Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Nov 2022 · 2 min read

दुर्योधन कब मिट पाया :भाग:41

=====
दुर्योधन ने अपने अनुभव पर आधारित जब इस सत्य का उद्घाटन किया कि अश्वत्थामा द्वारा लाए गए वो पांच कटे हुए नर मुंड पांडवों के नहीं है, तब अश्वत्थामा को ये समझने में देर नहीं लगी कि वो पाँच कटे हुए नरमुंड पांडवों के पुत्रों के हैं। इस तथ्य के उदघाटन होने पर एक पल को तो अश्वत्थामा घबड़ा जाता है, परंतु अगले ही क्षण उसे ये बात धीरे धीरे समझ में आने लगती है कि भूल उससे नहीं अपितु उन पांडवों से हुई थी जिन्होंने अश्वत्थामा जैसे प्रबल शत्रु को हल्के में ले लिया था। भले हीं अश्वत्थामा के द्वारा भूल चूक से पांडवों के स्थान पर उनके पुत्रों का वध उसके हाथों से हो गया था , लेकिन उसके लिए ये अनपेक्षित और अप्रत्याशित फल था जिसकी उसने कल्पना भी नहीं की थी। प्रस्तुत है मेरी कविता “दुर्योधन कब मिट पाया का इकतालिसवां भाग।
=====
मृदु मस्तक पांडव के कैसे,
इस भांति हो सकते हैं?
नहीं किसी योद्धासम दृष्टित्,
तरुण तुल्य हीं दीखते हैं।
=====
आसां ना संधान लक्ष्य हे,
सुनो शूर हे रजनी नाथ,
अरिशीर्ष ना हैं निश्चित हीं,
ले आए जो अपने साथ।
=====
संशय के वो क्षण थे कतिपय ,
कूत मात्र ना बिना आधार ,
स्वअनुभव प्रत्यक्ष आधारित,
उदित मात्र ना वहम विचार।
=====
दुर्योधन का कथन सत्य था,
वही तथ्य था सत्यापित।
शत्रु का ना हनन हुआ निज,
भाग्य अन्यतस्त्य स्थापित।
=====
द्रोण पुत्र को ज्ञात हुआ जब,
उछल पड़ा था भू पर ऐसे ,
जैसे आन पड़ी विद्युत हो,
उसके हीं मस्तक पर जैसे।
=====
क्षण को पैरों के नीचे की
अवनि कंपित जान पड़ी ,
दिग दृष्टित निजअक्षों के जो,
शंकित शंकित भान पड़ी।
=====
यत्किंचित पांडव जीवन में
कतिपय भाग्य प्रबल होंगे,
या उसके हीं कर्मों के फल,
दोष गहन सबल होंगे।
=====
या उसकी प्रज्ञा को घेरे,
प्रतिशोध की ज्वाला थी,
लक्ष्यभेद ना कर पाया था,
किस्मत में विष प्याला थी।
=====
ऐसी भूल हुई थी उससे ,
क्षण को ना विश्वास हुआ,
भूल चूक सी लगती थी,
दोष बोध अभिज्ञात हुआ।
=====
पलभर को हताश हुआ था,
पर संभला अगले पल में ,
जो कल्पित भी ना कर पाया,
प्राप्त हुआ उसको फल में।
=====
धर्मराज ने उस क्षण कैसे,
छल का था व्यापार किया,
सही हुआ वो जिंदा है ना,
सरल मरण संहार हुआ।
=====
पिता नहीं तो पुत्र सही,
उनके दुष्कर्म फलित होंगे,
कर्म फलन तो होना था पर,
ज्ञात नहीं त्वरित होंगे।
=====
अजय अमिताभ सुमन:
सर्वाधिकार सुरक्षित
=====

157 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* चान्दनी में मन *
* चान्दनी में मन *
surenderpal vaidya
*बारिश का मौसम है प्यारा (बाल कविता)*
*बारिश का मौसम है प्यारा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मोहब्बत बनी आफत
मोहब्बत बनी आफत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
🙏🙏श्री गणेश वंदना🙏🙏
🙏🙏श्री गणेश वंदना🙏🙏
umesh mehra
If you do things the same way you've always done them, you'l
If you do things the same way you've always done them, you'l
Vipin Singh
आदमी की गाथा
आदमी की गाथा
कृष्ण मलिक अम्बाला
फिर मिलेंगें
फिर मिलेंगें
साहित्य गौरव
2719.*पूर्णिका*
2719.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*अज्ञानी की मन गण्ड़त*
*अज्ञानी की मन गण्ड़त*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
मन मुकुर
मन मुकुर
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
औरत
औरत
Shweta Soni
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
हर एक नागरिक को अपना, सर्वश्रेष्ठ देना होगा
हर एक नागरिक को अपना, सर्वश्रेष्ठ देना होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ आज का आखिरी शेर।
■ आज का आखिरी शेर।
*प्रणय प्रभात*
सजा दे ना आंगन फूल से रे माली
सजा दे ना आंगन फूल से रे माली
Basant Bhagawan Roy
"मुश्किल है मिलना"
Dr. Kishan tandon kranti
दान
दान
Neeraj Agarwal
उत्तंग पर्वत , गहरा सागर , समतल मैदान , टेढ़ी-मेढ़ी नदियांँ , घने वन ।
उत्तंग पर्वत , गहरा सागर , समतल मैदान , टेढ़ी-मेढ़ी नदियांँ , घने वन ।
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
विभजन
विभजन
Bodhisatva kastooriya
पिता की याद।
पिता की याद।
Kuldeep mishra (KD)
जो बातें अनुकूल नहीं थीं
जो बातें अनुकूल नहीं थीं
Suryakant Dwivedi
प्रणय
प्रणय
Neelam Sharma
पाप का भागी
पाप का भागी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मजबूत रिश्ता
मजबूत रिश्ता
Buddha Prakash
#शीर्षक;-ले लो निज अंक मॉं
#शीर्षक;-ले लो निज अंक मॉं
Pratibha Pandey
परिभाषा संसार की,
परिभाषा संसार की,
sushil sarna
मृत्यु संबंध की
मृत्यु संबंध की
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नीर
नीर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
चरित्र अगर कपड़ों से तय होता,
चरित्र अगर कपड़ों से तय होता,
Sandeep Kumar
Loading...