न दो तुम
कृष्णकांत गुर्जर
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
DrLakshman Jha Parimal
गाँधी हमेशा जिंदा है
गाँधी हमेशा जिंदा है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कोठरी
कोठरी
Punam Pande
नीला ग्रह है बहुत ही खास
नीला ग्रह है बहुत ही खास
Buddha Prakash
मुलभुत प्रश्न
मुलभुत प्रश्न
Raju Gajbhiye
आंख मेरी ही
आंख मेरी ही
Dr fauzia Naseem shad
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
Anand Kumar
बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
manjula chauhan
एक विद्यार्थी जब एक लड़की के तरफ आकर्षित हो जाता है बजाय कित
एक विद्यार्थी जब एक लड़की के तरफ आकर्षित हो जाता है बजाय कित
Rj Anand Prajapati
" चुस्की चाय की संग बारिश की फुहार
Dr Meenu Poonia
अँधेरे में नहीं दिखता
अँधेरे में नहीं दिखता
Anil Mishra Prahari
जिंदगी में रंजो गम बेशुमार है
जिंदगी में रंजो गम बेशुमार है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
जीवन : एक अद्वितीय यात्रा
जीवन : एक अद्वितीय यात्रा
Mukta Rashmi
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
............
............
शेखर सिंह
बेटियां।
बेटियां।
Taj Mohammad
"तुम इंसान हो"
Dr. Kishan tandon kranti
बच्चे ही अच्छे हैं
बच्चे ही अच्छे हैं
Diwakar Mahto
अच्छा लगता है
अच्छा लगता है
Pratibha Pandey
ये भी तो ग़मशनास होते हैं
ये भी तो ग़मशनास होते हैं
Shweta Soni
उफ़  ये लम्हा चाय का ख्यालों में तुम हो सामने
उफ़ ये लम्हा चाय का ख्यालों में तुम हो सामने
Jyoti Shrivastava(ज्योटी श्रीवास्तव)
मर्यादाएँ टूटतीं, भाषा भी अश्लील।
मर्यादाएँ टूटतीं, भाषा भी अश्लील।
Arvind trivedi
" मुझे सहने दो "
Aarti sirsat
राधा अब्बो से हां कर दअ...
राधा अब्बो से हां कर दअ...
Shekhar Chandra Mitra
बेटियां!दोपहर की झपकी सी
बेटियां!दोपहर की झपकी सी
Manu Vashistha
3018.*पूर्णिका*
3018.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*जय सियाराम राम राम राम...*
*जय सियाराम राम राम राम...*
Harminder Kaur
जिन्दगी सदैव खुली किताब की तरह रखें, जिसमें भावनाएं संवेदनशी
जिन्दगी सदैव खुली किताब की तरह रखें, जिसमें भावनाएं संवेदनशी
Lokesh Sharma
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
Loading...