Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2023 · 1 min read

दुश्मनी इस तरह निभायेगा ।

दुश्मनी इस तरह निभायेगा ।
वो तेरी हाँ में हाँ मिलायेगा ।।

पहचान उसको तू न पायेगा ।
वो तुझे मात दे ही जायेगा ।।

कर गई घर जो दूरियाँ दिल में ।
फ़ासले कैसे तू मिटायेगा ।।

टूट जायेगा कांच की मानिंद ।
दिल किसी से अगर लगायेगा ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
7 Likes · 497 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
कर ले प्यार हरि से
कर ले प्यार हरि से
Satish Srijan
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
शून्य से अनंत
शून्य से अनंत
The_dk_poetry
“हिचकी
“हिचकी " शब्द यादगार बनकर रह गए हैं ,
Manju sagar
गीत
गीत
जगदीश शर्मा सहज
🙅देखा ख़तरा, भागे सतरा (17)
🙅देखा ख़तरा, भागे सतरा (17)
*Author प्रणय प्रभात*
!! रे, मन !!
!! रे, मन !!
Chunnu Lal Gupta
जय श्री कृष्ण
जय श्री कृष्ण
Bodhisatva kastooriya
हमने भी ज़िंदगी को
हमने भी ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
"चक्र"
Dr. Kishan tandon kranti
2667.*पूर्णिका*
2667.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
🌹मेरे जज़्बात, मेरे अल्फ़ाज़🌹
🌹मेरे जज़्बात, मेरे अल्फ़ाज़🌹
Dr Shweta sood
दोहे... चापलूस
दोहे... चापलूस
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
गलतियों को स्वीकार कर सुधार कर लेना ही सर्वोत्तम विकल्प है।
गलतियों को स्वीकार कर सुधार कर लेना ही सर्वोत्तम विकल्प है।
Paras Nath Jha
दिखाओ लार मनैं मेळो, ओ मारा प्यारा बालम जी
दिखाओ लार मनैं मेळो, ओ मारा प्यारा बालम जी
gurudeenverma198
करगिल विजय दिवस
करगिल विजय दिवस
Neeraj Agarwal
मैं चाहती हूँ
मैं चाहती हूँ
Shweta Soni
गांधी जी का चौथा बंदर
गांधी जी का चौथा बंदर
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
व्यथित ह्रदय
व्यथित ह्रदय
कवि अनिल कुमार पँचोली
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
Shashi Dhar Kumar
कहीं  पानी  ने  क़हर  ढाया......
कहीं पानी ने क़हर ढाया......
shabina. Naaz
जुबां
जुबां
Sanjay ' शून्य'
अभी दिल भरा नही
अभी दिल भरा नही
Ram Krishan Rastogi
माटी
माटी
AMRESH KUMAR VERMA
फादर्स डे
फादर्स डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मोहब्बत का पहला एहसास
मोहब्बत का पहला एहसास
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
समसामायिक दोहे
समसामायिक दोहे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*आए जब से राम हैं, चारों ओर वसंत (कुंडलिया)*
*आए जब से राम हैं, चारों ओर वसंत (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
शिक्षक
शिक्षक
Mukesh Kumar Sonkar
हुई नैन की नैन से,
हुई नैन की नैन से,
sushil sarna
Loading...