Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Oct 2016 · 1 min read

दीपावली

रौशनी का है त्यौहार दीपावली
करती खुशियों की बौछार दीपावली

दूर कर मन कलुष बाँटती नेह है
प्रीत का देती उपहार दीपावली

साथ मिलकर सभी हैं मनाते इसे
एक करती है परिवार दीपावली

हर जगह सज रही दीपमाला यहाँ
कर रही भू का श्रृंगार दीपावली

दीप मन में ख़ुशी के जलाकर सुनो
हर रही गम का अँधियार दीपावली

चाँद की याद भी आती इस दिन नहीं
जगमगाती यूँ संसार दीपावली

मात लक्ष्मी की करते सभी अर्चना
भरती मन में है संस्कार दीपावली

डॉ अर्चना गुप्ता

3 Likes · 1 Comment · 638 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
सदा प्रसन्न रहें जीवन में, ईश्वर का हो साथ।
सदा प्रसन्न रहें जीवन में, ईश्वर का हो साथ।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दोहे- माँ है सकल जहान
दोहे- माँ है सकल जहान
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Writing Challenge- ईर्ष्या (Envy)
Writing Challenge- ईर्ष्या (Envy)
Sahityapedia
गलतियाँ हो गयीं होंगी
गलतियाँ हो गयीं होंगी
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
"अजीब फलसफा"
Dr. Kishan tandon kranti
वक्त
वक्त
Ramswaroop Dinkar
भर मुझको भुजपाश में, भुला गई हर राह ।
भर मुझको भुजपाश में, भुला गई हर राह ।
Arvind trivedi
_सुविचार_
_सुविचार_
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
The Saga Of That Unforgettable Pain
The Saga Of That Unforgettable Pain
Manisha Manjari
💐प्रेम कौतुक-225💐
💐प्रेम कौतुक-225💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
काश - दीपक नील पदम्
काश - दीपक नील पदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
🚩माँ, हर बचपन का भगवान
🚩माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चाँदनी में नहाती रही रात भर
चाँदनी में नहाती रही रात भर
Dr Archana Gupta
मुक्तक-विन्यास में एक तेवरी
मुक्तक-विन्यास में एक तेवरी
कवि रमेशराज
■ उल्टी गंगा गौमुख को...!
■ उल्टी गंगा गौमुख को...!
*Author प्रणय प्रभात*
जागो जागो तुम सरकार
जागो जागो तुम सरकार
gurudeenverma198
*नेता बूढ़े जब हुए (हास्य कुंडलिया)*
*नेता बूढ़े जब हुए (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
खामोश आवाज़
खामोश आवाज़
Dr. Seema Varma
वस्तु काल्पनिक छोड़कर,
वस्तु काल्पनिक छोड़कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कृष्ण जन्म
कृष्ण जन्म
लक्ष्मी सिंह
उनकी जब ये ज़ेह्न बुराई कर बैठा
उनकी जब ये ज़ेह्न बुराई कर बैठा
Anis Shah
4) धन्य है सफर
4) धन्य है सफर
पूनम झा 'प्रथमा'
गणतंत्र दिवस की बधाई।।
गणतंत्र दिवस की बधाई।।
Rajni kapoor
सदैव खुश रहने की आदत
सदैव खुश रहने की आदत
Paras Nath Jha
नौ फेरे नौ वचन
नौ फेरे नौ वचन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बहुत ख्वाहिश थी ख्वाहिशों को पूरा करने की
बहुत ख्वाहिश थी ख्वाहिशों को पूरा करने की
VINOD CHAUHAN
एक बार फिर ।
एक बार फिर ।
Dhriti Mishra
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
नेताम आर सी
करी लाडू
करी लाडू
Ranjeet kumar patre
दोगलापन
दोगलापन
Mamta Singh Devaa
Loading...