Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Aug 2016 · 1 min read

दुश्मनों के नगर में,

दुश्मनों के नगर में घर रखना।
उसपे ऊँचा भी अपना सर रखना।।

में तो कैसे भी जाँ बचा लूँगा।
तू मगर इंतजाम कर रखना।।

हाँ मुक़ाबिल में तोपें आएँगी।
आप पत्थर से जेब भर रखना।।

दुश्मनों पर नज़र रहे लेकिन।
दोस्तों की भी कुछ ख़बर रखना।।

नोंच लेना क़बायें जिस्मों से।
और चादर मज़ार पर रखना।।

कर ना डाले अदब की रूह घायल।
तेरा ग़जलें इधर उधर रखना।।

——–√अशफ़ाक़ रशीद“

350 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विरह
विरह
नवीन जोशी 'नवल'
"साजन लगा ना गुलाल"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
सफल लोगों की अच्छी आदतें
सफल लोगों की अच्छी आदतें
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
*माता हीराबेन (कुंडलिया)*
*माता हीराबेन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मनमीत मेरे तुम हो
मनमीत मेरे तुम हो
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
ठग विद्या, कोयल, सवर्ण और श्रमण / मुसाफ़िर बैठा
ठग विद्या, कोयल, सवर्ण और श्रमण / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
बचपन खो गया....
बचपन खो गया....
Ashish shukla
मौन जीव के ज्ञान को, देता  अर्थ विशाल ।
मौन जीव के ज्ञान को, देता अर्थ विशाल ।
sushil sarna
शासन हो तो ऐसा
शासन हो तो ऐसा
जय लगन कुमार हैप्पी
विश्वास की मंजिल
विश्वास की मंजिल
Buddha Prakash
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■ बड़े काम की बात।।
■ बड़े काम की बात।।
*Author प्रणय प्रभात*
चिन्तन का आकाश
चिन्तन का आकाश
Dr. Kishan tandon kranti
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
💐प्रेम कौतुक-334💐
💐प्रेम कौतुक-334💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मित्रता
मित्रता
Shashi kala vyas
शुभ रात्रि मित्रों
शुभ रात्रि मित्रों
आर.एस. 'प्रीतम'
" बेदर्द ज़माना "
Chunnu Lal Gupta
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
** चीड़ के प्रसून **
** चीड़ के प्रसून **
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
कुछ समय पहले
कुछ समय पहले
Shakil Alam
लटकते ताले
लटकते ताले
Kanchan Khanna
* हो जाता ओझल *
* हो जाता ओझल *
surenderpal vaidya
भक्त कवि श्रीजयदेव
भक्त कवि श्रीजयदेव
Pravesh Shinde
कुपमंडुक
कुपमंडुक
Rajeev Dutta
अब तक मुकम्मल नहीं हो सका आसमां,
अब तक मुकम्मल नहीं हो सका आसमां,
Anil Mishra Prahari
पहले पता है चले की अपना कोन है....
पहले पता है चले की अपना कोन है....
कवि दीपक बवेजा
प्रेम पथिक
प्रेम पथिक
Aman Kumar Holy
3000.*पूर्णिका*
3000.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...