Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jan 2024 · 1 min read

*दीवाली मनाएंगे*

दीवाली मनाएंगे
प्रभु श्रीराम फिर से अयोध्या आएंगे,
हम सेवक राम के
अपने-अपने घर को सजाएंगे।
मंगल कलश भर अक्षत
मिल मिलकर मंगल गीत गाएंगे,
प्रभु राम फिर से अयोध्या आएंगे।।
पूज्य पूज्यनीय संत महात्मा
पवन अयोध्या धाम जाएंगे
वैदिक वेदों कर मंत्र जाप से
राम विग्रह की प्राण प्रतिष्ठा कराएंगे,
प्रभु राम फिर से अयोध्या आएंगे।।
दीपक बाती घी भरकर,
रामदीप घर-घर जलाएंगे,
सत्य सनातन धर्म है हमारा,
भगवा ध्वजा लहराएंगे,
प्रभु राम फिर से अयोध्या आएंगे।।
राम आगमन के खुशियों की घड़ियां,
मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम हमारे,
हिंदू हिंदवासी सब सेवक उनके,
जगमग जगमग दीप जलाएंगे,
प्रभु श्रीराम फिर से अयोध्या आएंगे।।
मंगल भवन अमंगल हारी,
द्रवहु सो दशरथ अजर बिहारी,
भारत मां के आंगन में यह गाएंगे,
अब साल में दो बार दिवाली मनाएंगे,
प्रभु श्री राम फिर से अयोध्या आएंगे।।
सीमा गुप्ता,अलवर राजस्थान

Language: Hindi
3 Likes · 94 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कूल नानी
कूल नानी
Neelam Sharma
*सजा- ए – मोहब्बत *
*सजा- ए – मोहब्बत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
!! सुविचार !!
!! सुविचार !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
नवजात बहू (लघुकथा)
नवजात बहू (लघुकथा)
दुष्यन्त 'बाबा'
प्रियवर
प्रियवर
लक्ष्मी सिंह
"तापमान"
Dr. Kishan tandon kranti
क़भी क़भी इंसान अपने अतीत से बाहर आ जाता है
क़भी क़भी इंसान अपने अतीत से बाहर आ जाता है
ruby kumari
प्रभु राम मेरे सपने मे आये संग मे सीता माँ को लाये
प्रभु राम मेरे सपने मे आये संग मे सीता माँ को लाये
Satyaveer vaishnav
मृत्युभोज
मृत्युभोज
अशोक कुमार ढोरिया
औरत बुद्ध नहीं हो सकती
औरत बुद्ध नहीं हो सकती
Surinder blackpen
नए साल की मुबारक
नए साल की मुबारक
भरत कुमार सोलंकी
*मनुष्य जब मरता है तब उसका कमाया हुआ धन घर में ही रह जाता है
*मनुष्य जब मरता है तब उसका कमाया हुआ धन घर में ही रह जाता है
Shashi kala vyas
2845.*पूर्णिका*
2845.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सब तो उधार का
सब तो उधार का
Jitendra kumar
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
अनिल कुमार
आये हो मिलने तुम,जब ऐसा हुआ
आये हो मिलने तुम,जब ऐसा हुआ
gurudeenverma198
■ अद्भुत, अद्वितीय, अकल्पनीय
■ अद्भुत, अद्वितीय, अकल्पनीय
*Author प्रणय प्रभात*
मंदिर बनगो रे
मंदिर बनगो रे
Sandeep Pande
🚩एकांत महान
🚩एकांत महान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बाबागिरी
बाबागिरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
22)”शुभ नवरात्रि”
22)”शुभ नवरात्रि”
Sapna Arora
कन्हैया आओ भादों में (भक्ति गीतिका)
कन्हैया आओ भादों में (भक्ति गीतिका)
Ravi Prakash
संस्कारी बड़ी - बड़ी बातें करना अच्छी बात है, इनको जीवन में
संस्कारी बड़ी - बड़ी बातें करना अच्छी बात है, इनको जीवन में
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
क्या खोकर ग़म मनाऊ, किसे पाकर नाज़ करूँ मैं,
क्या खोकर ग़म मनाऊ, किसे पाकर नाज़ करूँ मैं,
Chandrakant Sahu
रूप जिसका आयतन है, नेत्र जिसका लोक है
रूप जिसका आयतन है, नेत्र जिसका लोक है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जो घर जारै आपनो
जो घर जारै आपनो
Dr MusafiR BaithA
विश्वकप-2023
विश्वकप-2023
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
// अमर शहीद चन्द्रशेखर आज़ाद //
// अमर शहीद चन्द्रशेखर आज़ाद //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उसकी वो बातें बेहद याद आती है
उसकी वो बातें बेहद याद आती है
Rekha khichi
कहो तुम बात खुलकर के ,नहीं कुछ भी छुपाओ तुम !
कहो तुम बात खुलकर के ,नहीं कुछ भी छुपाओ तुम !
DrLakshman Jha Parimal
Loading...