Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Nov 2021 · 1 min read

दिल रंज का शिकार है और किस क़दर है आज

दिल रंज का शिकार है और किस क़दर है आज
आहट जो धड़कनों की थी, ख़ामोशतर है आज

आंखों को तेरी बख़्शा है जिसने हया का जाम
साक़ी तिरी निगाह से क्यों बे – ख़बर है आज

सारे जहां को जिसने दिया दर्से – आगही
उस क़ौम पर ज़माने की क्यों बद-नज़र है आज

करता था रश्क जिसकी बुलंदी पे आसमान
कट कर गिरी पतंग वही फ़र्श पर है आज

वह शख़्स जो रक़ीब रहा उम्र भर मिरा
मैय्यत पे मेरी देखो वही नौहागर है आज

“आसी” जिसे ग़रूर था अपनी उड़ान पर
है वक़्त का यह मौजज़ा बे – बालो – पर है आज
_______◆_________
सरफ़राज़ अहमद आसी

189 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी देह बीमार मानस का गेह है / मुसाफ़िर बैठा
मेरी देह बीमार मानस का गेह है / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
परिसर खेल का हो या दिल का,
परिसर खेल का हो या दिल का,
पूर्वार्थ
तुम      चुप    रहो    तो  मैं  कुछ  बोलूँ
तुम चुप रहो तो मैं कुछ बोलूँ
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
22)”शुभ नवरात्रि”
22)”शुभ नवरात्रि”
Sapna Arora
आप हो न
आप हो न
Dr fauzia Naseem shad
जीवन
जीवन
Santosh Shrivastava
चंद किरणे चांद की चंचल कर गई
चंद किरणे चांद की चंचल कर गई
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
भारत की होगी दुनिया में, फिर से जय जय कार
भारत की होगी दुनिया में, फिर से जय जय कार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीवन के उलझे तार न सुलझाता कोई,
जीवन के उलझे तार न सुलझाता कोई,
Priya princess panwar
23/39.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/39.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भारत का लाल
भारत का लाल
Aman Sinha
सत्य
सत्य
Dr.Pratibha Prakash
जीवन में कोई भी युद्ध अकेले होकर नहीं लड़ा जा सकता। भगवान राम
जीवन में कोई भी युद्ध अकेले होकर नहीं लड़ा जा सकता। भगवान राम
Dr Tabassum Jahan
Mahadav, mera WhatsApp number save kar lijiye,
Mahadav, mera WhatsApp number save kar lijiye,
Ankita Patel
पेइंग गेस्ट
पेइंग गेस्ट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बेवजह कदमों को चलाए है।
बेवजह कदमों को चलाए है।
Taj Mohammad
केतकी का अंश
केतकी का अंश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
■ कड़वा सच...
■ कड़वा सच...
*Author प्रणय प्रभात*
कहें किसे क्या आजकल, सब मर्जी के मीत ।
कहें किसे क्या आजकल, सब मर्जी के मीत ।
sushil sarna
देख भाई, सामने वाले से नफ़रत करके एनर्जी और समय दोनो बर्बाद ह
देख भाई, सामने वाले से नफ़रत करके एनर्जी और समय दोनो बर्बाद ह
ruby kumari
तू गीत ग़ज़ल उन्वान प्रिय।
तू गीत ग़ज़ल उन्वान प्रिय।
Neelam Sharma
नैन खोल मेरी हाल देख मैया
नैन खोल मेरी हाल देख मैया
Basant Bhagawan Roy
परमात्मा रहता खड़ा , निर्मल मन के द्वार (कुंडलिया)
परमात्मा रहता खड़ा , निर्मल मन के द्वार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
कुछ काम करो , कुछ काम करो
कुछ काम करो , कुछ काम करो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
विश्व हुआ है  राममय,  गूँज  सुनो  चहुँ ओर
विश्व हुआ है राममय, गूँज सुनो चहुँ ओर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अभी दिल भरा नही
अभी दिल भरा नही
Ram Krishan Rastogi
आस लगाए बैठे हैं कि कब उम्मीद का दामन भर जाए, कहने को दुनिया
आस लगाए बैठे हैं कि कब उम्मीद का दामन भर जाए, कहने को दुनिया
Shashi kala vyas
श्री शूलपाणि
श्री शूलपाणि
Vivek saswat Shukla
"परिवार क्या है"
Dr. Kishan tandon kranti
अंबेडकर की रक्तहीन क्रांति
अंबेडकर की रक्तहीन क्रांति
Shekhar Chandra Mitra
Loading...