Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

दर्द किसान का (हरियाणवी)

कोय ना समझदा दुःख एक किसान का।
होरया स जोखम उसनै आपणी जान का।।

जेठ साढ़ के घाम म्ह जलै वो ठरै पौ के जाड्डे म्ह।
कोय बी ना काम आवै उसकै भई बखत आड्डे म्ह।
किसान की गरीबी प हांसै भई लोग ब्योंत ठाड्डे म्ह।
मन नै समझावै वो के फैदा औरां का खोट काड्डे म्ह।
कर्म कर राखै माड़े दोष के उस भगवान का।।
सोलै दिन आये प मुँह बंद होज्या जहान का।।

कर्जा ठा ठा फसल बोये जा करकै नै कुछ आस।
कदे सुखा पड़ज्या कदे बाढ़ आज्या होज्या नाश।
कर्मा का इतना स हिणा फसल बी ना होती खास।
दुःख विपदा म्ह गात सुखज्या बनज्या जिंदा लाश।
मन म्ह न्यू सोचे जा जीना के हो स कर्जवान का।।
बेरा ना कद सी पहिया घुमैगा बखत बलवान का।।

बालकां का कान्ही देख देख खून सारा जल ज्या स।
भूखे तिसाये रहवैं आधी हाणा न्यू काया गल ज्या स।
गरीबी के कारण देखदे माणसा का रुख बदल ज्या स।
कदे दो पिस्से ना माँग ले सोच के मानस टल ज्या स।
रोज करना पड़ै स सब्र पी कै जहर अपमान का।।
माथे की लिखी के आगे के जोर चालै इंसान का।।

गुरु रणबीर सिंह नै बहोत समझाया पढ़ लिख ले।
हो ज्यावैगा कामयाब बेटा ढ़ाई अखर तू सीख ले।
याद कर उन बाताँ नै जी करै ठाडू ठाडू चीख ले।
इसे जमींदारे तै आछा कितै जा कै मांग भीख ले।
सुलक्षणा नै ठाया बीड़ा साच स्याहमी ल्यान का।।
बालकपन तै स खटका उसकै कलम चलान का।।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

474 Views
You may also like:
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
पिता
Dr. Kishan Karigar
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
मन
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Dr.Priya Soni Khare
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता
Meenakshi Nagar
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
बुआ आई
राजेश 'ललित'
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
Loading...