Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2023 · 2 min read

दयालू मदन

बाल कहानी

दयालू मदन

गुजरात राज्य में समुद्र के किनारे एक गाँव था-रामपुर। गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय था-समुद्र के पानी से नमक बनाना तथा मछली पकड़ना। उसे वे पास के नगर में बेच देते, जिससे अच्छी आमदनी हो जाती थी।
उसी गाँव में मदन अपनी माँ के साथ रहता था। मदन जब तीन साल का था, तभी उसके पिताजी की मृत्यु एक बस दुर्घटना में हो गई थी। बड़ी मुश्किल से पाल-पोसकर उसकी माँ ने उसे बड़ा किया।
दोनों माँ-बेटे बहुत ही धार्मिक तथा दयालु प्रवृत्ति के थे। वे अन्य गाँव वालों की तरह मछली नहीं मारते थे। वे समुद्र के पानी सेे नमक बनाते थे। मदन उसे शहर में ले जाकर बेच आता। इससे उसे बहुत कम पैसे मिलते। इसलिए कई बार मदन और उसकी माँ को भूखे ही रह जाना पड़ता।
एक दिन मदन ने अपनी माँ से कहा कि क्योें न हम भी समुद्र में ढेर सारा मछली मारकर पैसा कमाएँ, पर माँ ने साफ मना कर दिया।
एक बार मदन की माँ बीमार पड़ गई। मदन पड़ोसियों से उधार लेकर माँ को इलाज कराने लगा, पर माँ की स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ, बल्कि वह दिन-प्रतिदिन कर्ज से डूबता ही जा रहा था।
मदन इसी चिंता में एक दिन समुद्र के किनारे घूम रहा था, तभी ऊँची लहर के साथ एक बड़ी मछली भी आ गई, जो तट पर ही रह गई।
मदन सोचने लगा कि यदि वह इस मछली को ले जाकर बाजार में बेच दे, तो खूब पैसा मिलेगा और माँ का अच्छे से इलाज हो जाएगा।
तभी उसकी अंतरात्मा से आवाज आई- ‘‘ये क्या सोच रहे हो मदन ? यदि तुमने ऐसा किया तो तुम्हारी माँ तुम्हें कभी माफ नहीं करेंगी।’’
मछली पानी में जाने के लिए तड़पने लगी। यह देखकर मदन को उस पर दया आ गयी। उसने बिना देर किए मछली को उठाकर समुद्र में डाल दिया।
‘‘मदन, तुम बहुत अच्छे हो। तुमने मेरी जान बचाई है। मैं तुम्हारी सहायता करूँगी। तुम यहीं रूको।’’ उस मछली ने कहा और समुद्र में चली गई।
मछली को मनुष्य की भाषा में बोलते देख मदन आश्चर्य में पड़ गया। वह जिज्ञासावश समुद्र के किनारे खड़ा रहा।
कुछ ही देर में मछली तट पर आई और बोली- ‘‘यह मोती बहुत कीमती है। इसे बेचकर तुम अपनी गरीबी दूर करो।’’
मदन उसे ले जाकर शहर में बेच दिया। इससे उसे बहुत पैसे मिले, इससे वह अपनी माँ का अच्छे से इलाज करा सका और माँ-बेटे दोनों सुखपूर्वक रहने लगे।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
74 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चॅंद्रयान
चॅंद्रयान
Paras Nath Jha
■ आज की बात...
■ आज की बात...
*Author प्रणय प्रभात*
मोरनी जैसी चाल
मोरनी जैसी चाल
Dr. Vaishali Verma
Your heart is a Queen who runs by gesture of your mindset !
Your heart is a Queen who runs by gesture of your mindset !
Nupur Pathak
दूब घास गणपति
दूब घास गणपति
Neelam Sharma
“हिचकी
“हिचकी " शब्द यादगार बनकर रह गए हैं ,
Manju sagar
*मैं वर्तमान की नारी हूं।*
*मैं वर्तमान की नारी हूं।*
Dushyant Kumar
लफ्जों के तीर बड़े तीखे होते हैं जनाब
लफ्जों के तीर बड़े तीखे होते हैं जनाब
Shubham Pandey (S P)
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Nothing is easier in life than
Nothing is easier in life than "easy words"
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बुंदेली दोहा गरे गौ (भाग-2)
बुंदेली दोहा गरे गौ (भाग-2)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
यादों की सौगात
यादों की सौगात
RAKESH RAKESH
दिल धड़क उठा
दिल धड़क उठा
Surinder blackpen
"लाठी"
Dr. Kishan tandon kranti
सौंदर्यबोध
सौंदर्यबोध
Prakash Chandra
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
shabina. Naaz
हर एक ईट से उम्मीद लगाई जाती है
हर एक ईट से उम्मीद लगाई जाती है
कवि दीपक बवेजा
धोखा
धोखा
Sanjay ' शून्य'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सज्जन पुरुष दूसरों से सीखकर
सज्जन पुरुष दूसरों से सीखकर
Bhupendra Rawat
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
*मतलब इस संसार का, समझो एक सराय (कुंडलिया)*
*मतलब इस संसार का, समझो एक सराय (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कुछ बातें मन में रहने दो।
कुछ बातें मन में रहने दो।
surenderpal vaidya
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
5-सच अगर लिखने का हौसला हो नहीं
5-सच अगर लिखने का हौसला हो नहीं
Ajay Kumar Vimal
❤️ मिलेंगे फिर किसी रोज सुबह-ए-गांव की गलियो में
❤️ मिलेंगे फिर किसी रोज सुबह-ए-गांव की गलियो में
शिव प्रताप लोधी
हाँ मैन मुर्ख हु
हाँ मैन मुर्ख हु
भरत कुमार सोलंकी
बाज़ार में क्लीवेज : क्लीवेज का बाज़ार / MUSAFIR BAITHA
बाज़ार में क्लीवेज : क्लीवेज का बाज़ार / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
तुम्हीं पे जमी थीं, ये क़ातिल निगाहें
तुम्हीं पे जमी थीं, ये क़ातिल निगाहें
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...