Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2023 · 1 min read

“दिल का हाल सुने दिल वाला”

“दिल का हाल सुने दिल वाला”

प्यार की राह पे चलते-चलते,
कभी अजनबी रास्ते बन जाते हैं।
दिल की आहटों को कौन सुनता है,
क्या बताऊँ कौन से जख्म बन जाते हैं?

8 Likes · 1 Comment · 184 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रोजाना आने लगे , बादल अब घनघोर (कुंडलिया)
रोजाना आने लगे , बादल अब घनघोर (कुंडलिया)
Ravi Prakash
गीत मौसम का
गीत मौसम का
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
इस तरह क्या दिन फिरेंगे....
इस तरह क्या दिन फिरेंगे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
* थके पथिक को *
* थके पथिक को *
surenderpal vaidya
कहीं पहुंचने
कहीं पहुंचने
Ranjana Verma
चिड़िया
चिड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शीत .....
शीत .....
sushil sarna
देश हमारा
देश हमारा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
वह मेरे किरदार में ऐब निकालता है
वह मेरे किरदार में ऐब निकालता है
कवि दीपक बवेजा
हमेशा तेरी याद में
हमेशा तेरी याद में
Dr fauzia Naseem shad
कितने छेड़े और  कितने सताए  गए है हम
कितने छेड़े और कितने सताए गए है हम
Yogini kajol Pathak
2366.पूर्णिका
2366.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
DrLakshman Jha Parimal
लक्ष्य
लक्ष्य
लक्ष्मी सिंह
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
Basant Bhagawan Roy
#निस्वार्थ-
#निस्वार्थ-
*Author प्रणय प्रभात*
तुम्हारे भाव जरूर बड़े हुए है जनाब,
तुम्हारे भाव जरूर बड़े हुए है जनाब,
Umender kumar
जीवन की सबसे बड़ी त्रासदी
जीवन की सबसे बड़ी त्रासदी
ruby kumari
इंसान को,
इंसान को,
नेताम आर सी
हिन्दी दोहा-विश्वास
हिन्दी दोहा-विश्वास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गीत - इस विरह की वेदना का
गीत - इस विरह की वेदना का
Sukeshini Budhawne
पथ सहज नहीं रणधीर
पथ सहज नहीं रणधीर
Shravan singh
क्षितिज
क्षितिज
Dr. Kishan tandon kranti
कार्ल मार्क्स
कार्ल मार्क्स
Shekhar Chandra Mitra
💐प्रेम कौतुक-529💐
💐प्रेम कौतुक-529💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
6) जाने क्यों
6) जाने क्यों
पूनम झा 'प्रथमा'
जैसी सोच,वैसा फल
जैसी सोच,वैसा फल
Paras Nath Jha
खोज सत्य की जारी है
खोज सत्य की जारी है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
समय के पहिए पर कुछ नए आयाम छोड़ते है,
समय के पहिए पर कुछ नए आयाम छोड़ते है,
manjula chauhan
पैर, चरण, पग, पंजा और जड़
पैर, चरण, पग, पंजा और जड़
डॉ० रोहित कौशिक
Loading...