Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2017 · 1 min read

दरश बिन

तुमसे बिछुड़े मोरे प्रभ जी भई छः मासी की रैन
दरश बिन दूखन लागे नैन,दरश बिन दूखन लगे नैन

जल बिन जैसे मीन अधीरा
बिन सावन जैसे रोये पपीहा
जैसे अम्बर धरती को तरसे
ऐसे ही मेरो जिया बेचैन
दरश बिन ……..

मैं का जानूँ प्रीति तिहारी
ना ही प्रभु मैं कोई पुजारी
तुम्हरी इच्छा मिली जो लगन है
देकर दर्शन दो अब चैन
दरश बिन ………

भोली भाली तेरी सुरतिया
गहरी आँखे मीठी बतियाँ
प्रेम की नगरी तेरी बहियां
इनमें मगन मन पावे चैन
दरश बिन ………

मन स्वामी तुम् सृष्टि स्वामी
सर्वव्यापी तुम् अन्तर्यामी
भूले नहीं हो रीत निभानी
राह निहारूँ पल हर छैन
दरश बिन दूखन लागे नैन
दरश बिन………….

Language: Hindi
Tag: गीत
16 Likes · 1 Comment · 311 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr.Pratibha Prakash
View all
You may also like:
एक अजीब कशिश तेरे रुखसार पर ।
एक अजीब कशिश तेरे रुखसार पर ।
Phool gufran
एक सपना देखा था
एक सपना देखा था
Vansh Agarwal
सुबह-सुबह की बात है
सुबह-सुबह की बात है
Neeraj Agarwal
सिर्फ बेटियां ही नहीं बेटे भी घर छोड़ जाते है😥😥
सिर्फ बेटियां ही नहीं बेटे भी घर छोड़ जाते है😥😥
पूर्वार्थ
"बुराई की जड़"
Dr. Kishan tandon kranti
नाम:- प्रतिभा पाण्डेय
नाम:- प्रतिभा पाण्डेय "प्रति"
Pratibha Pandey
❤️एक अबोध बालक ❤️
❤️एक अबोध बालक ❤️
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जब मैं लिखता हूँ
जब मैं लिखता हूँ
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
" अकेलापन की तड़प"
Pushpraj Anant
अब नहीं पाना तुम्हें
अब नहीं पाना तुम्हें
Saraswati Bajpai
🙅उजला पक्ष🙅
🙅उजला पक्ष🙅
*प्रणय प्रभात*
चंदा का अर्थशास्त्र
चंदा का अर्थशास्त्र
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वक़्त ने हीं दिखा दिए, वक़्त के वो सारे मिज़ाज।
वक़्त ने हीं दिखा दिए, वक़्त के वो सारे मिज़ाज।
Manisha Manjari
बंदूक के ट्रिगर पर नियंत्रण रखने से पहले अपने मस्तिष्क पर नि
बंदूक के ट्रिगर पर नियंत्रण रखने से पहले अपने मस्तिष्क पर नि
Rj Anand Prajapati
खो गईं।
खो गईं।
Roshni Sharma
वसंत
वसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हालात ही है जो चुप करा देते हैं लोगों को
हालात ही है जो चुप करा देते हैं लोगों को
Ranjeet kumar patre
*हल्दी (बाल कविता)*
*हल्दी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
God O God
God O God
VINOD CHAUHAN
ग़ज़ल/नज़्म - प्यार के ख्वाबों को दिल में सजा लूँ तो क्या हो
ग़ज़ल/नज़्म - प्यार के ख्वाबों को दिल में सजा लूँ तो क्या हो
अनिल कुमार
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
2944.*पूर्णिका*
2944.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
Otteri Selvakumar
उसकी मोहब्बत का नशा भी कमाल का था.......
उसकी मोहब्बत का नशा भी कमाल का था.......
Ashish shukla
" ठिठक गए पल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
पग बढ़ाते चलो
पग बढ़ाते चलो
surenderpal vaidya
पहले पता है चले की अपना कोन है....
पहले पता है चले की अपना कोन है....
कवि दीपक बवेजा
मिला जो इक दफा वो हर दफा मिलता नहीं यारों - डी के निवातिया
मिला जो इक दफा वो हर दफा मिलता नहीं यारों - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
विषय:- विजयी इतिहास हमारा। विधा:- गीत(छंद मुक्त)
विषय:- विजयी इतिहास हमारा। विधा:- गीत(छंद मुक्त)
Neelam Sharma
लिखने के आयाम बहुत हैं
लिखने के आयाम बहुत हैं
Shweta Soni
Loading...