Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Apr 2021 · 1 min read

दिया जलता छोड़ दिया

किसी की आवभगत में,
दिल मचलता छोड़ दिया !

आंधियां चलती रही और
दिया जलता छोड़ दिया !!

✍कवि दीपक सरल

Language: Hindi
1 Like · 519 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
Harminder Kaur
"चालाकी"
Ekta chitrangini
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr. Priya Gupta
व्यक्तित्व और व्यवहार हमारी धरोहर
व्यक्तित्व और व्यवहार हमारी धरोहर
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
थोड़ी मोहब्बत तो उसे भी रही होगी हमसे
थोड़ी मोहब्बत तो उसे भी रही होगी हमसे
शेखर सिंह
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
आज की ग़ज़ल
आज की ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
दास्ताने-इश्क़
दास्ताने-इश्क़
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सवा सेर
सवा सेर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
माना मैं उसके घर नहीं जाता,
माना मैं उसके घर नहीं जाता,
डी. के. निवातिया
जीने की राह
जीने की राह
Madhavi Srivastava
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
Rj Anand Prajapati
कुछ अपने रूठे,कुछ सपने टूटे,कुछ ख़्वाब अधूरे रहे गए,
कुछ अपने रूठे,कुछ सपने टूटे,कुछ ख़्वाब अधूरे रहे गए,
Vishal babu (vishu)
क्षमा करें तुफैलजी! + रमेशराज
क्षमा करें तुफैलजी! + रमेशराज
कवि रमेशराज
अच्छा अख़लाक़
अच्छा अख़लाक़
Dr fauzia Naseem shad
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
Maroof aalam
* घर में खाना घर के भीतर,रहना अच्छा लगता है 【हिंदी गजल/ गीत
* घर में खाना घर के भीतर,रहना अच्छा लगता है 【हिंदी गजल/ गीत
Ravi Prakash
★दाने बाली में ★
★दाने बाली में ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
नारी
नारी
Nitesh Shah
खुशी -उदासी
खुशी -उदासी
SATPAL CHAUHAN
भ्रम नेता का
भ्रम नेता का
Sanjay ' शून्य'
संत पुरुष रहते सदा राग-द्वेष से दूर।
संत पुरुष रहते सदा राग-द्वेष से दूर।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
समय
समय
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*लू के भभूत*
*लू के भभूत*
Santosh kumar Miri
जीत मनु-विधान की / MUSAFIR BAITHA
जीत मनु-विधान की / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हर-सम्त शोर है बरपा,
हर-सम्त शोर है बरपा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
नववर्ष-अभिनंदन
नववर्ष-अभिनंदन
Kanchan Khanna
2587.पूर्णिका
2587.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हीरा जनम गंवाएगा
हीरा जनम गंवाएगा
Shekhar Chandra Mitra
इश्क में हमको नहीं, वो रास आते हैं।
इश्क में हमको नहीं, वो रास आते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...