Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Oct 2016 · 1 min read

“दिवाली यूं मनाते हैं..”

चलों, इस बार दिवाली कुछ यूं मनाते हैं !
किसी भूखे को भर पेट खाना खिलाते हैं !
ठिठुरता रहता है वो सर्द रातों में बेचारा,
उस बुढे के लिए एक रजाई बनवाते हैं !
तेरा घर तो सदा रोशन ही रहता है,दोस्त
आज कहीं अन्धेरे में कोई दिया जलाते है !
-श्रीभगवान बव्वा

Language: Hindi
213 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from श्रीभगवान बव्वा
View all
You may also like:
दोस्ती
दोस्ती
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
“सत्य वचन”
“सत्य वचन”
Sandeep Kumar
दोहा-
दोहा-
दुष्यन्त बाबा
स्वांग कुली का
स्वांग कुली का
Er. Sanjay Shrivastava
फिर क्यूँ मुझे?
फिर क्यूँ मुझे?
Pratibha Pandey
समय और स्वास्थ्य के असली महत्त्व को हम तब समझते हैं जब उसका
समय और स्वास्थ्य के असली महत्त्व को हम तब समझते हैं जब उसका
Paras Nath Jha
हां मुझे प्यार हुआ जाता है
हां मुझे प्यार हुआ जाता है
Surinder blackpen
ख्वाब देखा है हसीन__ मरने न देंगे।
ख्वाब देखा है हसीन__ मरने न देंगे।
Rajesh vyas
जय अम्बे
जय अम्बे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
■ उल्लू छाप...बिचारे
■ उल्लू छाप...बिचारे
*Author प्रणय प्रभात*
अब न करेगे इश्क और न करेगे किसी की ग़ुलामी,
अब न करेगे इश्क और न करेगे किसी की ग़ुलामी,
Vishal babu (vishu)
तेरा पिता हूँ
तेरा पिता हूँ
Satish Srijan
*उसके यहाँ भी देर क्या, साहिब अंधेर है (मुक्तक)*
*उसके यहाँ भी देर क्या, साहिब अंधेर है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
नंगा चालीसा [ रमेशराज ]
नंगा चालीसा [ रमेशराज ]
कवि रमेशराज
वेलेंटाइन एक ऐसा दिन है जिसका सबके ऊपर एक सकारात्मक प्रभाव प
वेलेंटाइन एक ऐसा दिन है जिसका सबके ऊपर एक सकारात्मक प्रभाव प
Rj Anand Prajapati
ऐ जिंदगी....
ऐ जिंदगी....
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
आप और हम जीवन के सच............. हमारी सोच
आप और हम जीवन के सच............. हमारी सोच
Neeraj Agarwal
ईश्वर नाम रख लेने से, तुम ईश्वर ना हो जाओगे,
ईश्वर नाम रख लेने से, तुम ईश्वर ना हो जाओगे,
Anand Kumar
वहां पथ पथिक कुशलता क्या, जिस पथ पर बिखरे शूल न हों।
वहां पथ पथिक कुशलता क्या, जिस पथ पर बिखरे शूल न हों।
Slok maurya "umang"
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रिश्तों के मायने
रिश्तों के मायने
Rajni kapoor
आदत न डाल
आदत न डाल
Dr fauzia Naseem shad
ये नफरत बुरी है ,न पालो इसे,
ये नफरत बुरी है ,न पालो इसे,
Ranjeet kumar patre
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
दलित समुदाय।
दलित समुदाय।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
2600.पूर्णिका
2600.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दोहा पंचक. . . नारी
दोहा पंचक. . . नारी
sushil sarna
फौजी की पत्नी
फौजी की पत्नी
लक्ष्मी सिंह
*ये बिल्कुल मेरी मां जैसी है*
*ये बिल्कुल मेरी मां जैसी है*
Shashi kala vyas
Loading...