Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Oct 2016 · 1 min read

दश हरा

ख्वाब को बिस्तर से उठा कर के सो जाओ
नेता को भी आँख दिखा कर के सो जाओ
मनाना ही है ग़र तुझे आज दशहरा विवेक
देश के गद्दारों को जला कर के सो जाओ
©विवेक चौहान एक कवि

Language: Hindi
216 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
बाबा साहब एक महान पुरुष या भगवान
बाबा साहब एक महान पुरुष या भगवान
जय लगन कुमार हैप्पी
बहुजन पत्रकार
बहुजन पत्रकार
Shekhar Chandra Mitra
एक ठोकर क्या लगी..
एक ठोकर क्या लगी..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
अब मेरी आँखों ने आँसुओ को पीना सीख लिया है,
अब मेरी आँखों ने आँसुओ को पीना सीख लिया है,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दोहा पंचक. . .
दोहा पंचक. . .
sushil sarna
रूह मर गई, मगर ख्वाब है जिंदा
रूह मर गई, मगर ख्वाब है जिंदा
कवि दीपक बवेजा
'धोखा'
'धोखा'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
इधर उधर की हांकना छोड़िए।
इधर उधर की हांकना छोड़िए।
ओनिका सेतिया 'अनु '
गैस कांड की बरसी
गैस कांड की बरसी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जो घर जारै आपनो
जो घर जारै आपनो
Dr MusafiR BaithA
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
पहला श्लोक ( भगवत गीता )
पहला श्लोक ( भगवत गीता )
Bhupendra Rawat
"गरीब की बचत"
Dr. Kishan tandon kranti
*चाय भगोने से बाहर यदि, आ जाए तो क्या कहने 【हास्य हिंदी गजल/
*चाय भगोने से बाहर यदि, आ जाए तो क्या कहने 【हास्य हिंदी गजल/
Ravi Prakash
गुरु से बडा न कोय🌿🙏🙏
गुरु से बडा न कोय🌿🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शिशिर ऋतु-१
शिशिर ऋतु-१
Vishnu Prasad 'panchotiya'
World Emoji Day
World Emoji Day
Tushar Jagawat
"आज़ादी के 75 सालों में
*Author प्रणय प्रभात*
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
नाथ सोनांचली
भाग दौड़ की जिंदगी में अवकाश नहीं है ,
भाग दौड़ की जिंदगी में अवकाश नहीं है ,
Seema gupta,Alwar
उपहास
उपहास
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
फूल
फूल
Punam Pande
यादों का झरोखा
यादों का झरोखा
Madhavi Srivastava
विडम्बना
विडम्बना
Shaily
अफसोस मेरे दिल पे ये रहेगा उम्र भर ।
अफसोस मेरे दिल पे ये रहेगा उम्र भर ।
Phool gufran
बरगद का दरख़्त है तू
बरगद का दरख़्त है तू
Satish Srijan
"व्‍यालं बालमृणालतन्‍तुभिरसौ रोद्धुं समज्‍जृम्‍भते ।
Mukul Koushik
****माता रानी आई ****
****माता रानी आई ****
Kavita Chouhan
जवाब दे न सके
जवाब दे न सके
Dr fauzia Naseem shad
Loading...