Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

दनकौरी काण्ड

कलम नहीँ तलवार उठा लू इन गुंडों हत्यारों पर ।
रक्त चढ़ा दू जी करता है जंग लगी तलवारों पर ।।

बहुत हो चुका सहते सहते अब ए सहन नहीं होगा ।
चीर हरण करने वालों अब नंगा वतन नहीँ होगा ।।

खुद को मर्द समझने वालों लानत है तुम मर्दों पर ।
है हिम्मत तो टक्कर ले लो जुगनू के इन शर्तों पर ।।

मात्रभूमि की कसम है तुझको ऐसा सबक सिखाएंगे ।
नंगा कर तलवार घुसाकर भारत भ्रमण कराएंगे ।।

परशुराम का वंसज हूँ फरसा का प्यास बुझाऊँगा ।
तेरी इन करतूतों को मैं जन जन तक पहुचाऊंगा ।।

जो देख रहे थे खड़े खड़े उन पर भी ऐसा होगा ।
चौराहे पर बहन लुटेगी थाने में पैसा होगा ।।

सोचो वापस कर पाओगे अपने माँ की इज्जत को ।
बाप बेचारा मर जाएगा देख के गन्दी हरकत को ।।

क्या लेकर तुम आये हो और क्या लेकर तुम जाओगे ।
आने वाली पीढ़ी से तुम गाली भर मुह खाओगे ।।

आओ हम संकल्प करे उन सबको न्याय दिलाने का ।
ध्येय हमारा हो राक्षस को फाँसी तक पहुचाने का ।।

Language: Hindi
403 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन दर्शन मेरी नज़र से. .
जीवन दर्शन मेरी नज़र से. .
Satya Prakash Sharma
नए साल की नई सुबह पर,
नए साल की नई सुबह पर,
Anamika Singh
"गहराई में बसी है"
Dr. Kishan tandon kranti
वो ओस की बूंदे और यादें
वो ओस की बूंदे और यादें
Neeraj Agarwal
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
राम राज्य
राम राज्य
Shriyansh Gupta
मत सता गरीब को वो गरीबी पर रो देगा।
मत सता गरीब को वो गरीबी पर रो देगा।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रूठ जा..... ये हक है तेरा
रूठ जा..... ये हक है तेरा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बेटी के जीवन की विडंबना
बेटी के जीवन की विडंबना
Rajni kapoor
2) “काग़ज़ की कश्ती”
2) “काग़ज़ की कश्ती”
Sapna Arora
शयनकक्ष श्री हरि चले, कौन सँभाले भार ?।
शयनकक्ष श्री हरि चले, कौन सँभाले भार ?।
डॉ.सीमा अग्रवाल
तू उनको पत्थरों से मार डालती है जो तेरे पास भेजे जाते हैं...
तू उनको पत्थरों से मार डालती है जो तेरे पास भेजे जाते हैं...
parvez khan
میرے اس دل میں ۔
میرے اس دل میں ۔
Dr fauzia Naseem shad
कितना रोका था ख़ुद को
कितना रोका था ख़ुद को
हिमांशु Kulshrestha
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
Anand Kumar
माँ-बाप का किया सब भूल गए
माँ-बाप का किया सब भूल गए
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
फितरत कभी नहीं बदलती
फितरत कभी नहीं बदलती
Madhavi Srivastava
संविधान  की बात करो सब केवल इतनी मर्जी  है।
संविधान की बात करो सब केवल इतनी मर्जी है।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
3007.*पूर्णिका*
3007.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"" *श्री गीता है एक महाकाव्य* ""
सुनीलानंद महंत
अपनी अपनी सोच
अपनी अपनी सोच
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
जब तक प्रश्न को तुम ठीक से समझ नहीं पाओगे तब तक तुम्हारी बुद
जब तक प्रश्न को तुम ठीक से समझ नहीं पाओगे तब तक तुम्हारी बुद
Rj Anand Prajapati
ऐसे थे पापा मेरे ।
ऐसे थे पापा मेरे ।
Kuldeep mishra (KD)
#लघुकथा / #विरक्त
#लघुकथा / #विरक्त
*Author प्रणय प्रभात*
* बढ़ेंगे हर कदम *
* बढ़ेंगे हर कदम *
surenderpal vaidya
सर्द हवाओं का मौसम
सर्द हवाओं का मौसम
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
लाल और उतरा हुआ आधा मुंह लेकर आए है ,( करवा चौथ विशेष )
लाल और उतरा हुआ आधा मुंह लेकर आए है ,( करवा चौथ विशेष )
ओनिका सेतिया 'अनु '
स्वर्ण दलों से पुष्प की,
स्वर्ण दलों से पुष्प की,
sushil sarna
हम हैं क्योंकि वह थे
हम हैं क्योंकि वह थे
Shekhar Chandra Mitra
मेरा नाम
मेरा नाम
Yash mehra
Loading...