Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Dec 2023 · 1 min read

दहलीज के पार 🌷🙏

दहलीज के पार🙏
🍀☘️🙏🙏🌷
निज संतानो को पाला पोसा
बड़ा हो जग में आसन पाया
अफ़सर बन भारत माता की
सेवा करने का सुअवसर पाया

अफ़सरशाही के शानोसौकत
भूल गया अपना पराया माया
मोह अहम घमंड़ झंझावातों में
निज छोड़ दूजे अपना स्वयं तन

दुर्बलता कायाकल्प हो गया
भावों की झोंकों में दहलीज
पार छोड़ मुझे निज हालों पे
औरों की हाल पूछने चले गए

अनुनय विनय किया आंगन
आने को अकड़ आगे बढ गए
विकसित फूलों की इस डाली
निज भविष्य मुरझाने स्वयं

जिम्मेदारी साथ ले चले गए
कब तक कोईअपमान सहेगा
शूल बेदना खुद मुरझा जाएगा
पश्चतापे की अंध सागर में डूब

किनारा पाने की बैचैनी में
दहलीज सहारा लेना होगा
समय देता एक भुलावा सबको
स्वर्ग से सुंदर अपना जन्म घर

श्रृंगार सजा लिए चार कंधे
सहारे परिक्षेत्र भ्रमण यादों
मुरझा फूल दहलीज़ खिला
जग से विदाई लेना होगा
मातृभूमी कर्ज़ चुकाना होगा
☘️🍀🌷🙏🙏🌹☘️🍀
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण

Language: Hindi
108 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
While proving me wrong, keep one thing in mind.
While proving me wrong, keep one thing in mind.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
काश तुम मेरी जिंदगी में होते
काश तुम मेरी जिंदगी में होते
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कॉफ़ी की महक
कॉफ़ी की महक
shabina. Naaz
बाबा साहब अंबेडकर का अधूरा न्याय
बाबा साहब अंबेडकर का अधूरा न्याय
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
होली आ रही है रंगों से नहीं
होली आ रही है रंगों से नहीं
Ranjeet kumar patre
प्यार ना होते हुए भी प्यार हो ही जाता हैं
प्यार ना होते हुए भी प्यार हो ही जाता हैं
Jitendra Chhonkar
खुद की तलाश में मन
खुद की तलाश में मन
Surinder blackpen
बेटी और प्रकृति, ईश्वर की अद्भुत कलाकृति।
बेटी और प्रकृति, ईश्वर की अद्भुत कलाकृति।
लक्ष्मी सिंह
🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺
🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺
subhash Rahat Barelvi
खुश है हम आज क्यों
खुश है हम आज क्यों
gurudeenverma198
????????
????????
शेखर सिंह
कब भोर हुई कब सांझ ढली
कब भोर हुई कब सांझ ढली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
#गुलमोहरकेफूल
#गुलमोहरकेफूल
कार्तिक नितिन शर्मा
*चार साल की उम्र हमारी ( बाल-कविता/बाल गीतिका )*
*चार साल की उम्र हमारी ( बाल-कविता/बाल गीतिका )*
Ravi Prakash
"धन वालों मान यहाँ"
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
दोस्ती ना कभी बदली है ..न बदलेगी ...बस यहाँ तो लोग ही बदल जा
दोस्ती ना कभी बदली है ..न बदलेगी ...बस यहाँ तो लोग ही बदल जा
DrLakshman Jha Parimal
वो क्या देंगे साथ है,
वो क्या देंगे साथ है,
sushil sarna
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*Author प्रणय प्रभात*
परवरिश
परवरिश
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इंक़लाब आएगा
इंक़लाब आएगा
Shekhar Chandra Mitra
“Do not be afraid of your difficulties. Do not wish you coul
“Do not be afraid of your difficulties. Do not wish you coul
पूर्वार्थ
अल्फाज़.......दिल के
अल्फाज़.......दिल के
Neeraj Agarwal
"अहसास के पन्नों पर"
Dr. Kishan tandon kranti
*अपना अंतस*
*अपना अंतस*
Rambali Mishra
"आंखरी ख़त"
Lohit Tamta
आदिपुरुष फ़िल्म
आदिपुरुष फ़िल्म
Dr Archana Gupta
रेशम की डोर राखी....
रेशम की डोर राखी....
राहुल रायकवार जज़्बाती
" भूलने में उसे तो ज़माने लगे "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
गुरुवर तोरे‌ चरणों में,
गुरुवर तोरे‌ चरणों में,
Kanchan Khanna
हिन्दी में ग़ज़ल की औसत शक़्ल? +रमेशराज
हिन्दी में ग़ज़ल की औसत शक़्ल? +रमेशराज
कवि रमेशराज
Loading...