Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

दुश्मनों के नगर में,

दुश्मनों के नगर में घर रखना।
उसपे ऊँचा भी अपना सर रखना।।

में तो कैसे भी जाँ बचा लूँगा।
तू मगर इंतजाम कर रखना।।

हाँ मुक़ाबिल में तोपें आएँगी।
आप पत्थर से जेब भर रखना।।

दुश्मनों पर नज़र रहे लेकिन।
दोस्तों की भी कुछ ख़बर रखना।।

नोंच लेना क़बायें जिस्मों से।
और चादर मज़ार पर रखना।।

कर ना डाले अदब की रूह घायल।
तेरा ग़जलें इधर उधर रखना।।

——–√अशफ़ाक़ रशीद“

176 Views
You may also like:
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
पिता
लक्ष्मी सिंह
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
मेरी लेखनी
Anamika Singh
पहाड़ों की रानी शिमला
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
संत की महिमा
Buddha Prakash
पिता
Meenakshi Nagar
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...