Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Aug 2023 · 1 min read

दिल के अहसास बया होते है अगर

दिल के अहसास बया होते है अगर
बया होने दो जो भी कहा सही है अगर
दुनिया उसे कुछ भी समझें
हकीकत में जो सही है उसे सही रहने दो मगर…..
जीत हमेशा अपनी हो,
इस लिए दूसरों को जीत के भ्रम में रहने दो मगर….
एक दिन अहसास होगा खुद को
जिन्हें हम गलत समझे थे वो सही थे मगर…
जीत होगी हमेशा अपनी ही
इस लिए खुद को झूठ के भ्रम से दूर रहने दो मगर….
☘️🌺🦋🌺🌼🦋🥀🌺🦋🌺☘️
🍁swami ganganiya🍁

Language: Hindi
Tag: शेर
117 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"खामोशी"
Dr. Kishan tandon kranti
ह्रदय की स्थिति की
ह्रदय की स्थिति की
Dr fauzia Naseem shad
दुआ सलाम
दुआ सलाम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*ग़ज़ल*
*ग़ज़ल*
शेख रहमत अली "बस्तवी"
खोल नैन द्वार माँ।
खोल नैन द्वार माँ।
लक्ष्मी सिंह
हम सृजन के पथ चलेंगे
हम सृजन के पथ चलेंगे
Mohan Pandey
अपेक्षा किसी से उतनी ही रखें
अपेक्षा किसी से उतनी ही रखें
Paras Nath Jha
Dr arun kumar शास्त्री
Dr arun kumar शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धर्म और विडम्बना
धर्म और विडम्बना
Mahender Singh
मोहब्बत के शरबत के रंग को देख कर
मोहब्बत के शरबत के रंग को देख कर
Shakil Alam
दोहा त्रयी. . . शंका
दोहा त्रयी. . . शंका
sushil sarna
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
Shweta Soni
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Mamta Rani
#प्रभात_चिन्तन
#प्रभात_चिन्तन
*प्रणय प्रभात*
हिस्से की धूप
हिस्से की धूप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
जिंदगी तेरे सफर में क्या-कुछ ना रह गया
जिंदगी तेरे सफर में क्या-कुछ ना रह गया
VINOD CHAUHAN
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
3225.*पूर्णिका*
3225.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भले ही भारतीय मानवता पार्टी हमने बनाया है और इसका संस्थापक स
भले ही भारतीय मानवता पार्टी हमने बनाया है और इसका संस्थापक स
Dr. Man Mohan Krishna
कुदरत मुझको रंग दे
कुदरत मुझको रंग दे
Gurdeep Saggu
..........?
..........?
शेखर सिंह
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह "reading between the lines" लिखा है
SHAILESH MOHAN
नारी सम्मान
नारी सम्मान
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
*छपवाऍं पुस्तक स्वयं, खर्चा करिए आप (कुंडलिया )*
*छपवाऍं पुस्तक स्वयं, खर्चा करिए आप (कुंडलिया )*
Ravi Prakash
देशभक्त मातृभक्त पितृभक्त गुरुभक्त चरित्रवान विद्वान बुद्धिम
देशभक्त मातृभक्त पितृभक्त गुरुभक्त चरित्रवान विद्वान बुद्धिम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
सुन्दर तन तब जानिये,
सुन्दर तन तब जानिये,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
यदि कोई आपकी कॉल को एक बार में नहीं उठाता है तब आप यह समझिए
यदि कोई आपकी कॉल को एक बार में नहीं उठाता है तब आप यह समझिए
Rj Anand Prajapati
"Radiance of Purity"
Manisha Manjari
अब नहीं वो ऐसे कि , मिले उनसे हँसकर
अब नहीं वो ऐसे कि , मिले उनसे हँसकर
gurudeenverma198
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
Acharya Rama Nand Mandal
Loading...