Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Sep 2023 · 1 min read

*दादाजी (बाल कविता)*

दादाजी (बाल कविता)
________________________
दादा जी को बच्चे प्यारे
आगे-पीछे रहते सारे
दादाजी टॉफी दिलवाते
बच्चों को मेले ले जाते
रोज सुनाते एक कहानी
जिसमें होते राजा-रानी
————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

374 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
everyone says- let it be the defect of your luck, be forget
everyone says- let it be the defect of your luck, be forget
Ankita Patel
हारिये न हिम्मत तब तक....
हारिये न हिम्मत तब तक....
कृष्ण मलिक अम्बाला
■ तेवरी-
■ तेवरी-
*Author प्रणय प्रभात*
"साम","दाम","दंड" व् “भेद" की व्यथा
Dr. Harvinder Singh Bakshi
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जन्मदिन की शुभकामना
जन्मदिन की शुभकामना
Satish Srijan
कभी मायूस मत होना दोस्तों,
कभी मायूस मत होना दोस्तों,
Ranjeet kumar patre
संबंधो में अपनापन हो
संबंधो में अपनापन हो
संजय कुमार संजू
Dictatorship in guise of Democracy ?
Dictatorship in guise of Democracy ?
Shyam Sundar Subramanian
पहला कदम
पहला कदम
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
हौसला
हौसला
डॉ. शिव लहरी
काश.......
काश.......
Faiza Tasleem
माँ शेरावली है आनेवाली
माँ शेरावली है आनेवाली
Basant Bhagawan Roy
शराब खान में
शराब खान में
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
सुरक्षा कवच
सुरक्षा कवच
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
संसार एक जाल
संसार एक जाल
Mukesh Kumar Sonkar
तुम्हें लिखना आसान है
तुम्हें लिखना आसान है
Manoj Mahato
चौमासा विरहा
चौमासा विरहा
लक्ष्मी सिंह
सत्य आराधना
सत्य आराधना
Dr.Pratibha Prakash
*कुछ सजा खुद को सुनाना चाहिए (हिंदी गजल/गीतिका)*
*कुछ सजा खुद को सुनाना चाहिए (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
*कोपल निकलने से पहले*
*कोपल निकलने से पहले*
Poonam Matia
2703.*पूर्णिका*
2703.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फूल बनकर खुशबू बेखेरो तो कोई बात बने
फूल बनकर खुशबू बेखेरो तो कोई बात बने
Er. Sanjay Shrivastava
love or romamce is all about now  a days is only physical in
love or romamce is all about now a days is only physical in
पूर्वार्थ
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चांद पे हमको
चांद पे हमको
Dr fauzia Naseem shad
मासूमियत
मासूमियत
Surinder blackpen
मर्दों को भी इस दुनिया में दर्द तो होता है
मर्दों को भी इस दुनिया में दर्द तो होता है
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
प्रबुद्ध प्रणेता अटल जी
प्रबुद्ध प्रणेता अटल जी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Loading...