Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Aug 2016 · 1 min read

दिन शायराने आ गए…….

यूं लगा दिन ज़िंदगी में शायराने आ गए
अब गज़ल के काफिये हम को निभाने आ गए |

अब बड़े भाई को दादा कौन कहता है यहाँ
क्या बताएं यार अब कैसे ज़माने आ गए |

सांस बाक़ी जिस्म में थोड़ी हरारत शेष हैं
दोस्त मेरे देखिये कान्धा लगाने आ गए |

किस कदर बेताबियाँ थीं इश्क में हम क्या कहें
देखिये आंसू हमें भी अब छुपाने आ गए |

दिल परायों ने नहीं अपनों ने तोड़ा था मगर
देखिये नादानियां फिर दिल लगाने आ गए |

पाँव तो धंसने लगे हैं रेत में पर क्या करें
हम यहाँ बस सीपियाँ मोती उठाने आ गए |

आज तो यूं लग रहा है छत बचेगी या नहीं
देखिये तूफां की ज़द में आशियाने आ गये |

सिर फिरे हैं लोग सारे “आरसी” इस गाँव के
थान ले कर रेशमी किस को दिखाने आ गये |

–आर० सी० शर्मा “आरसी”

2 Comments · 465 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2845.*पूर्णिका*
2845.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोस्ती का रिश्ता
दोस्ती का रिश्ता
विजय कुमार अग्रवाल
फिर से आयेंगे
फिर से आयेंगे
प्रेमदास वसु सुरेखा
गीत नया गाता हूँ
गीत नया गाता हूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जीत जुनून से तय होती है।
जीत जुनून से तय होती है।
Rj Anand Prajapati
पाँव में खनकी चाँदी हो जैसे - संदीप ठाकुर
पाँव में खनकी चाँदी हो जैसे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
प्रेम, अनंत है
प्रेम, अनंत है
हिमांशु Kulshrestha
I don't need any more blush when I have you cuz you're the c
I don't need any more blush when I have you cuz you're the c
Sukoon
जनसंख्या है भार, देश हो विकसित कैसे(कुन्डलिया)
जनसंख्या है भार, देश हो विकसित कैसे(कुन्डलिया)
Ravi Prakash
मौहब्बत अक्स है तेरा इबादत तुझको करनी है ।
मौहब्बत अक्स है तेरा इबादत तुझको करनी है ।
Phool gufran
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
Dr. Narendra Valmiki
"प्रकृति की ओर लौटो"
Dr. Kishan tandon kranti
रज चरण की ही बहुत है राजयोगी मत बनाओ।
रज चरण की ही बहुत है राजयोगी मत बनाओ।
*प्रणय प्रभात*
***
*** " ये दरारों पर मेरी नाव.....! " ***
VEDANTA PATEL
"हमारे नेता "
DrLakshman Jha Parimal
* कष्ट में *
* कष्ट में *
surenderpal vaidya
ढल गया सूरज बिना प्रस्तावना।
ढल गया सूरज बिना प्रस्तावना।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
लगन की पतोहू / MUSAFIR BAITHA
लगन की पतोहू / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
आदमी का मानसिक तनाव  इग्नोर किया जाता हैं और उसको ज्यादा तवज
आदमी का मानसिक तनाव इग्नोर किया जाता हैं और उसको ज्यादा तवज
पूर्वार्थ
खिलेंगे फूल राहों में
खिलेंगे फूल राहों में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
राजे महाराजाओ की जागीर बदल दी हमने।
राजे महाराजाओ की जागीर बदल दी हमने।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
चक्षु सजल दृगंब से अंतः स्थल के घाव से
चक्षु सजल दृगंब से अंतः स्थल के घाव से
Er.Navaneet R Shandily
अगर कोई आपको गलत समझ कर
अगर कोई आपको गलत समझ कर
ruby kumari
सुनाऊँ प्यार की सरग़म सुनो तो चैन आ जाए
सुनाऊँ प्यार की सरग़म सुनो तो चैन आ जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
कोई ख़्वाब है
कोई ख़्वाब है
Dr fauzia Naseem shad
हनुमान बनना चाहूॅंगा
हनुमान बनना चाहूॅंगा
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
क्रोध
क्रोध
ओंकार मिश्र
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
Shyam Sundar Subramanian
Loading...