Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2020 · 4 min read

दलित साहित्यकार कैलाश चंद चौहान की साहित्यिक यात्रा : एक वर्णन

हिन्दी-दलित साहित्य के सुप्रसिद्ध साहित्यकार, कथाकार, उपन्यासकार, कुशल संपादक व प्रकाशक आदि बहुमुखी प्रतिभा के धनी कैलाश चंद चौहान जी का जन्म 01 मार्च 1973 को दिल्ली में एक वाल्मीकि परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम इतवारी लाल और माता का नाम अंगूरी देवी था। कैलाश जी का बचपन घोर अभाव व संकटों के मध्य गुजरा। उन्होंने अपनी मां के साथ शहर में वह पारंपरिक कार्य भी किया, जिससे घर-परिवार का जीवकोपार्जन चलता था। कैलाश जी ने बहुत संघर्षों के साथ कंप्यूटर इंजीनियर की शिक्षा प्राप्त की।

कैलाश जी का पहला उपन्यास ‘सुबह के लिए’ वर्ष 2011 में प्रकाशित हुआ था। इससे पहले वे निरंतर पत्र-पत्रिकाओं में कहानियां व लेख लिख रहे थे। उनकी पहली कहानी वर्ष 1989 में ‘सारंगा स्वर’ नामक एक व्यावसायिक पत्रिका में प्रकाशित हुई थी। यही से कैलाश जी की साहित्यिक यात्रा की शुरुआत हो गयी थी, इसके बाद उनकी कहानियां व लेख देश की प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में निरंतर प्रकाशित होते रहे। उन्होंने वर्ष 1991 में ‘आशा’ नाम की एक पत्रिका का संपादन किया था, जिसे वे निरंतर प्रकाशित नही कर पाए। ‘आशा’ पत्रिका के संपादन के कारण कैलाश जी का नाम साहित्यिक चर्चा में आया। ‘आशा’ पत्रिका के कुशल सम्पादन के कारण ही भारतीय दलित साहित्य अकादमी ने उन्हें ‘डॉ. अम्बेडकर फेलोशिप’ से वर्ष 1993 में सम्मानित किया। इसके बाद कैलाश जी दलित विमर्श से जुड़े लेख व कहानियां लिखते रहे, जो पंजाब केसरी, हंस, कथादेश, नई दुनिया, जनसत्ता, नव भारत टाइम्स, दैनिक हिंदुस्तान, राष्ट्रीय सहारा आदि लगभग तीन दर्जन से अधिक पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होते रहे।

कैलाश चंद चौहान उपन्यास की विधा में सशक्त रूप से उभरे, वैसे दलित साहित्य में उपन्यास लेखन करने वाले साहित्यकारों की कमी है। कैलाश जी ने एक सफल दलित उपन्यासकार के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कैलाश जी ने अपने पहले उपन्यास ‘सुबह के लिए’ के बाद ‘भवंर’ नामक उपन्यास लिखा जो वर्ष 2013 में सम्यक प्रकाशन, दिल्ली से प्रकाशित हुआ। इस उपन्यास का अभिमत विश्व विख्यात दलित साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि जी ने लिखा था। ओमप्रकाश वाल्मीकि जी ‘भवंर’ उपन्यास की भूमिका लिखना चाहते थे, मगर उन दिनों वे स्वस्थ नहीं थे, इसलिए अभिमत ही लिख पाये। कैलाश जी दलितों की समस्याओं पर अपनी अभिव्यक्ति कहानी और लेखों के माध्यम से आमजन तक पहुचाते थे। साहित्य अकादमी के सहयोग से उनका एक कहानी संग्रह ‘संजीव का ढाबा’ वर्ष 2012 में प्रकाशित हुआ था। दूसरा कहानी संग्रह शीघ्र ही प्रकाशित होने वाला था, जिसे वे अपने रहते हुए प्रकाशित नही कर पाए। कैलाश जी का चर्चित व अंतिम उपन्यास उनके अपने प्रकाशन ‘कदम प्रकाशन’ से वर्ष 2017 में प्रकाशित हुआ था। ‘विद्रोह’ नामक इस उपन्यास की बहुत ही सारगर्भित भूमिका डॉ. सुशीला टाकभोरें जी, मन्तव्य अनिता भारती जी और अभिमत प्रो. धर्मपाल पीहल जी ने लिखा था।

कैलाश चंद चौहान जी एक कुशल संपादक भी थे, जिसकी शुरुआत वर्ष 1991 में ‘आशा’ पत्रिका के साथ शुरू होती है। इसके बाद मगहर पत्रिका के संपादक मंडल में और युद्धरत आम आदमी पत्रिका के कुछ अंको का सह-संपादन भी किया। कैलाश जी ने अपने संपादन में दूसरी पत्रिका के रूप में वर्ष 2013 में ‘कदम’ (साहित्य एवं जनचेतना की त्रैमासिक पत्रिका) की शुरुआत की। ‘कदम’ का प्रवेशांक जनवरी-मार्च 2013 में प्रकाशित हुआ। इसके बाद पत्रिका निरंतर प्रकाशित होती रही। कदम पत्रिका ने समय-समय पर कई महत्वपूर्ण विशेषांक निकाले। कदम पत्रिका के अगस्त-अक्टूबर 2013 अंक का अतिथि संपादन ओमप्रकाश वाल्मीकि जी ने किया था, जो सफाई कार्यो में सलंग्न व्यक्तियों पर केंद्रित था। ओमप्रकाश वाल्मीकि जी के देहावसान के उपरांत कैलाश जी ने ‘ओमप्रकाश वाल्मीकि स्मृति विशेषांक’ नवम्बर-दिसम्बर 2013, जनवरी 2014 के अंक के रूप में प्रकाशित किया। फरवरी-अप्रैल 2015 अंक साहित्यकार ‘डॉ.तेज सिंह विशेषांक’ के रूप में निकाला, इस अंक की अतिथि संपादक अनिता भारती जी थी।

कैलाश जी ने ‘कदम’ पत्रिका के बाद ‘कदम’ नाम से ही एक प्रकाशन की शुरुआत की। कदम प्रकाशन से साहित्य की लगभग सभी विधाओं में लगभग तीन दर्जन से अधिक पुस्तकें प्रकाशित हुई। कैलाश जी से पुस्तक प्रकाशन के सम्बंध में मेरी समय-समय पर बातचीत होती रहती थी। कुछ सहमतियों और कुछ असहमतियों के बाद डॉ. प्रवीन कुमार जी की पुस्तक ‘1857 की क्रांति में वाल्मीकि समाज को योगदान’ प्रकाशित हुई। इसके अतिरिक्त मैंने जयप्रकाश वाल्मीकि जी का एक कहानी-संग्रह कदम प्रकाशन से प्रकाशित कराने की बात कैलाश जी से कराई थी। जयप्रकाश जी का कहानी-संग्रह लगभग तैयार हो गया था, बस एक कहानी को लेकर कुछ असहमति जयप्रकाश जी और कैलाश जी के बीच थी, जो समय रहते हल ना हो सकी, इसी कारण से इस पुस्तक को कैलाश जी प्रकाशित नही कर पाए। कैलाश जी एक ऐसे प्रकाशक थे जिनका मानना था कि किताबों का मूल्य कम से कम रखना चाहिए ताकि हमारे लोग किताबें आसानी से खरीद कर पढ़ सके। प्रवीन जी की पुस्तक का मूल्य कैलाश जी ने बहुत ही किफायती रखा था। हम उनकी इस बात से पूर्णतया सहमत हैं, पुस्तकें इतनी महँगी नही होनी चाहिए कि जिनके लिए हम लिख रहे हैं वो पढ़ ना सके। दलित लेखक संघ द्वारा संपादित ‘दलित कविताओं की तीन पीढियां एक सवांद’ जैसी महत्वपूर्ण पुस्तक कदम प्रकाशन ने ही प्रकाशित की थी। कैलाश जी ने हाल ही में दो पुस्तकों (डॉ.अम्बेडकर क्या और क्यों और दलित साहित्य की चर्चित प्रेम कहानियाँ) का सम्पादन भी किया था।

कैलाश चंद चौहान जी के निधन की सूचना 15 जून 2020 को लगभग दोपहर 2 बजे मुझे युवा कवि अरविन्द भारती जी ने फोन पर दी। उन्होंने कहा कि फेसबुक पर कैलाश जी के निधन की खबर पढ़ी है। क्या यह सही है? मैं सुनते ही दुःखी हो गया। मैंने कहा मुझे मालूम नहीं है इस खबर के बारे में, मालूम करता हूँ। फोन रखने के बाद, मैंने इस दुखद खबर की पुष्टि करने के लिए डॉ. पूनम तुषामड़ जी को फोन किया। पूनम जी ने बताया, हाँ नरेंद्र खबर सही है। तब जाकर मुझे यकीन हुआ। मगर मुझे कभी ऐसा नही लगता कि कैलाश जी हमारे बीच नही है। कैलाश जी आप हमेशा एक कुशल संपादक, प्रकाशक, उपन्यासकार, कथाकार के रूप में हमारी यादों में रहेगें। आपकी स्मृति, आपके प्रति सम्मान हमेशा हमारे दिल में रहेगा। हम आपको भूला नही पायेंगे।

1 Like · 2 Comments · 1501 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुलसी युग 'मानस' बना,
तुलसी युग 'मानस' बना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मूडी सावन
मूडी सावन
Sandeep Pande
पराया हुआ मायका
पराया हुआ मायका
विक्रम कुमार
लटकते ताले
लटकते ताले
Kanchan Khanna
कोरोना का रोना! / MUSAFIR BAITHA
कोरोना का रोना! / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ओम साईं रक्षक शरणम देवा
ओम साईं रक्षक शरणम देवा
Sidhartha Mishra
है सियासत का असर या है जमाने का चलन।
है सियासत का असर या है जमाने का चलन।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"आज मग़रिब से फिर उगा सूरज।
*Author प्रणय प्रभात*
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
शब्द-वीणा ( समीक्षा)
शब्द-वीणा ( समीक्षा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
।। श्री सत्यनारायण कथा द्वितीय अध्याय।।
।। श्री सत्यनारायण कथा द्वितीय अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
क्या सीत्कार से पैदा हुए चीत्कार का नाम हिंदीग़ज़ल है?
क्या सीत्कार से पैदा हुए चीत्कार का नाम हिंदीग़ज़ल है?
कवि रमेशराज
राम लला की हो गई,
राम लला की हो गई,
sushil sarna
3174.*पूर्णिका*
3174.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बटाए दर्द साथी का वो सच्चा मित्र होता है
बटाए दर्द साथी का वो सच्चा मित्र होता है
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
दीवारों में दीवारे न देख
दीवारों में दीवारे न देख
Dr. Sunita Singh
जिंदगी
जिंदगी
Sangeeta Beniwal
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
Phool gufran
बुढ़िया काकी बन गई है स्टार
बुढ़िया काकी बन गई है स्टार
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मुट्ठी में बन्द रेत की तरह
मुट्ठी में बन्द रेत की तरह
Dr. Kishan tandon kranti
💐प्रेम कौतुक-509💐
💐प्रेम कौतुक-509💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कहानी संग्रह-अनकही
कहानी संग्रह-अनकही
राकेश चौरसिया
हुआ है अच्छा ही, उनके लिए तो
हुआ है अच्छा ही, उनके लिए तो
gurudeenverma198
माँ मेरा मन
माँ मेरा मन
लक्ष्मी सिंह
सफर में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो
सफर में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो
पूर्वार्थ
तज द्वेष
तज द्वेष
Neelam Sharma
*मेरा विश्वास*
*मेरा विश्वास*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*जमाना बदल गया (छोटी कहानी)*
*जमाना बदल गया (छोटी कहानी)*
Ravi Prakash
अंतिम इच्छा
अंतिम इच्छा
Shekhar Chandra Mitra
J
J
Jay Dewangan
Loading...