Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Feb 2023 · 1 min read

थोपा गया कर्तव्य बोझ जैसा होता है । उसमें समर्पण और सेवा-भा

थोपा गया कर्तव्य बोझ जैसा होता है । उसमें समर्पण और सेवा-भाव का सर्वथा अभाव होता है । ऐसा कर्तव्य संबंधों में दुराव उत्पन्न करता है और जीवन को बोझिल कर देता है ।

” प्रत्येक प्राणी को यह अधिकार होना चाहिए कि कर्तव्य पालन उसके हृदय की स्वेच्छा से दी गई स्वीकृति से हो ना कि उसका कर्तव्य उसे दूसरों से दंड स्वरूप प्राप्त हो ।।”
सीमा वर्मा
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

460 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Seema Verma
View all
You may also like:
2314.पूर्णिका
2314.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"बाकी"
Dr. Kishan tandon kranti
* टाई-सँग सँवरा-सजा ,लैपटॉप ले साथ【कुंडलिया】*
* टाई-सँग सँवरा-सजा ,लैपटॉप ले साथ【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
There are instances that people will instantly turn their ba
There are instances that people will instantly turn their ba
पूर्वार्थ
योग
योग
लक्ष्मी सिंह
कांधा होता हूं
कांधा होता हूं
Dheerja Sharma
छोड़ कर महोब्बत कहा जाओगे
छोड़ कर महोब्बत कहा जाओगे
Anil chobisa
आंगन आंगन पीर है, आंखन आंखन नीर।
आंगन आंगन पीर है, आंखन आंखन नीर।
Suryakant Dwivedi
'उड़ाओ नींद के बादल खिलाओ प्यार के गुलशन
'उड़ाओ नींद के बादल खिलाओ प्यार के गुलशन
आर.एस. 'प्रीतम'
■ शायद...?
■ शायद...?
*Author प्रणय प्रभात*
हजारों मील चल करके मैं अपना घर पाया।
हजारों मील चल करके मैं अपना घर पाया।
Sanjay ' शून्य'
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
Manisha Manjari
👸कोई हंस रहा, तो कोई रो रहा है💏
👸कोई हंस रहा, तो कोई रो रहा है💏
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जिंदगी की किताब
जिंदगी की किताब
Surinder blackpen
स्वामी विवेकानंद
स्वामी विवेकानंद
मनोज कर्ण
शराफत नहीं अच्छी
शराफत नहीं अच्छी
VINOD CHAUHAN
आहत हो कर बापू बोले
आहत हो कर बापू बोले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मां रिश्तों में सबसे जुदा सी होती है।
मां रिश्तों में सबसे जुदा सी होती है।
Taj Mohammad
और मौन कहीं खो जाता है
और मौन कहीं खो जाता है
Atul "Krishn"
अधरों ने की  दिल्लगी, अधरों  से  कल  रात ।
अधरों ने की दिल्लगी, अधरों से कल रात ।
sushil sarna
एक नयी रीत
एक नयी रीत
Harish Chandra Pande
जो घर जारै आपनो
जो घर जारै आपनो
Dr MusafiR BaithA
ऐ .. ऐ .. ऐ कविता
ऐ .. ऐ .. ऐ कविता
नेताम आर सी
आप की मुस्कुराहट ही आप की ताकत हैं
आप की मुस्कुराहट ही आप की ताकत हैं
शेखर सिंह
⭕ !! आस्था !!⭕
⭕ !! आस्था !!⭕
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मेरा प्रयास ही है, मेरा हथियार किसी चीज को पाने के लिए ।
मेरा प्रयास ही है, मेरा हथियार किसी चीज को पाने के लिए ।
Ashish shukla
सच कहा था किसी ने की आँखें बहुत बड़ी छलिया होती हैं,
सच कहा था किसी ने की आँखें बहुत बड़ी छलिया होती हैं,
Sukoon
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
शाह फैसल मुजफ्फराबादी
ज़िंदगी मेरी दर्द की सुनामी बनकर उभरी है
ज़िंदगी मेरी दर्द की सुनामी बनकर उभरी है
Bhupendra Rawat
गांधी जी का चौथा बंदर
गांधी जी का चौथा बंदर
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
Loading...