Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Mar 2017 · 1 min read

दिल

दिल रे तू काहे का सोच करे ,
वो निर्मोही प्यार न जाने ,
जिनको याद करे ।।
दिल की राहें बड़ी ही तंगदिल ,
मुश्किल है जहाँ मिलना मंजिल ।
छोड़ दे तू अब ये रोना ,
किसकी फ़िक्र करे ।।
महफ़िल से उनका भी दिल भर गया है बजाते थे ताली कभी बेबजह कर ।
नासाज है दिल की तबियत ,
क्यों फिर याद करे ।।

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 1 Comment · 549 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मत पूछो मेरा कारोबार क्या है,
मत पूछो मेरा कारोबार क्या है,
Vishal babu (vishu)
यदि कोई आपके मैसेज को सीन करके उसका प्रत्युत्तर न दे तो आपको
यदि कोई आपके मैसेज को सीन करके उसका प्रत्युत्तर न दे तो आपको
Rj Anand Prajapati
संघर्षी वृक्ष
संघर्षी वृक्ष
Vikram soni
"बेहतर है चुप रहें"
Dr. Kishan tandon kranti
23/81.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/81.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बेवजह यूं ही
बेवजह यूं ही
Surinder blackpen
पहला प्यार
पहला प्यार
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
मौसम तुझको देखते ,
मौसम तुझको देखते ,
sushil sarna
अहसास तेरे होने का
अहसास तेरे होने का
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
एक समय वो था
एक समय वो था
Dr.Rashmi Mishra
परेशानियों का सामना
परेशानियों का सामना
Paras Nath Jha
,,,,,,,,,,?
,,,,,,,,,,?
शेखर सिंह
ह्रदय की स्थिति की
ह्रदय की स्थिति की
Dr fauzia Naseem shad
Chhod aye hum wo galiya,
Chhod aye hum wo galiya,
Sakshi Tripathi
मेरी हस्ती
मेरी हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
करम के नांगर  ला भूत जोतय ।
करम के नांगर ला भूत जोतय ।
Lakhan Yadav
खामोशियां पढ़ने का हुनर हो
खामोशियां पढ़ने का हुनर हो
Amit Pandey
जो दिल दरिया था उसे पत्थर कर लिया।
जो दिल दरिया था उसे पत्थर कर लिया।
Neelam Sharma
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इतनी खुबसुरत हो तुम
इतनी खुबसुरत हो तुम
Diwakar Mahto
मजदूर की बरसात
मजदूर की बरसात
goutam shaw
“पहाड़ी झरना”
“पहाड़ी झरना”
Awadhesh Kumar Singh
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
पूर्वार्थ
सदपुरुष अपना कर्तव्य समझकर कर्म करता है और मूर्ख उसे अपना अध
सदपुरुष अपना कर्तव्य समझकर कर्म करता है और मूर्ख उसे अपना अध
Sanjay ' शून्य'
राम के जैसा पावन हो, वो नाम एक भी नहीं सुना।
राम के जैसा पावन हो, वो नाम एक भी नहीं सुना।
सत्य कुमार प्रेमी
।। गिरकर उठे ।।
।। गिरकर उठे ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
हर रात मेरे साथ ये सिलसिला हो जाता है
हर रात मेरे साथ ये सिलसिला हो जाता है
Madhuyanka Raj
सुबह सुहानी आ रही, खूब खिलेंगे फूल।
सुबह सुहानी आ रही, खूब खिलेंगे फूल।
surenderpal vaidya
बात कलेजे से लगा, काहे पलक भिगोय ?
बात कलेजे से लगा, काहे पलक भिगोय ?
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...