Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Sep 2022 · 1 min read

दुनिया एक मेला है

सुना है हमने दुनिया एक मेला है
तो हर आदमी दिखता क्यों अकेला है
भला कैसे ये दुनिया एक मेला है
सुना है हमने……………………..
लोग भीड़ में भी अकेले नजर आते हैं
तो फिर क्यों ये महफिलें सजाते हैं
सुना है हमने……………………..
हर तरफ प्यार मोहब्बत का फ़साना है
फिर भी हर आदमी क्यों दिवाना है
सुना है हमने……………………..
यह तेरा,यह मेरा,यह उसका हमसफर है
फिर भी अकेला ही क्यों रहगुजर है
सुना है हमने…………..………….
मिल बैठकर यूँ तो सभी ठहाके लगाते है
मगर चेहरे यूँ उड़े-उड़े नजर आते हैं
सुना है हमने……………………..
‘विनोद’ खुदा ने दुनिया ये अजब बनाई है
लगे हैं मेले फिर जाने कैसी तन्हाई है
सुना है हमने……………………..

स्वरचित
( विनोद चौहान )

Language: Hindi
4 Likes · 198 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
🌼एकांत🌼
🌼एकांत🌼
ruby kumari
तिरंगा
तिरंगा
Satish Srijan
* हिन्दी को ही *
* हिन्दी को ही *
surenderpal vaidya
भूल कर
भूल कर
Dr fauzia Naseem shad
3261.*पूर्णिका*
3261.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
टमाटर का जलवा ( हास्य -रचना )
टमाटर का जलवा ( हास्य -रचना )
Dr. Harvinder Singh Bakshi
स्मृतियाँ  है प्रकाशित हमारे निलय में,
स्मृतियाँ है प्रकाशित हमारे निलय में,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
- मोहब्बत महंगी और फरेब धोखे सस्ते हो गए -
- मोहब्बत महंगी और फरेब धोखे सस्ते हो गए -
bharat gehlot
मैं जिंदगी हूं।
मैं जिंदगी हूं।
Taj Mohammad
12- अब घर आ जा लल्ला
12- अब घर आ जा लल्ला
Ajay Kumar Vimal
सावन और स्वार्थी शाकाहारी भक्त
सावन और स्वार्थी शाकाहारी भक्त
Dr MusafiR BaithA
कविता :- दुःख तो बहुत है मगर.. (विश्व कप क्रिकेट में पराजय पर)
कविता :- दुःख तो बहुत है मगर.. (विश्व कप क्रिकेट में पराजय पर)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अभिव्यक्ति - मानवीय सम्बन्ध, सांस्कृतिक विविधता, और सामाजिक परिवर्तन का स्रोत
अभिव्यक्ति - मानवीय सम्बन्ध, सांस्कृतिक विविधता, और सामाजिक परिवर्तन का स्रोत" - भाग- 01 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
डॉ. अम्बेडकर ने ऐसे लड़ा प्रथम चुनाव
डॉ. अम्बेडकर ने ऐसे लड़ा प्रथम चुनाव
कवि रमेशराज
हे पिता
हे पिता
अनिल मिश्र
साथ जब चाहा था
साथ जब चाहा था
Ranjana Verma
वो आया इस तरह से मेरे हिज़ार में।
वो आया इस तरह से मेरे हिज़ार में।
Phool gufran
नववर्ष।
नववर्ष।
Manisha Manjari
क्या बचा  है अब बदहवास जिंदगी के लिए
क्या बचा है अब बदहवास जिंदगी के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*जाड़े की भोर*
*जाड़े की भोर*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मिलना हम मिलने आएंगे होली में।
मिलना हम मिलने आएंगे होली में।
सत्य कुमार प्रेमी
*गाते हैं जो गीत तेरे वंदनीय भारत मॉं (घनाक्षरी: सिंह विलोकि
*गाते हैं जो गीत तेरे वंदनीय भारत मॉं (घनाक्षरी: सिंह विलोकि
Ravi Prakash
इबादत
इबादत
Dr.Priya Soni Khare
बखान गुरु महिमा की,
बखान गुरु महिमा की,
Yogendra Chaturwedi
तो क्या हुआ
तो क्या हुआ
Sûrëkhâ Rãthí
"किसी की नज़र ना लगे"
Dr. Kishan tandon kranti
“SUPER HERO(महानायक) OF FACEBOOK ”
“SUPER HERO(महानायक) OF FACEBOOK ”
DrLakshman Jha Parimal
बिल्ले राम
बिल्ले राम
Kanchan Khanna
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
Rj Anand Prajapati
Loading...