Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2022 · 2 min read

दिखावा करती दुनिया।

बड़ी बिडंमना है साहब … सच से क्यों मुँह मोड़ते हैं लोग यहाँ ? मुझे कोई संकोच नहीं कि मैं उत्तराखंडी हूँ पहाड़ी हूँ और सीधा-साधा साधारण इंसान भी , कल ही मैं बस में कहीं जा रहा था मेरे आगे वाली सीट पर एक अधेड़ उम्र की कोई महिला अपने 10-12 साल के बच्चे के साथ बैठी थी , बस वाला भी लोकल ही लग रहा था उसने बस में सिस्टम पर गढ़वाली गाने लगाये थे ! बस में आधे से ज्यादा लोग पहाड़ी ही बैठे थे . एक आधा गाना समाप्त होते ही.. सामने बैठी औरत बोली अरे भैय्या ये क्या गाने लगा रखे हैं आपने ? मुझे तो समझ ही नहीं आ रहा ठीक से कोई हिंदी-विन्दी गाने लगाओ ज़रा, जैसे ही उस महिला ने ऐसा कहा मैं एकाएक उन्हें गौर से देखने लगा .. क्योंकि महिला ने जो भी कुछ कहा था उससे साबित होता है कि वो पक्का कोई पहाड़ी औरत है और ये मैं इसलिये कह रहा हूँ क्योंकि जैसा कि आप सभी जानते हैं हिंदी हमारी राष्ट्र भाषा ज़रूर है और बहुत संख्या में लोग हिंदी ही बोलते भी हैं मगर .. कहीं न कहीं हर इक इंसान की हिंदी में भी अलग-अलग समस्वरण (ट्यूनिंग) ज़रूर आती है .. जैसे अगर कोई पंजाबी शख्स हिंदी बोलता है तो उसमे पंजाबी भाषा की ट्यूनिंग आती है ठीक उसी तरह यहाँ भी ऐसा ही कुछ था फ़िर क्या था जैसे ही महिला ने ऐसा कहा बस में बैठे कुछ लोग हँसने लगे ..हँसने वाली बात तो थी ही क्योंकि वो महिला पहाड़ी होने के बावजूद ऐसा कह रही है कि मुझे पहाड़ी गाने समझ नही आ रहे है फ़िर मैंने सोचा .. आखिर कहाँ जायेंगे ऐसे लोग? और किसे दिखाएंगे भला ये झूठा दिखावा ? यही हाल अपने भारत का भी हो गया है कुछ बुद्धिजीवी हिंदी को तुच्छ समझते हैं और अंग्रेजी को ज्यादा तवज्जो देते हैं जबकि ऐसा नही होना चाहिए .. हर भाषा का सम्मान करना जरुरी है आप इंग्लिश बोलो फ्रेंच बोलो या फिर कुछ और मगर .. अपनी मात्र भाषा को कभी अनदेखा नहीं करना चाहिए ये और न ही उसको हीन भावना से देखना चाहिए … आजकल प्राइवेट स्कूलों का हाल बहुत ही बुरा हो गया है … वहाँ अगर किसी ने एक लफ्ज़ भी हिंदी में बोल दिया तो .. उसकी धज़्ज़िया उड़ाई जाती है उसको गँवार समझा जाता है .. कई बार तो आर्थिक दंड भी उस पे लगाया जाता है जो कि निंदनीय है ! .. हमें सोचना होगा .. आज हिंदी विश्व स्तरीय भाषाओं में तीसरे पायदान पर है .. हमें गर्व होना चाहिए कि हमें भी ऐसे देश में पैदा होने का अवसर मिला जहाँ इतनी भाषाएँ इतनी बोलियाँ बोली जाती है .. कहने का तात्पर्य यही है .. आप आसमां को छू लो मगर याद रहे .. आधार सदैव ज़मीं ही रहेगा !
————————-
बृजपाल सिंह रावत
देहरादून, उत्तराखंड

Language: Hindi
Tag: लेख
1 Like · 287 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* तुगलकी फरमान*
* तुगलकी फरमान*
Dushyant Kumar
दोस्तों अगर किसी का दर्द देखकर आपकी आत्मा तिलमिला रही है, तो
दोस्तों अगर किसी का दर्द देखकर आपकी आत्मा तिलमिला रही है, तो
Sunil Maheshwari
"बात अपनो से कर लिया कीजे।
*प्रणय प्रभात*
ज़िंदगी का दस्तूर
ज़िंदगी का दस्तूर
Shyam Sundar Subramanian
खिला तो है कमल ,
खिला तो है कमल ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
आबाद वतन रखना, महका चमन रखना
आबाद वतन रखना, महका चमन रखना
gurudeenverma198
मेरे मित्र के प्रेम अनुभव के लिए कुछ लिखा है  जब उसकी प्रेमि
मेरे मित्र के प्रेम अनुभव के लिए कुछ लिखा है जब उसकी प्रेमि
पूर्वार्थ
नज़राना
नज़राना
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मातृभाषा हिन्दी
मातृभाषा हिन्दी
ऋचा पाठक पंत
"स्वार्थी रिश्ते"
Ekta chitrangini
" मैं तो लिखता जाऊँगा "
DrLakshman Jha Parimal
"पहचानिए"
Dr. Kishan tandon kranti
Banaras
Banaras
Sahil Ahmad
परमात्मा
परमात्मा
ओंकार मिश्र
एक झलक
एक झलक
Dr. Upasana Pandey
*बदलाव की लहर*
*बदलाव की लहर*
sudhir kumar
रामभक्त हनुमान
रामभक्त हनुमान
Seema gupta,Alwar
दोहा-
दोहा-
दुष्यन्त बाबा
*जन्मभूमि है रामलला की, त्रेता का नव काल है (मुक्तक)*
*जन्मभूमि है रामलला की, त्रेता का नव काल है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
बहुत झुका हूँ मैं
बहुत झुका हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
खुदा जाने
खुदा जाने
Dr.Priya Soni Khare
होलिडे-होली डे / MUSAFIR BAITHA
होलिडे-होली डे / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
गीत नया गाता हूँ
गीत नया गाता हूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आखिरी दिन होगा वो
आखिरी दिन होगा वो
shabina. Naaz
*अज्ञानी की मन गण्ड़त*
*अज्ञानी की मन गण्ड़त*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
23/55.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/55.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक नम्बर सबके फोन में ऐसा होता है
एक नम्बर सबके फोन में ऐसा होता है
Rekha khichi
‘ विरोधरस ‘---6. || विरोधरस के उद्दीपन विभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---6. || विरोधरस के उद्दीपन विभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
सज़ल
सज़ल
Mahendra Narayan
Loading...