Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2018 · 1 min read

*दर्दे दिल*

❤❤❤❤❤❤❤❤❤
याद में उनकी ये दिल रो रहा है ।
प्यार का ऐसा असर हो रहा है ।।
दर्द ए दिल की इन्तेहाँ तो देखो ।
दर्द को अपने आंसुओं में पिरो रहा है ।।

जितना छुपाती हूँ उतना छलकता है ।
दर्द अब तो मेरी बातों में झलकता है ।।
कभी आंसू बनके आँखों से बहता है ।
कभी गुस्सा बन अपनों पर बरसता है ।।

कभी दिल रोकर गम को भुलाता है ।
कभी दिल हंसकर गम को छुपाता है ।।
कभी बन के उदासी चेहरे पर छाता है ।
कभी खुद में ही खो जाना चाहता है ।।

दिल का दर्द बस दिल ही समझ पाता है ।
कोई और ना दर्द महसूस कर पाता है ।।
दुआ करो मेरे दिल को मिल जाए राहत ।
दुआ का दर्द ए दिल से बड़ा गहरा नाता है ।।

याद उसको भी इस कदर तड़पाये मेरी ।
घायल उसको भी यादें कर जाएं मेरी ।।
काश दे दे दिल उसको रब का वास्ता ।
दिल जान से बन जाए वो जिंदगी मेरी ।।
???????????

6 Likes · 2 Comments · 920 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपनी सरहदें जानते है आसमां और जमीन...!
अपनी सरहदें जानते है आसमां और जमीन...!
Aarti sirsat
छैल छबीली
छैल छबीली
Mahesh Tiwari 'Ayan'
वो हर खेल को शतरंज की तरह खेलते हैं,
वो हर खेल को शतरंज की तरह खेलते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दिल चाहता है अब वो लम्हें बुलाऐ जाऐं,
दिल चाहता है अब वो लम्हें बुलाऐ जाऐं,
Vivek Pandey
2786. *पूर्णिका*
2786. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
* मुस्कुरा देना *
* मुस्कुरा देना *
surenderpal vaidya
बदलाव की ओर
बदलाव की ओर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हिंदी क्या है
हिंदी क्या है
Ravi Shukla
चन्द्रयान 3
चन्द्रयान 3
डिजेन्द्र कुर्रे
अवध में राम
अवध में राम
Anamika Tiwari 'annpurna '
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
संजय कुमार संजू
कल आंखों मे आशाओं का पानी लेकर सभी घर को लौटे है,
कल आंखों मे आशाओं का पानी लेकर सभी घर को लौटे है,
manjula chauhan
औकात
औकात
Dr.Priya Soni Khare
काव्य की आत्मा और सात्विक बुद्धि +रमेशराज
काव्य की आत्मा और सात्विक बुद्धि +रमेशराज
कवि रमेशराज
जागो बहन जगा दे देश 🙏
जागो बहन जगा दे देश 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नाकाम किस्मत( कविता)
नाकाम किस्मत( कविता)
Monika Yadav (Rachina)
"दो धाराएँ"
Dr. Kishan tandon kranti
"जिंदगी"
Yogendra Chaturwedi
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
कहानी-
कहानी- "खरीदी हुई औरत।" प्रतिभा सुमन शर्मा
Pratibhasharma
लोग कहते ही दो दिन की है ,
लोग कहते ही दो दिन की है ,
Sumer sinh
थक गये है हम......ख़ुद से
थक गये है हम......ख़ुद से
shabina. Naaz
میرے اس دل میں ۔
میرے اس دل میں ۔
Dr fauzia Naseem shad
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
तुम्हीं सुनोगी कोई सुनता नहीं है
तुम्हीं सुनोगी कोई सुनता नहीं है
DrLakshman Jha Parimal
प्यार और विश्वास
प्यार और विश्वास
Harminder Kaur
अनवरत ये बेचैनी
अनवरत ये बेचैनी
Shweta Soni
आप सभी को नववर्ष की हार्दिक अनंत शुभकामनाएँ
आप सभी को नववर्ष की हार्दिक अनंत शुभकामनाएँ
डॉ.सीमा अग्रवाल
*दादी ने गोदी में पाली (बाल कविता)*
*दादी ने गोदी में पाली (बाल कविता)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल(उनकी नज़रों से ख़ुद को बचाना पड़ा)
ग़ज़ल(उनकी नज़रों से ख़ुद को बचाना पड़ा)
डॉक्टर रागिनी
Loading...