Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Apr 2024 · 1 min read

दम है तो गलत का विरोध करो अंधभक्तो

दम है तो गलत का विरोध करो अंधभक्तो
अन्यथा रोटी के लिए तो कुत्ता भी देखकर पूँछ हिला दिया करता है

47 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शायद मेरी क़िस्मत में ही लिक्खा था ठोकर खाना
शायद मेरी क़िस्मत में ही लिक्खा था ठोकर खाना
Shweta Soni
सरकार~
सरकार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
ईश ......
ईश ......
sushil sarna
बस जिंदगी है गुज़र रही है
बस जिंदगी है गुज़र रही है
Manoj Mahato
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
जिया ना जाए तेरे बिन
जिया ना जाए तेरे बिन
Basant Bhagawan Roy
ऐसा लगता है कि एमपी में
ऐसा लगता है कि एमपी में
*Author प्रणय प्रभात*
ज़िंदगी का सफ़र
ज़िंदगी का सफ़र
Dr fauzia Naseem shad
बरकत का चूल्हा
बरकत का चूल्हा
Ritu Asooja
12, कैसे कैसे इन्सान
12, कैसे कैसे इन्सान
Dr Shweta sood
मेरे वतन मेरे चमन तुझपे हम कुर्बान है
मेरे वतन मेरे चमन तुझपे हम कुर्बान है
gurudeenverma198
हुनर मौहब्बत के जिंदगी को सीखा गया कोई।
हुनर मौहब्बत के जिंदगी को सीखा गया कोई।
Phool gufran
*अमर तिरंगा रहे हमारा, भारत की जयकार हो (गीत)*
*अमर तिरंगा रहे हमारा, भारत की जयकार हो (गीत)*
Ravi Prakash
ज़रूरतमंद की मदद
ज़रूरतमंद की मदद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तू है तसुव्वर में तो ए खुदा !
तू है तसुव्वर में तो ए खुदा !
ओनिका सेतिया 'अनु '
माँ
माँ
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
क्रोटन
क्रोटन
Madhavi Srivastava
फूलो की सीख !!
फूलो की सीख !!
Rachana
कुछ इस लिए भी आज वो मुझ पर बरस पड़ा
कुछ इस लिए भी आज वो मुझ पर बरस पड़ा
Aadarsh Dubey
आशियाना तुम्हारा
आशियाना तुम्हारा
Srishty Bansal
रात बदरिया...
रात बदरिया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"आँसू"
Dr. Kishan tandon kranti
सैनिक की कविता
सैनिक की कविता
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
देने तो आया था मैं उसको कान का झुमका,
देने तो आया था मैं उसको कान का झुमका,
Vishal babu (vishu)
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
Vishvendra arya
* बचाना चाहिए *
* बचाना चाहिए *
surenderpal vaidya
बालको से पग पग पर अपराध होते ही रहते हैं।उन्हें केवल माता के
बालको से पग पग पर अपराध होते ही रहते हैं।उन्हें केवल माता के
Shashi kala vyas
निष्ठुर संवेदना
निष्ठुर संवेदना
Alok Saxena
धरा और हरियाली
धरा और हरियाली
Buddha Prakash
Loading...