Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2022 · 1 min read

दुःख का कारण

सुख की अपेक्षा होती है जिनसे ।
दुःख का कारण बन जाते हैं ।।
जीवन समर्पण होता है जिनका ।
जग में उदाहरण बन जाते हैं ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
15 Likes · 193 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
स्याही की मुझे जरूरत नही
स्याही की मुझे जरूरत नही
Aarti sirsat
नेह का दीपक
नेह का दीपक
Arti Bhadauria
यूँ मोम सा हौसला लेकर तुम क्या जंग जित जाओगे?
यूँ मोम सा हौसला लेकर तुम क्या जंग जित जाओगे?
'अशांत' शेखर
धरती करें पुकार
धरती करें पुकार
नूरफातिमा खातून नूरी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गाथा हिन्दी की
गाथा हिन्दी की
तरुण सिंह पवार
💐प्रेम कौतुक-239💐
💐प्रेम कौतुक-239💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरा चुप रहना मेरे जेहन मै क्या बैठ गया
मेरा चुप रहना मेरे जेहन मै क्या बैठ गया
पूर्वार्थ
प्रेम का दरबार
प्रेम का दरबार
Dr.Priya Soni Khare
कमी नहीं थी___
कमी नहीं थी___
Rajesh vyas
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
Basant Bhagwan Roy
जगमगाती चाँदनी है इस शहर में
जगमगाती चाँदनी है इस शहर में
Dr Archana Gupta
जो हर पल याद आएगा
जो हर पल याद आएगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आनंद में सरगम..
आनंद में सरगम..
Vijay kumar Pandey
खो गई जो किर्ति भारत की उसे वापस दिला दो।
खो गई जो किर्ति भारत की उसे वापस दिला दो।
Prabhu Nath Chaturvedi
*जीवन में जब कठिन समय से गुजर रहे हो,जब मन बैचेन अशांत हो गय
*जीवन में जब कठिन समय से गुजर रहे हो,जब मन बैचेन अशांत हो गय
Shashi kala vyas
"सच का टुकड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
दवा के ठाँव में
दवा के ठाँव में
Dr. Sunita Singh
*उलझनें हर रोज आएँगी डराने के लिए【 मुक्तक】*
*उलझनें हर रोज आएँगी डराने के लिए【 मुक्तक】*
Ravi Prakash
वो घर घर नहीं होते जहां दीवार-ओ-दर नहीं होती,
वो घर घर नहीं होते जहां दीवार-ओ-दर नहीं होती,
डी. के. निवातिया
आप मे आपका नहीं कुछ भी
आप मे आपका नहीं कुछ भी
Dr fauzia Naseem shad
गीतिका...
गीतिका...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
*सूनी माँग* पार्ट-1 - कहानी लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत, गुजरात।
*सूनी माँग* पार्ट-1 - कहानी लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत, गुजरात।
Radhakishan Mundhra
■ कन्फेशन
■ कन्फेशन
*Author प्रणय प्रभात*
दंगा पीड़ित कविता
दंगा पीड़ित कविता
Shyam Pandey
Yado par kbhi kaha pahra hota h.
Yado par kbhi kaha pahra hota h.
Sakshi Tripathi
इस मुद्दे पर ना खुलवाओ मुंह मेरा
इस मुद्दे पर ना खुलवाओ मुंह मेरा
कवि दीपक बवेजा
जिंदगी में ऐसा इंसान का होना बहुत ज़रूरी है,
जिंदगी में ऐसा इंसान का होना बहुत ज़रूरी है,
Mukesh Jeevanand
जब-जब तानाशाह डरता है
जब-जब तानाशाह डरता है
Shekhar Chandra Mitra
Loading...