Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jan 2024 · 1 min read

दिल एक उम्मीद

ज़िंदगी हम पे कर नज़र अपनी ।
दिल एक उम्मीद को तरसता है ।।
डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
4 Likes · 63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
एक शख्स
एक शख्स
Pratibha Pandey
शिव स्तुति
शिव स्तुति
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
हादसे ज़िंदगी का हिस्सा हैं
हादसे ज़िंदगी का हिस्सा हैं
Dr fauzia Naseem shad
कीमती
कीमती
Naushaba Suriya
जरूरत
जरूरत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🙅समझ जाइए🙅
🙅समझ जाइए🙅
*Author प्रणय प्रभात*
क्यों तुम उदास होती हो...
क्यों तुम उदास होती हो...
Er. Sanjay Shrivastava
देकर हुनर कलम का,
देकर हुनर कलम का,
Satish Srijan
Janeu-less writer / Poem by Musafir Baitha
Janeu-less writer / Poem by Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
मेरा होकर मिलो
मेरा होकर मिलो
Mahetaru madhukar
ये आँखों से बहते अश्क़
ये आँखों से बहते अश्क़
'अशांत' शेखर
वो लड़का
वो लड़का
bhandari lokesh
ज़िन्दगी में सभी के कई राज़ हैं ।
ज़िन्दगी में सभी के कई राज़ हैं ।
Arvind trivedi
!..............!
!..............!
शेखर सिंह
नाथ शरण तुम राखिए,तुम ही प्राण आधार
नाथ शरण तुम राखिए,तुम ही प्राण आधार
कृष्णकांत गुर्जर
हिन्दी दोहा बिषय- न्याय
हिन्दी दोहा बिषय- न्याय
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
“मत लड़, ऐ मुसाफिर”
“मत लड़, ऐ मुसाफिर”
पंकज कुमार कर्ण
इश्क़ और इंकलाब
इश्क़ और इंकलाब
Shekhar Chandra Mitra
वाणी वंदना
वाणी वंदना
Dr Archana Gupta
बेटी की शादी
बेटी की शादी
विजय कुमार अग्रवाल
जनवासा अब है कहाँ,अब है कहाँ बरात (कुंडलिया)
जनवासा अब है कहाँ,अब है कहाँ बरात (कुंडलिया)
Ravi Prakash
कभी उसकी कदर करके देखो,
कभी उसकी कदर करके देखो,
पूर्वार्थ
#देकर_दगा_सभी_को_नित_खा_रहे_मलाई......!!
#देकर_दगा_सभी_को_नित_खा_रहे_मलाई......!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
(24) कुछ मुक्तक/ मुक्त पद
(24) कुछ मुक्तक/ मुक्त पद
Kishore Nigam
दर्द आँखों में आँसू  बनने  की बजाय
दर्द आँखों में आँसू बनने की बजाय
शिव प्रताप लोधी
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मा शारदा
मा शारदा
भरत कुमार सोलंकी
रमेशराज के वर्णिक छंद में मुक्तक
रमेशराज के वर्णिक छंद में मुक्तक
कवि रमेशराज
अब कहाँ मौत से मैं डरता हूँ
अब कहाँ मौत से मैं डरता हूँ
प्रीतम श्रावस्तवी
आज का दौर
आज का दौर
Shyam Sundar Subramanian
Loading...