Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2023 · 3 min read

“दुमका दर्पण” (संस्मरण -प्राइमेरी स्कूल-1958)

डॉ लक्ष्मण झा परिमल
=========================
दुमका एक छोटा शहर पहाड़ियों के बीच जंगलों से घिरा बड़ा ही मनोरम स्थान माना जाता था ! लोग एक दूसरे को जानते और पहचानते थे ! किसी अजनबी को अपनी मंज़िल तक पहुँचाने में यहाँ के लोग निपुण थे ! कोई पत्र के पते पर यदि सिर्फ नाम और दुमका लिखा होता था तो डाकिया उसके गंतव्य स्थान पर पहुँचा देते थे ! उन दिनों जिला नगरपालिका की ओर से कुछ प्राथमिक स्कूल खोले गए थे जिन्हें तत्कालीन अविभाजित बिहार राज्य से वित्तीय अनुदान भी दिये जाते थे ! दुमका शहर में –
1 “धोबिया स्कूल”,
2 मोनी स्कूल,
3 करहलबिल स्कूल,
4 मोचीपाड़ा स्कूल ,
5 बेसिक स्कूल,
6 करहलबिल स्कूल और
7 हटिया स्कूल थे !
लोगों में पढ़ने और पढ़ाने की अभिरुचि के अभाव में बच्चे बहुत कम दाखिला लेते थे ! जागरूकता के आभाव में लड़कियाँ पूरे क्लास में एक या दो ही मिलतीं थीं !
1958 में मैंने “हटिया स्कूल” में दाखिला लिया ! यह स्कूल मुख्य दुमका के मध्य मे स्थित था ! कहचरी ,प्रशासन और दुमका नगरपालिका के बीचों -बीच यह स्कूल था ! कच्ची मिट्टी की दीवार और मिट्टी के खपड़े से इसका निर्माण किया गया था ! जमीन मिट्टी की थी ! हमलोग जमीन पर ही बैठते थे ! उस समय तीन ही कमरे थे ! दो क्लास एक साथ बैठ जाता था ! हमारे हेड्मास्टर श्री अनंत लाल झा थे और तीन शिक्षक एक श्री महेश कान्त झा और दो और थे ! क्लास रूम में एक कुर्सी और एक टेबल सिर्फ शिक्षक के लिए था और सब विद्यार्थी जमीन पर बैठते थे ! हरेक शनिवार को क्लास के विद्यार्थी गाय के गोबर से सारे क्लास की लिपाई करते थे ! लड़कियाँ लिपाई करतीं थीं ! लड़के गोबर इकठ्ठा करते और दूर से पानी बाल्टी में भर कर लाते थे !
विजली नहीं होने के कारण गर्मिओं में हरेक बच्चों की ड्यूटी लगती थी ! शिक्षक के पढ़ाने के समय एक विद्यार्थी को अपने शिक्षक को पंखा झेलना पड़ता था ! यदि कोई लड़का थक जाता था तो दूसरा लड़का उसका स्थान लेता था ! पानी पीने के लिए दूर कुएं से पानी लाना पड़ता था ! स्कूल में मिट्टी के मटके रखे रहते थे ! टॉइलेट हमारे स्कूल में नहीं था ! हमें स्कूल से निकलकर दूर जाना पड़ता था ! जो नजदीक के बच्चे होते थे वे हाफ टाइम में अपने घर कुछ खा कर आ जाते थे ! मैं तो 2.5 किलोमीटर दूर से आता था ! मेरे पिता जी कुछ लेकर आ जाते थे ! स्कूल बैग के बिना ही सब स्कूल आते थे ! अपने -अपने हाथों में किताब और कॉपी साथ लाते थे !
हरेक शनिवार को अपने गुरुजी के लिए शनीचरा लाना पड़ता था ! अधिकाशतः एक दो पैसा हुआ करता था ! गुरुदेव को शनीचरा मिलने से बच्चों का ग्रह मिट जाता था अन्यथा समयानुकूल नहीं देने वाले छात्रों को उनके गलतिओं पर छड़ी की मार अधिक झेलनी पड़ती थी ! जान बूझकर स्कूल नहीं जाने पर गुरु जी चार – पाँच हट्टे -कठठ् लड़कों को उसके घर भेज कर उसे उठाकर लाते थे ! एक बार 1960 में मैं बहुत जोर से बीमार पड़ गया था ! स्कूल के अधिकांश बच्चे मुझे देखने आए साथ- साथ शिक्षकगण भी आए !
80 के दशक के बाद हमार दुमका निरंतर अपनी बुलंदिओं को छूता चला गया ! गवर्नमेंट स्कूल ,प्राइवेट इंग्लिश मिडियम स्कूल ,कॉलेज ,यूनिवर्सिटी ,मेडिकल कॉलेज ,इंजीनियरिंग कॉलेज ,डिप्लोमा इंजीनियरिंग पाली टेकनीक,सड़क,विजली ,पानी इत्यादि से परिपूर्ण होता गया परंतु अपनापन नहीं रह सका !
========================
डॉ लक्ष्मण झा “ परिमल “
साउंड हेल्थ क्लिनिक
एस ० पी ० कॉलेज रोड
दुमका
झारखंड
भारत
15.08.2023

Language: Hindi
137 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
‘बेटी की विदाई’
‘बेटी की विदाई’
पंकज कुमार कर्ण
नीम करोरी वारे बाबा की, महिमा बडी अनन्त।
नीम करोरी वारे बाबा की, महिमा बडी अनन्त।
Omprakash Sharma
ज़िंदगी थी कहां
ज़िंदगी थी कहां
Dr fauzia Naseem shad
तेरे गम का सफर
तेरे गम का सफर
Rajeev Dutta
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Manisha Manjari
विश्व पुस्तक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।।
विश्व पुस्तक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
रिश्ते
रिश्ते
Sanjay ' शून्य'
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
महान् बनना सरल है
महान् बनना सरल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी द्वारा
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी द्वारा
Dr Archana Gupta
2971.*पूर्णिका*
2971.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
माँ सच्ची संवेदना, माँ कोमल अहसास।
माँ सच्ची संवेदना, माँ कोमल अहसास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कहा किसी ने
कहा किसी ने
Surinder blackpen
प्रकृति के आगे विज्ञान फेल
प्रकृति के आगे विज्ञान फेल
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
सभी लालच लिए हँसते बुराई पर रुलाती है
सभी लालच लिए हँसते बुराई पर रुलाती है
आर.एस. 'प्रीतम'
" अकेलापन की तड़प"
Pushpraj Anant
कहते हैं मृत्यु ही एक तय सत्य है,
कहते हैं मृत्यु ही एक तय सत्य है,
पूर्वार्थ
चाहते नहीं अब जिंदगी को, करना दुःखी नहीं हरगिज
चाहते नहीं अब जिंदगी को, करना दुःखी नहीं हरगिज
gurudeenverma198
फितरत है इंसान की
फितरत है इंसान की
आकाश महेशपुरी
नशा
नशा
Mamta Rani
"अनुवाद"
Dr. Kishan tandon kranti
हम जियें  या मरें  तुम्हें क्या फर्क है
हम जियें या मरें तुम्हें क्या फर्क है
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
उस दिन पर लानत भेजता  हूं,
उस दिन पर लानत भेजता हूं,
Vishal babu (vishu)
चोट
चोट
आकांक्षा राय
वक़्त आने पर, बेमुरव्वत निकले,
वक़्त आने पर, बेमुरव्वत निकले,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*राममय हुई रामपुर रजा लाइब्रेरी*
*राममय हुई रामपुर रजा लाइब्रेरी*
Ravi Prakash
मनुष्य जीवन - एक अनसुलझा यक्ष प्रश्न
मनुष्य जीवन - एक अनसुलझा यक्ष प्रश्न
Shyam Sundar Subramanian
मोहब्बत के लिए गुलकारियां दोनों तरफ से है। झगड़ने को मगर तैयारियां दोनों तरफ से। ❤️ नुमाइश के लिए अब गुफ्तगू होती है मिलने पर। मगर अंदर से तो बेजारियां दोनो तरफ से हैं। ❤️
मोहब्बत के लिए गुलकारियां दोनों तरफ से है। झगड़ने को मगर तैयारियां दोनों तरफ से। ❤️ नुमाइश के लिए अब गुफ्तगू होती है मिलने पर। मगर अंदर से तो बेजारियां दोनो तरफ से हैं। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दीप में कोई ज्योति रखना
दीप में कोई ज्योति रखना
Shweta Soni
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## आते रदीफ़ ## रहे
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## आते रदीफ़ ## रहे
Neelam Sharma
Loading...