Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2024 · 1 min read

” दिल गया है हाथ से “

गीत

हाथ ने जब हाथ थामा ,
दिल गया है हाथ से !!

है खुशी का दौर अब तो ,
पंख जैसे लग गये !
है विचारों की उड़ानें ,
ख्वाब रंगीं सज गये !
स्वप्न हाथों में समेटे ,
गये भय से कांप से !!

आज को हमने सजाया ,
कल यहाँ बिखरा लगे !
प्रीत जो झूँठी दिखाते ,
आज वे लगते ठगे !
गीत अधरों पर बसे हैं ,
हर्ष की बस थाप से !!

चाह किलकारी भरे है ,
राह में बस फूल हैं !
दर्द अब भी है कसकता ,
याद आते शूल हैं !
समय ने बदली है करवट ,
वक्त बदला आप से !!

अभी चढ़ना है कसौटी ,
जो हुए अनुबंध है !
जिंदगी में हर कदम पर ,
रोज मिलते द्वंद है !
स्वर्ण सा बस है निखरना ,
नहीं डरना ताप से !!

स्वरचित / रचियता :
बृज व्यास
शाजापुर ( मध्यप्रदेश )

Language: Hindi
3 Likes · 1 Comment · 118 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दुःख हरणी
दुःख हरणी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेरी पेशानी पे तुम्हारा अक्स देखकर लोग,
मेरी पेशानी पे तुम्हारा अक्स देखकर लोग,
Shreedhar
सौंदर्य छटा🙏
सौंदर्य छटा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
डारा-मिरी
डारा-मिरी
Dr. Kishan tandon kranti
सब तेरा है
सब तेरा है
Swami Ganganiya
2816. *पूर्णिका*
2816. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Muhabhat guljar h,
Muhabhat guljar h,
Sakshi Tripathi
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
Arghyadeep Chakraborty
रामफल मंडल (शहीद)
रामफल मंडल (शहीद)
Shashi Dhar Kumar
🌿 Brain thinking ⚘️
🌿 Brain thinking ⚘️
Ms.Ankit Halke jha
सफलता यूं ही नहीं मिल जाती है।
सफलता यूं ही नहीं मिल जाती है।
नेताम आर सी
शतरंज
शतरंज
भवेश
ज्योति मौर्या बनाम आलोक मौर्या प्रकरण…
ज्योति मौर्या बनाम आलोक मौर्या प्रकरण…
Anand Kumar
मतलब छुट्टी का हुआ, समझो है रविवार( कुंडलिया )
मतलब छुट्टी का हुआ, समझो है रविवार( कुंडलिया )
Ravi Prakash
*चुप रहने की आदत है*
*चुप रहने की आदत है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
💐प्रेम कौतुक-411💐
💐प्रेम कौतुक-411💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नारी है नारायणी
नारी है नारायणी
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
ना कोई संत, न भक्त, ना कोई ज्ञानी हूँ,
ना कोई संत, न भक्त, ना कोई ज्ञानी हूँ,
डी. के. निवातिया
■ अनावश्यक चेष्टा 👍👍
■ अनावश्यक चेष्टा 👍👍
*Author प्रणय प्रभात*
मैंने  देखा  ख्वाब में  दूर  से  एक  चांद  निकलता  हुआ
मैंने देखा ख्वाब में दूर से एक चांद निकलता हुआ
shabina. Naaz
"लघु कृषक की व्यथा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जीवन साथी ओ मेरे यार
जीवन साथी ओ मेरे यार
gurudeenverma198
नन्ही परी
नन्ही परी
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
और प्रतीक्षा सही न जाये
और प्रतीक्षा सही न जाये
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
रिश्तों के मायने
रिश्तों के मायने
Rajni kapoor
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
Ranjeet kumar patre
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सुबह सुबह की चाय
सुबह सुबह की चाय
Neeraj Agarwal
आओ प्रिय बैठो पास...
आओ प्रिय बैठो पास...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...