Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Nov 2016 · 1 min read

दिल रोया बहुत है

दिल रोया बहुत है मेरा विदा से पहले
के इश्क़ में छल गई हूं वफ़ा से पहले

संभाला है मैने खुदको बड़ी मशक्कत से
तू ने तो मार ही डाला था क़जा से पहले

रहती हूं हर पल मै तो माँ की दुआ में ही
हर जख्म भर जाता है मेरा दवा से पहले

खुश रहने की दे गया है सौगंध जाते जाते
और सजा दे गया मुझको विदा से पहले

मिलने की तमन्ना है तुझसे मेरे सनम
दीदार करा देना अपना क़जा से पहले

छोड़कर ना जाना मुझको मझधार में कभी
लेती हूं नाम तेरा ही मै सदा से पहले

आ गई है दर पर तेरे कँवल माँ मेहर कर
बस जाना मेरे दिल में बस दुआ से पहले

1 Comment · 486 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from बबीता अग्रवाल #कँवल
View all
You may also like:
नाम नमक निशान
नाम नमक निशान
Satish Srijan
चार यार
चार यार
Bodhisatva kastooriya
मानते हो क्यों बुरा तुम , लिखे इस नाम को
मानते हो क्यों बुरा तुम , लिखे इस नाम को
gurudeenverma198
जय माता दी ।
जय माता दी ।
Anil Mishra Prahari
"तोल के बोल"
Dr. Kishan tandon kranti
*एक दोहा*
*एक दोहा*
Ravi Prakash
"वृद्धाश्रम"
Radhakishan R. Mundhra
हिंदी का सम्मान
हिंदी का सम्मान
Arti Bhadauria
★मां ★
★मां ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
■ ज्वलंत सवाल
■ ज्वलंत सवाल
*Author प्रणय प्रभात*
*
*"गंगा"*
Shashi kala vyas
महाशून्य
महाशून्य
Utkarsh Dubey “Kokil”
चली जाऊं जब मैं इस जहां से.....
चली जाऊं जब मैं इस जहां से.....
Santosh Soni
आग्रह
आग्रह
Rashmi Sanjay
🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀
🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀
subhash Rahat Barelvi
राधा और मुरली को भी छोड़ना पड़ता हैं?
राधा और मुरली को भी छोड़ना पड़ता हैं?
The_dk_poetry
आपकी मुस्कुराहट बताती है फितरत आपकी।
आपकी मुस्कुराहट बताती है फितरत आपकी।
Rj Anand Prajapati
🍂तेरी याद आए🍂
🍂तेरी याद आए🍂
Dr Manju Saini
नग मंजुल मन भावे
नग मंजुल मन भावे
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पाला जाता घरों में, वफादार है श्वान।
पाला जाता घरों में, वफादार है श्वान।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
हमें सूरज की तरह चमकना है, सब लोगों के दिलों में रहना है,
हमें सूरज की तरह चमकना है, सब लोगों के दिलों में रहना है,
DrLakshman Jha Parimal
2482.पूर्णिका
2482.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"चाहत " ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बेटी
बेटी
Kanchan sarda Malu
घर और घर की याद
घर और घर की याद
डॉ० रोहित कौशिक
सबका वह शिकार है, सब उसके ही शिकार हैं…
सबका वह शिकार है, सब उसके ही शिकार हैं…
Anand Kumar
जो वक़्त के सवाल पर
जो वक़्त के सवाल पर
Dr fauzia Naseem shad
"समय का महत्व"
Yogendra Chaturwedi
💢याद रखना,मेरा इश्क़ महकता है💢
💢याद रखना,मेरा इश्क़ महकता है💢
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
झूला....
झूला....
Harminder Kaur
Loading...