Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2024 · 1 min read

दिल से जाना

जब ……
दिल से ….
कोई जाता है
तो वो ……
असल में जाता नहीं
जाता है तो …..
उसके प्रति ….
भरोसा और विश्वास
अपनत्व और प्यार
जब …..
दिल से ……
कोई जाता है
तो वो ….
असल में जाता नहीं
वो असल में खो देता है
अपनेपन का खिंचाव
तरलता का बहाव
जब …….
दिल से …..
कोई जाता है
तो वो ………
असल में जाता नहीं
गंवा देता है
आपसी जुड़ाव
पुरा सन्धि का पड़ाव ।
जब ……..
दिल से ……
कोई जाता है
तो वो ……
असल में जाता नहीं
रहता है……
हमारे बीच
कुछ-कुछ
बिन ….
आग के चुल्ले सा
उजड़े …….
गली-मोहल्ले सा
बिन बात के हो-हल्ले सा।
संगीता बैनीवाल

1 Like · 890 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
धनतेरस जुआ कदापि न खेलें
धनतेरस जुआ कदापि न खेलें
कवि रमेशराज
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
Paras Nath Jha
राहों में
राहों में
हिमांशु Kulshrestha
बर्फ की चादरों को गुमां हो गया
बर्फ की चादरों को गुमां हो गया
ruby kumari
Style of love
Style of love
Otteri Selvakumar
जिसको गोदी मिल गई ,माँ की हुआ निहाल (कुंडलिया)
जिसको गोदी मिल गई ,माँ की हुआ निहाल (कुंडलिया)
Ravi Prakash
बुज़ुर्गो को न होने दे अकेला
बुज़ुर्गो को न होने दे अकेला
Dr fauzia Naseem shad
निरीह गौरया
निरीह गौरया
Dr.Pratibha Prakash
पितृपक्ष
पितृपक्ष
Neeraj Agarwal
तप त्याग समर्पण भाव रखों
तप त्याग समर्पण भाव रखों
Er.Navaneet R Shandily
शबे- फित्ना
शबे- फित्ना
मनोज कुमार
अर्धांगिनी सु-धर्मपत्नी ।
अर्धांगिनी सु-धर्मपत्नी ।
Neelam Sharma
मेरा केवि मेरा गर्व 🇳🇪 .
मेरा केवि मेरा गर्व 🇳🇪 .
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
💐प्रेम कौतुक-169💐
💐प्रेम कौतुक-169💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरा शरीर और मैं
मेरा शरीर और मैं
DR ARUN KUMAR SHASTRI
" मन भी लगे बवाली "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
फूलों की तरह मुस्कराते रहिए जनाब
फूलों की तरह मुस्कराते रहिए जनाब
shabina. Naaz
2885.*पूर्णिका*
2885.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
'गुमान' हिंदी ग़ज़ल
'गुमान' हिंदी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
निलय निकास का नियम अडिग है
निलय निकास का नियम अडिग है
Atul "Krishn"
सदा ज्ञान जल तैर रूप माया का जाया
सदा ज्ञान जल तैर रूप माया का जाया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दो धारी तलवार
दो धारी तलवार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
वो पुराने सुहाने दिन....
वो पुराने सुहाने दिन....
Santosh Soni
समरथ को नही दोष गोसाई
समरथ को नही दोष गोसाई
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
खुदकुशी नहीं, इंकलाब करो
खुदकुशी नहीं, इंकलाब करो
Shekhar Chandra Mitra
कविता -
कविता - "बारिश में नहाते हैं।' आनंद शर्मा
Anand Sharma
उफ़ ये अदा
उफ़ ये अदा
Surinder blackpen
ओ गौरैया,बाल गीत
ओ गौरैया,बाल गीत
Mohan Pandey
बसंती हवा
बसंती हवा
Arvina
तब गाँव हमे अपनाता है
तब गाँव हमे अपनाता है
संजय कुमार संजू
Loading...