Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Mar 2022 · 1 min read

दूर क्षितिज के पार

माँ! चल ले चल तू मुझे,दूर क्षितिज के पार।
जहाँ हृदय हो पुष्प सा, स्वार्थ हीन हो प्यार ।।

इंसा में इंसानियत,हो निर्मल व्यवहार।
सत्य सुर्य सा हो प्रखर,करे झूठ पर वार।।
जहाँ स्वर्ग सी हो धरा,खुशियों की बौछार।
माँ! चल ले चल तू मुझे,दूर क्षितिज के पार।।

शब्द सुरीले हो अधर,वीणा की झनकार ।
चंदन सी महके हृदय,दिल में प्रेम अपार।।
जहाँ कभी होती नहीं, नफरत की दीवार।
माँ! चल ले चल तू मुझे,दूर क्षितिज के पार।

कोमल मन पर भय यहाँ, करता नित्य प्रहार।
गूँज रहा है कर्ण में, जग का हाहाकार।।
निज आँचल में लो छुपा,कर लो स्नेह दुलार।
माँ! चल ले चल तू मुझे,दूर क्षितिज के पार।।

चल पलकों को मूँद कर,करे स्वप्न साकार।
स्वप्न सुनहरा खोल दो,इन्द्रधनुष का द्वार।।
चाँद सितारों से सजा, परियों का संसार।
माँ! चल ले चल तू मुझे,दूर क्षितिज के पार।।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

4 Likes · 3 Comments · 250 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
धूर्ततापूर्ण कीजिए,
धूर्ततापूर्ण कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नाम के अनुरूप यहाँ, करे न कोई काम।
नाम के अनुरूप यहाँ, करे न कोई काम।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जीवन संध्या में
जीवन संध्या में
Shweta Soni
मन मंदिर के कोने से
मन मंदिर के कोने से
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
Suraj kushwaha
मोहब्बत है अगर तुमको जिंदगी से
मोहब्बत है अगर तुमको जिंदगी से
gurudeenverma198
आज तो ठान लिया है
आज तो ठान लिया है
shabina. Naaz
जीवन चक्र में_ पढ़ाव कई आते है।
जीवन चक्र में_ पढ़ाव कई आते है।
Rajesh vyas
मेरे दिल में मोहब्बत आज भी है
मेरे दिल में मोहब्बत आज भी है
कवि दीपक बवेजा
मोहब्बत
मोहब्बत
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
"पंजे से पंजा लड़ाए बैठे
*Author प्रणय प्रभात*
डिग्रियों का कभी अभिमान मत करना,
डिग्रियों का कभी अभिमान मत करना,
Ritu Verma
प्रीति
प्रीति
Mahesh Tiwari 'Ayan'
💐अज्ञात के प्रति-39💐
💐अज्ञात के प्रति-39💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
कवि रमेशराज
जिंदगी एडजस्टमेंट से ही चलती है / Vishnu Nagar
जिंदगी एडजस्टमेंट से ही चलती है / Vishnu Nagar
Dr MusafiR BaithA
महाराणा सांगा
महाराणा सांगा
Ajay Shekhavat
উত্তর দাও পাহাড়
উত্তর দাও পাহাড়
Arghyadeep Chakraborty
6. शहर पुराना
6. शहर पुराना
Rajeev Dutta
सत्य की खोज
सत्य की खोज
लक्ष्मी सिंह
" अधरों पर मधु बोल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
घोंसले
घोंसले
Dr P K Shukla
*जो भी अच्छे काम करेगा, कलियुग में पछताएगा (हिंदी गजल)*
*जो भी अच्छे काम करेगा, कलियुग में पछताएगा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
यहाँ पर सब की
यहाँ पर सब की
Dr fauzia Naseem shad
सुखम् दुखम
सुखम् दुखम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
Ragini Kumari
सविधान दिवस
सविधान दिवस
Ranjeet kumar patre
23/15.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/15.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
" प्रिये की प्रतीक्षा "
DrLakshman Jha Parimal
डियर कामरेड्स
डियर कामरेड्स
Shekhar Chandra Mitra
Loading...