Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2022 · 1 min read

दर्द भरा गीत यहाँ गाया जा सकता है Vinit Singh Shayar

दर्द भरा गीत यहाँ गाया जा सकता है
इस मौसम में गुनगुनाया जा सकता है

आज़मा कर हमें वो कहते हैं बज़्म में
और इक बार तुम्हें आज़माया जा सकता है

जिन्हें सुनना है दर्द मेरा ठहरे रात बाक़ी है
जिनको है ज़रूरी काम वो जा सकता है

अब कहीं जा के हुआ पूरा मतलब उनका
अब वो कभी भी मुझे छोड़ के जा सकता है

दिन गुज़रा मेरा अक्सर जिनकी गुलामी में
शाम होते ही बोल रहे हैं अब तू जा सकता है

उनकी गलियों से गुज़रने में ख़तरा है बहुत
“विनीत” सब सो रहे हैं अब तू जा सकता है

~विनीत सिंह

1 Like · 224 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🙅अजब-ग़ज़ब🙅
🙅अजब-ग़ज़ब🙅
*प्रणय प्रभात*
रिश्तों में झुकना हमे मुनासिब लगा
रिश्तों में झुकना हमे मुनासिब लगा
Dimpal Khari
मेरे उर के छाले।
मेरे उर के छाले।
Anil Mishra Prahari
शांति युद्ध
शांति युद्ध
Dr.Priya Soni Khare
"लोग क्या कहेंगे" सोच कर हताश मत होइए,
Radhakishan R. Mundhra
लिखते दिल के दर्द को
लिखते दिल के दर्द को
पूर्वार्थ
*सभी को आजकल हँसना, सिखाने की जरूरत है (मुक्तक)*
*सभी को आजकल हँसना, सिखाने की जरूरत है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
बीतल बरस।
बीतल बरस।
Acharya Rama Nand Mandal
- अब नहीं!!
- अब नहीं!!
Seema gupta,Alwar
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
कवि रमेशराज
झूठ की टांगें नहीं होती है,इसलिेए अधिक देर तक अडिग होकर खड़ा
झूठ की टांगें नहीं होती है,इसलिेए अधिक देर तक अडिग होकर खड़ा
Babli Jha
दिव्यांग वीर सिपाही की व्यथा
दिव्यांग वीर सिपाही की व्यथा
लक्ष्मी सिंह
हर सफ़र ज़िंदगी नहीं होता
हर सफ़र ज़िंदगी नहीं होता
Dr fauzia Naseem shad
"साधक के गुण"
Yogendra Chaturwedi
ये तो मुहब्बत में
ये तो मुहब्बत में
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
आशा
आशा
Sanjay ' शून्य'
नफ़रत कि आग में यहां, सब लोग जल रहे,
नफ़रत कि आग में यहां, सब लोग जल रहे,
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
कुछ अजीब से वाक्या मेरे संग हो रहे हैं
कुछ अजीब से वाक्या मेरे संग हो रहे हैं
Ajad Mandori
इश्क़ में ज़हर की ज़रूरत नहीं है बे यारा,
इश्क़ में ज़हर की ज़रूरत नहीं है बे यारा,
शेखर सिंह
भोर होने से पहले .....
भोर होने से पहले .....
sushil sarna
"लोहे का पहाड़"
Dr. Kishan tandon kranti
अपने हुए पराए लाखों जीवन का यही खेल है
अपने हुए पराए लाखों जीवन का यही खेल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
आप करते तो नखरे बहुत हैं
आप करते तो नखरे बहुत हैं
Dr Archana Gupta
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
मेरा प्रदेश
मेरा प्रदेश
इंजी. संजय श्रीवास्तव
हर इंसान वो रिश्ता खोता ही है,
हर इंसान वो रिश्ता खोता ही है,
Rekha khichi
"" *समय धारा* ""
सुनीलानंद महंत
मुस्कराते हुए गुजरी वो शामे।
मुस्कराते हुए गुजरी वो शामे।
कुमार
जब अपने सामने आते हैं तो
जब अपने सामने आते हैं तो
Harminder Kaur
परिश्रम
परिश्रम
Neeraj Agarwal
Loading...