Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Nov 2023 · 1 min read

दिल की हरकते दिल ही जाने,

दिल की हरकते दिल ही जाने,
लाख पाबंदी फिर भी न माने।।
केवल रक्त संचरण केंद्र नहीं,
ज़ज्बातो से भी खेलना जाने।।
ख़ाब रंगीन सपने संगीन,
पंख नही पर उड़ना जाने।।
पग पग की चाल बदलता देखो,
बिन पग भी यह चलना जाने।।
वक़्त-बेवक़्त हरकते अजीब सी,
घड़ी घड़ी फ़कीरी में भटकना जाने।।
सोंच सोंच के मोच बनाए,
बुद्धि को भी धूल चाटना जाने।।
जोड़ जोड़ कर तोड़ यही है,
इश्क़ का आँगन टेढ़ा माने।।
नाच नाचावे हाय बावरा
जिस पर बीते बस वही जाने।।

••लखन यादव••
गाँव:- बरबसपुर (बेमेतरा) ३६ गढ़

3 Likes · 207 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शिक्षा
शिक्षा
Adha Deshwal
एक शख्स
एक शख्स
Pratibha Pandey
मानवता
मानवता
Rahul Singh
मेहनत कड़ी थकान न लाती, लाती है सन्तोष
मेहनत कड़ी थकान न लाती, लाती है सन्तोष
महेश चन्द्र त्रिपाठी
बसहा चलल आब संसद भवन
बसहा चलल आब संसद भवन
मनोज कर्ण
_______ सुविचार ________
_______ सुविचार ________
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
बेटी से प्यार करो
बेटी से प्यार करो
Neeraj Agarwal
पुस्तक समीक्षा-सपनों का शहर
पुस्तक समीक्षा-सपनों का शहर
गुमनाम 'बाबा'
*यह  ज़िंदगी  नही सरल है*
*यह ज़िंदगी नही सरल है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एक छोटी सी मुस्कान के साथ आगे कदम बढाते है
एक छोटी सी मुस्कान के साथ आगे कदम बढाते है
Karuna Goswami
काफी लोगो ने मेरे पढ़ने की तेहरिन को लेकर सवाल पूंछा
काफी लोगो ने मेरे पढ़ने की तेहरिन को लेकर सवाल पूंछा
पूर्वार्थ
लोग कहते हैं खास ,क्या बुढों में भी जवानी होता है।
लोग कहते हैं खास ,क्या बुढों में भी जवानी होता है।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कोई दवा दुआ नहीं कोई जाम लिया है
कोई दवा दुआ नहीं कोई जाम लिया है
हरवंश हृदय
मैं उन लोगों से उम्मीद भी नहीं रखता हूं जो केवल मतलब के लिए
मैं उन लोगों से उम्मीद भी नहीं रखता हूं जो केवल मतलब के लिए
Ranjeet kumar patre
महायुद्ध में यूँ पड़ी,
महायुद्ध में यूँ पड़ी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पावस की रात
पावस की रात
लक्ष्मी सिंह
रिश्तों में...
रिश्तों में...
Shubham Pandey (S P)
गंगा
गंगा
ओंकार मिश्र
विषय: शब्द विद्या:- स्वछंद कविता
विषय: शब्द विद्या:- स्वछंद कविता
Neelam Sharma
न शायर हूँ, न ही गायक,
न शायर हूँ, न ही गायक,
Satish Srijan
बरखा
बरखा
Dr. Seema Varma
■ इधर कुआं, उधर खाई।।
■ इधर कुआं, उधर खाई।।
*प्रणय प्रभात*
लौट कर रास्ते भी
लौट कर रास्ते भी
Dr fauzia Naseem shad
2968.*पूर्णिका*
2968.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन में जब विश्वास मर जाता है तो समझ लीजिए
जीवन में जब विश्वास मर जाता है तो समझ लीजिए
प्रेमदास वसु सुरेखा
लिखना चाहूँ  अपनी बातें ,  कोई नहीं इसको पढ़ता है ! बातें कह
लिखना चाहूँ अपनी बातें , कोई नहीं इसको पढ़ता है ! बातें कह
DrLakshman Jha Parimal
सपने
सपने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सरकार हैं हम
सरकार हैं हम
pravin sharma
गिलोटिन
गिलोटिन
Dr. Kishan tandon kranti
*संस्मरण*
*संस्मरण*
Ravi Prakash
Loading...