Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2016 · 1 min read

दुश्मन नए मिले

जब छीनने छुडाने के साधन नए मिले
हर मोड़ पर कई-कई सज्जन नए मिले

कुछ दूर तक गई भी न थी राह मुड़ गई
जिस राह पर फूलों भरे गुलशन नए मिले

काँटों से खेलता रहा कैसा जुनून था
उफ़! दोस्तों की शक्ल में दुश्मन नए मिले

जितने भी काटता गया जीवन के फंद वो
उतने ही जिंदगी उसे बंधन नए मिले

अपनों से दूर कर रहा उनका मिज़ाज भी
गलियों से अब जो गाँव की आँगन नए मिले

~ अशोक कुमार रक्ताले.

2 Likes · 5 Comments · 246 Views
You may also like:
- में अनाथ हु -
bharat gehlot
निश्छल छंद विधान
डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
अंजाम ए जिंदगी
ओनिका सेतिया 'अनु '
माई री ,माई री( भाग १)
Anamika Singh
संसद को जाती सड़कें
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
बेटियां
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
किंकर्तव्यविमुढ़
पूनम झा 'प्रथमा'
मंजिल को अपना मान लिया !
Kuldeep mishra (KD)
द कुम्भकार
Satish Srijan
दर्द ए हया को दर्द से संभाला जाएगा
कवि दीपक बवेजा
नैनों की भाषा
Surya Barman
■ सामयिक व्यंग्य
*Author प्रणय प्रभात*
तेरी डोली से भी बेहतर
gurudeenverma198
कभी संभालना खुद को नहीं आता था, पर ज़िन्दगी ने...
Manisha Manjari
तुम इतना जो मुस्कराती हो,
Dr. Nisha Mathur
अंदाज़े मुहब्बत नया होगा
shabina. Naaz
"कारगिल विजय दिवस"
Lohit Tamta
औरत तेरी यही कहानी
विजय कुमार अग्रवाल
श्रावण सोमवार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दोषस्य ज्ञानं निर्दोषं एव भवति
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कुछ हम भी बदल गये
Dr fauzia Naseem shad
खुशियां बेवफ़ा होती है।
Taj Mohammad
गुरुर
Annu Gurjar
✍️अभी उलझे नहीं✍️
'अशांत' शेखर
*दो कुंडलियाँ*
Ravi Prakash
फास्ट फूड
Utsav Kumar Aarya
संस्कृति का दंश
Shekhar Chandra Mitra
नजर
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
कलम कि दर्द
Hareram कुमार प्रीतम
Loading...