Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Sep 2022 · 1 min read

दिहाड़ी मजदूर

ये दुनिया से हमके
उठावतो नइखअ
अपना लगे हमके
बुलावतो नइखअ…
(१)
का ए भगवान तू
कहां सुतल बाड़
जंजाल से हमके
छुड़ावतो नइखअ…
(२)
भूखाइल परिवार
बाट जोहत होई
कइसे घरे लौटेब
बतावतो नइखअ…
(३)
देखअ सुरूज होदे
अब मुड़ी पर आइल
कवनो काम हमके
दिलावतो नइखअ…
(४)
तू हूं सरकार नीयन
का बेदर्दी भइलअ
मजदूरन के दिनवा
फिरावतो नइखअ…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#दिहाड़ी #मजदूर #बहुजन #बेरोजगार
#आत्महत्या #खुदकुशी #suicide #मौत
#लेबरचौक #गरीब #दलित #आदिवासी

Language: Bhojpuri
236 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर सांझ तुम्हारे आने की आहट सुना करता था
हर सांझ तुम्हारे आने की आहट सुना करता था
इंजी. संजय श्रीवास्तव
माँ को फिक्र बेटे की,
माँ को फिक्र बेटे की,
Harminder Kaur
*सावन में अब की बार
*सावन में अब की बार
Poonam Matia
सत्य, अहिंसा, त्याग, तप, दान, दया की खान।
सत्य, अहिंसा, त्याग, तप, दान, दया की खान।
जगदीश शर्मा सहज
चन्द्रमाँ
चन्द्रमाँ
Sarfaraz Ahmed Aasee
तुम आंखें बंद कर लेना....!
तुम आंखें बंद कर लेना....!
VEDANTA PATEL
वो तेरा है ना तेरा था (सत्य की खोज)
वो तेरा है ना तेरा था (सत्य की खोज)
VINOD CHAUHAN
आओ मिलकर हंसी खुशी संग जीवन शुरुआत करे
आओ मिलकर हंसी खुशी संग जीवन शुरुआत करे
कृष्णकांत गुर्जर
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
विजय कुमार अग्रवाल
*कागभुशुंडी जी नमन, काग-रूप विद्वान (कुछ दोहे)*
*कागभुशुंडी जी नमन, काग-रूप विद्वान (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
आस
आस
Shyam Sundar Subramanian
शोभा वरनि न जाए, अयोध्या धाम की
शोभा वरनि न जाए, अयोध्या धाम की
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फांसी का फंदा भी कम ना था,
फांसी का फंदा भी कम ना था,
Rahul Singh
मिट्टी का बस एक दिया हूँ
मिट्टी का बस एक दिया हूँ
Chunnu Lal Gupta
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
सत्संग संध्या इवेंट
सत्संग संध्या इवेंट
पूर्वार्थ
■ सतनाम वाहे गुरु सतनाम जी।।
■ सतनाम वाहे गुरु सतनाम जी।।
*प्रणय प्रभात*
"मानो या न मानो"
Dr. Kishan tandon kranti
2497.पूर्णिका
2497.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
अनिल कुमार
अनोखे ही साज़ बजते है.!
अनोखे ही साज़ बजते है.!
शेखर सिंह
कभी बारिशों में
कभी बारिशों में
Dr fauzia Naseem shad
हरे खेत खलिहान जहां पर, अब दिखते हैं बंजर,
हरे खेत खलिहान जहां पर, अब दिखते हैं बंजर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
'हाँ
'हाँ" मैं श्रमिक हूँ..!
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कुछ ना लाया
कुछ ना लाया
भरत कुमार सोलंकी
గురు శిష్యుల బంధము
గురు శిష్యుల బంధము
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
ये सुबह खुशियों की पलक झपकते खो जाती हैं,
ये सुबह खुशियों की पलक झपकते खो जाती हैं,
Manisha Manjari
साधना से सिद्धि.....
साधना से सिद्धि.....
Santosh Soni
नयी - नयी लत लगी है तेरी
नयी - नयी लत लगी है तेरी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बचपन
बचपन
लक्ष्मी सिंह
Loading...