Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2022 · 1 min read

दीप बनकर जलो तुम

* गीतिका *
~~
तमस है घना दीप बनकर जलो तुम।
कभी मत रुको राह चलते चलो तुम।

कभी आंख में आ गये अश्रु गम के।
कहो शीघ्र उनसे खुशी में ढलो तुम।

बहारें कभी आपसे रूठ जाएं।
चलो पतझडों में ही फूलो फलो तुम।

हमेशा दिलों में बनाई जगह जब।
नहीं अब किसी भी नजर में खलो तुम।

तजो दंभ आगे हमेशा रहो अब।
कभी सख्त वातावरण में पलो तुम।

बहो अश्रु बनकर मुहब्बत जगाओ।
हिमालय बनो हिमनदी सम गलो तुम।

लहर उठ रही सिंधु में खूब ऊंची।
विजय सामने दुश्मनों को दलो तुम।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, २३/०९/२०२२

2 Likes · 1 Comment · 23 Views
You may also like:
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
✍️दूरियाँ वो भी सहता है ✍️
Vaishnavi Gupta
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आप हारेंगे हौसला जब भी
Dr fauzia Naseem shad
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
प्रेम रस रिमझिम बरस
श्री रमण 'श्रीपद्'
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
माँ की याद
Meenakshi Nagar
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
गीत
शेख़ जाफ़र खान
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
होती हैं अंतहीन
Dr fauzia Naseem shad
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Dr. Kishan Karigar
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
Loading...