Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2017 · 1 min read

दागी नेता बैन

होगा नही महान क्यों, दुनिया मे वो देश !
फहराये झंडा जंहा ,कुदरत स्वंय “रमेश”!!

होंगे जिस दिन देश के, दागी नेता बैन !
पायेगा गणतंत्र यह,उस दिन थोड़ा चैन !!
रमेश शर्मा

Language: Hindi
1 Like · 319 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अंतर्राष्ट्रीय जल दिवस
अंतर्राष्ट्रीय जल दिवस
डॉ.सीमा अग्रवाल
बेटी और प्रकृति
बेटी और प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
*पॉंच दोहे : पति-पत्नी स्पेशल*
*पॉंच दोहे : पति-पत्नी स्पेशल*
Ravi Prakash
शरणागति
शरणागति
Dr. Upasana Pandey
🌺🌹🌸💮🌼🌺🌹🌸💮🏵️🌺🌹🌸💮🏵️
🌺🌹🌸💮🌼🌺🌹🌸💮🏵️🌺🌹🌸💮🏵️
Neelofar Khan
'आरक्षितयुग'
'आरक्षितयुग'
पंकज कुमार कर्ण
कहती जो तू प्यार से
कहती जो तू प्यार से
The_dk_poetry
जगत का हिस्सा
जगत का हिस्सा
Harish Chandra Pande
तुम जो कहते हो प्यार लिखूं मैं,
तुम जो कहते हो प्यार लिखूं मैं,
Manoj Mahato
जो संघर्ष की राह पर चलते हैं, वही लोग इतिहास रचते हैं।।
जो संघर्ष की राह पर चलते हैं, वही लोग इतिहास रचते हैं।।
Lokesh Sharma
अपने-अपने चक्कर में,
अपने-अपने चक्कर में,
Dr. Man Mohan Krishna
छोड़ दिया है मैंने अब, फिक्र औरों की करना
छोड़ दिया है मैंने अब, फिक्र औरों की करना
gurudeenverma198
कोई काम हो तो बताना
कोई काम हो तो बताना
Shekhar Chandra Mitra
हे सर्दी रानी कब आएगी तू,
हे सर्दी रानी कब आएगी तू,
ओनिका सेतिया 'अनु '
कब भोर हुई कब सांझ ढली
कब भोर हुई कब सांझ ढली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हुआ जो मिलन, बाद मुद्दत्तों के, हम बिखर गए,
हुआ जो मिलन, बाद मुद्दत्तों के, हम बिखर गए,
डी. के. निवातिया
चाँदनी रातों में बसी है ख़्वाबों का हसीं समां,
चाँदनी रातों में बसी है ख़्वाबों का हसीं समां,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"प्यार का रोग"
Pushpraj Anant
घायल तुझे नींद आये न आये
घायल तुझे नींद आये न आये
Ravi Ghayal
एक किताब खोलो
एक किताब खोलो
Dheerja Sharma
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जज़्बा है, रौशनी है
जज़्बा है, रौशनी है
Dhriti Mishra
मेंरे प्रभु राम आये हैं, मेंरे श्री राम आये हैं।
मेंरे प्रभु राम आये हैं, मेंरे श्री राम आये हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
2739. *पूर्णिका*
2739. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ३)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ३)
Kanchan Khanna
हम
हम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"ख़ूबसूरत आँखे"
Ekta chitrangini
नव्य द्वीप
नव्य द्वीप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
अबस ही डर रहा था अब तलक मैं
अबस ही डर रहा था अब तलक मैं
Neeraj Naveed
बचपन और गांव
बचपन और गांव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...