Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 1 min read

दुआएं

दुआएं
मिल जाती हैं
फकीर की
तो
सुकून मिलता है
वर्ना
ज़िन्दगी तो
उतनी ही है
जितनी
दी है
मौला ने

120 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
👌👌👌
👌👌👌
*प्रणय प्रभात*
पूर्वोत्तर का दर्द ( कहानी संग्रह) समीक्षा
पूर्वोत्तर का दर्द ( कहानी संग्रह) समीक्षा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दुःख  से
दुःख से
Shweta Soni
समर्पण
समर्पण
Sanjay ' शून्य'
गुब्बारे की तरह नहीं, फूल की तरह फूलना।
गुब्बारे की तरह नहीं, फूल की तरह फूलना।
निशांत 'शीलराज'
ऋतु गर्मी की आ गई,
ऋतु गर्मी की आ गई,
Vedha Singh
!.........!
!.........!
शेखर सिंह
अहंकार
अहंकार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कितना रोका था ख़ुद को
कितना रोका था ख़ुद को
हिमांशु Kulshrestha
नव वर्ष हैप्पी वाला
नव वर्ष हैप्पी वाला
Satish Srijan
कदम रखूं ज्यों शिखर पर
कदम रखूं ज्यों शिखर पर
Divya Mishra
खुद के होते हुए भी
खुद के होते हुए भी
Dr fauzia Naseem shad
"संवाद"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़़ज़ल
ग़़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
*रामपुर के राजा रामसिंह (नाटक)*
*रामपुर के राजा रामसिंह (नाटक)*
Ravi Prakash
बेटियां
बेटियां
Mukesh Kumar Sonkar
कदीमी याद
कदीमी याद
Sangeeta Beniwal
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
लक्ष्मी सिंह
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बीता जहाँ बचप
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बीता जहाँ बचप
Shubham Pandey (S P)
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
यादों के बादल
यादों के बादल
singh kunwar sarvendra vikram
चाँद खिलौना
चाँद खिलौना
SHAILESH MOHAN
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
सिद्धार्थ गोरखपुरी
छुड़ा नहीं सकती मुझसे दामन कभी तू
छुड़ा नहीं सकती मुझसे दामन कभी तू
gurudeenverma198
यूनिवर्सल सिविल कोड
यूनिवर्सल सिविल कोड
Dr. Harvinder Singh Bakshi
एक गलत निर्णय हमारे वजूद को
एक गलत निर्णय हमारे वजूद को
Anil Mishra Prahari
गुरु महाराज के श्री चरणों में, कोटि कोटि प्रणाम है
गुरु महाराज के श्री चरणों में, कोटि कोटि प्रणाम है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
2767. *पूर्णिका*
2767. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अच्छा लगने लगा है !!
अच्छा लगने लगा है !!
गुप्तरत्न
Loading...