Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 18, 2016 · 1 min read

दुश्मन नए मिले

जब छीनने छुडाने के साधन नए मिले
हर मोड़ पर कई-कई सज्जन नए मिले

कुछ दूर तक गई भी न थी राह मुड़ गई
जिस राह पर फूलों भरे गुलशन नए मिले

काँटों से खेलता रहा कैसा जुनून था
उफ़! दोस्तों की शक्ल में दुश्मन नए मिले

जितने भी काटता गया जीवन के फंद वो
उतने ही जिंदगी उसे बंधन नए मिले

अपनों से दूर कर रहा उनका मिज़ाज भी
गलियों से अब जो गाँव की आँगन नए मिले

~ अशोक कुमार रक्ताले.

2 Likes · 5 Comments · 202 Views
You may also like:
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
✍️फिर बच्चे बन जाते ✍️
Vaishnavi Gupta
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Manisha Manjari
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
Loading...