Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2023 · 1 min read

दिल ये तो जानता हैं गुनाहगार कौन हैं,

दिल ये तो जानता हैं गुनाहगार कौन हैं,
आये जो उसका नाम तो तैयार कौन हैं…!!

चेहरे बदल बदल कर वो बर्बाद कर गया,
हम सोंचते ही रह गये किरदार कौन हैं…!!!

विशाल..✍️

1 Like · 455 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सच तो जीवन में हमारी सोच हैं।
सच तो जीवन में हमारी सोच हैं।
Neeraj Agarwal
दीप ज्योति जलती है जग उजियारा करती है
दीप ज्योति जलती है जग उजियारा करती है
Umender kumar
"दीप जले"
Shashi kala vyas
सर्वनाम के भेद
सर्वनाम के भेद
Neelam Sharma
लाल बहादुर शास्त्री
लाल बहादुर शास्त्री
Kavita Chouhan
विद्यापति धाम
विद्यापति धाम
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
अर्ज है
अर्ज है
Basant Bhagawan Roy
बल से दुश्मन को मिटाने
बल से दुश्मन को मिटाने
Anil Mishra Prahari
एक तरफा दोस्ती की कीमत
एक तरफा दोस्ती की कीमत
SHAMA PARVEEN
छुप जाता है चाँद, जैसे बादलों की ओट में l
छुप जाता है चाँद, जैसे बादलों की ओट में l
सेजल गोस्वामी
घुटने बदले दादी जी के( बाल कविता)
घुटने बदले दादी जी के( बाल कविता)
Ravi Prakash
खो गयी हर इक तरावट,
खो गयी हर इक तरावट,
Prashant mishra (प्रशान्त मिश्रा मन)
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
आप किसी का कर्ज चुका सकते है,
आप किसी का कर्ज चुका सकते है,
Aarti sirsat
जिंदगी बेहद रंगीन है और कुदरत का करिश्मा देखिए लोग भी रंग बद
जिंदगी बेहद रंगीन है और कुदरत का करिश्मा देखिए लोग भी रंग बद
Rekha khichi
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
मन
मन
Punam Pande
आइना देखा तो खुद चकरा गए।
आइना देखा तो खुद चकरा गए।
सत्य कुमार प्रेमी
मैं तुमसे दुर नहीं हूँ जानम,
मैं तुमसे दुर नहीं हूँ जानम,
Dr. Man Mohan Krishna
लोग चाहे इश्क़ को दें नाम कोई
लोग चाहे इश्क़ को दें नाम कोई
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हर्षित आभा रंगों में समेट कर, फ़ाल्गुन लो फिर आया है,
हर्षित आभा रंगों में समेट कर, फ़ाल्गुन लो फिर आया है,
Manisha Manjari
2830. *पूर्णिका*
2830. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
Shweta Soni
तुम्हारी सब अटकलें फेल हो गई,
तुम्हारी सब अटकलें फेल हो गई,
Mahender Singh
शिक्षक
शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
माँ तो आखिर माँ है
माँ तो आखिर माँ है
Dr. Kishan tandon kranti
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
मैं पढ़ता हूं
मैं पढ़ता हूं
डॉ० रोहित कौशिक
आइये तर्क पर विचार करते है
आइये तर्क पर विचार करते है
शेखर सिंह
तुम
तुम
हिमांशु Kulshrestha
Loading...