Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2022 · 1 min read

दीप बनकर जलो तुम

* गीतिका *
~~
तमस है घना दीप बनकर जलो तुम।
कभी मत रुको राह चलते चलो तुम।

कभी आंख में आ गये अश्रु गम के।
कहो शीघ्र उनसे खुशी में ढलो तुम।

बहारें कभी आपसे रूठ जाएं।
चलो पतझडों में ही फूलो फलो तुम।

हमेशा दिलों में बनाई जगह जब।
नहीं अब किसी भी नजर में खलो तुम।

तजो दंभ आगे हमेशा रहो अब।
कभी सख्त वातावरण में पलो तुम।

बहो अश्रु बनकर मुहब्बत जगाओ।
हिमालय बनो हिमनदी सम गलो तुम।

लहर उठ रही सिंधु में खूब ऊंची।
विजय सामने दुश्मनों को दलो तुम।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, २३/०९/२०२२

4 Likes · 1 Comment · 68 Views
You may also like:
कर्मण्य के प्रेरक विचार
Shyam Pandey
हमारा तिरंगा
ओनिका सेतिया 'अनु '
एक टीस रह गई मन में
Shekhar Chandra Mitra
धूप
Rekha Drolia
■ दोहा / प्रभात चिंतन
*Author प्रणय प्रभात*
💐अशान्ति: अवश्यमेव नष्ट: भविष्यति,कदा??💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Writing Challenge- कल्पना (Imagination)
Sahityapedia
पहली दफा
जय लगन कुमार हैप्पी
मुक्ती
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
कृष्ण काव्य धारा एव हिंदी साहित्य
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कितना आंखों ने
Dr fauzia Naseem shad
A Departed Soul Can Never Come Again
Manisha Manjari
“ हम महान बनने की चाहत में लोगों से दूर...
DrLakshman Jha Parimal
आस और विश्वास।
लक्ष्मी सिंह
प्रकृति का उपहार- इंद्रधनुष
Shyam Sundar Subramanian
✍️जिंदगी के अस्ल✍️
'अशांत' शेखर
गजल_कौन अब इस जमीन पर खून से लिखेगा गजल
Arun Prasad
*राम ने रावण मारा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Aksharjeet shayari..अपनी गलतीयों से बहुत कूछ सिखा हैं मैने ...
AK Your Quote Shayari
हम दिल से ना हंसे हैं।
Taj Mohammad
पूनम का चांद
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
हमारी चेतना
Anamika Singh
#Daily writing challenge , सम्मान ___
Manu Vashistha
बोली है अनमोल
जगदीश लववंशी
कमली हुई तेरे प्यार की
Swami Ganganiya
नहीं रहता
shabina. Naaz
घुटने टेके नर, कुत्ती से हीन दिख रहा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आपकी यादों में
Er.Navaneet R Shandily
आखिर कौन हो तुम?
Satish Srijan
शेर
Rajiv Vishal
Loading...