Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Feb 2024 · 1 min read

दस्तरखान बिछा दो यादों का जानां

दस्तरखान बिछा दो यादों का जानां
फुर्सत से बैठेंगे ,यादें चक्खेंगें!!

49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shweta Soni
View all
You may also like:
नालंदा जब  से  जली, छूट  गयी  सब आस।
नालंदा जब से जली, छूट गयी सब आस।
दुष्यन्त 'बाबा'
इन्तजार है हमको एक हमसफर का।
इन्तजार है हमको एक हमसफर का।
Taj Mohammad
गद्दार है वह जिसके दिल में
गद्दार है वह जिसके दिल में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कविता
कविता
ashok dard
*दफ्तर में साहब और बाबू (कुछ दोहे)*
*दफ्तर में साहब और बाबू (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
■ आम जनता के लिए...
■ आम जनता के लिए...
*Author प्रणय प्रभात*
आपकी इस मासूमियत पर
आपकी इस मासूमियत पर
gurudeenverma198
याद तो हैं ना.…...
याद तो हैं ना.…...
Dr Manju Saini
कुछ टूट गया
कुछ टूट गया
Dr fauzia Naseem shad
जनता हर पल बेचैन
जनता हर पल बेचैन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
नैन
नैन
TARAN VERMA
♥️पिता♥️
♥️पिता♥️
Vandna thakur
जय भवानी, जय शिवाजी!
जय भवानी, जय शिवाजी!
Kanchan Alok Malu
" क़ैदी विचाराधीन हूँ "
Chunnu Lal Gupta
किसी भी सफल और असफल व्यक्ति में मुख्य अन्तर ज्ञान और ताकत का
किसी भी सफल और असफल व्यक्ति में मुख्य अन्तर ज्ञान और ताकत का
Paras Nath Jha
मजदूर औ'र किसानों की बेबसी लिखेंगे।
मजदूर औ'र किसानों की बेबसी लिखेंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
माँ तुझे प्रणाम
माँ तुझे प्रणाम
Sumit Ki Kalam Se Ek Marwari Banda
वो आए और देखकर मुस्कुराने लगे
वो आए और देखकर मुस्कुराने लगे
Surinder blackpen
एक तेरे चले जाने से कितनी
एक तेरे चले जाने से कितनी
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
"रंग और पतंग"
Dr. Kishan tandon kranti
चलो हमसफर यादों के शहर में
चलो हमसफर यादों के शहर में
गनेश रॉय " रावण "
तमगा
तमगा
Bodhisatva kastooriya
रामायण  के  राम  का , पूर्ण हुआ बनवास ।
रामायण के राम का , पूर्ण हुआ बनवास ।
sushil sarna
जय माँ कालरात्रि 🙏
जय माँ कालरात्रि 🙏
डॉ.सीमा अग्रवाल
2979.*पूर्णिका*
2979.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कहां गए बचपन के वो दिन
कहां गए बचपन के वो दिन
Yogendra Chaturwedi
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
माँ आज भी जिंदा हैं
माँ आज भी जिंदा हैं
Er.Navaneet R Shandily
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
Phool gufran
Loading...