Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2023 · 2 min read

थैला

काला पीला हरा गुलाबी,
श्वेत लाल या मटमैला।
कपड़ा,टाट,या कृतिम बना हो,
बड़े काम है थैला।

जीवन के हर पन में पल में,
उबड़ खाबड़ या समतल में।
सब सामान हैं लेकर जाते,
इसके बिन हम रह नहीं पाते।
मैं डंके की चोप पे कहता,
बड़े काम है थैला।

चड्ढी व लंगोटी ढोता,
खेतों में ये बीज है बोता,
डॉ की दवाई हो,
लुंगी कुर्ती टाई हो
चादर या रजाई हो।
सबका सब कुछ ले के जाता,
बड़े काम है थैला।

फत्ते का मलमल का कुर्ता,
या बेगम का काला बुरका।
तेली जी का तेलहन हो,
या बनिया का दलहन हो,
धोबी की धुलाई हो,
हलवाई की मिठाई हो,
सब भर लेता अपने अंदर ,
बड़े काम है थैला।

ननद और जेठानी का,
सेठ की सेठानी का,
बांदी राजा रानी का,
रामू की लुगाई का,
देवर और भौजाई का,
चाचा दादा दाई का,
चाची बप्पा माई का,
सबका समान ले जाता
बड़े काम का है थैला।

सरकार का बजट इसमें,
रेवड़ी,पेठा गज़क इसमें।
साड़ी साया चोली हो,
या सैनिक की गोली हो।
बल्ला या फुटबॉल हो,
मछुवारे का जाल हो।
इस बिन काम बने भी कैसे।
बड़े काम है थैला।

कुछ थैले कुदरत से पाए,
बिन इसके कुछ भी न सुहाए।
माँ का जेर गजब एक थैला,
दिल दिमाक झोला अलवेला।
श्रीराम की तुम्हे दुहाई,
इनकी सदैव करो सफाई।
अमासय क्या खास बनाया,
अब तक कोई भर नहीं पाया।
सदैव प्रभ का ध्यान करो,
गन्दी चीजों से न भरो।
पलना से होती शुरुवात।
शवपट में सब लिपटे जात।
बुढो बच्चों गोरी छैला,
गौर करो कभी न हो मैला।
इसीलिये तो कहता हूँ…
बड़े काम है थैला।
सतीश “सृजन”

Language: Hindi
609 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
वतन-ए-इश्क़
वतन-ए-इश्क़
Neelam Sharma
‌‌भक्ति में शक्ति
‌‌भक्ति में शक्ति
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
यह कहते हुए मुझको गर्व होता है
यह कहते हुए मुझको गर्व होता है
gurudeenverma198
स्नेह
स्नेह
Shashi Mahajan
कविता: मेरी अभिलाषा- उपवन बनना चाहता हूं।
कविता: मेरी अभिलाषा- उपवन बनना चाहता हूं।
Rajesh Kumar Arjun
दिल जीत लेगी
दिल जीत लेगी
Dr fauzia Naseem shad
◆व्यक्तित्व◆
◆व्यक्तित्व◆
*प्रणय प्रभात*
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Manisha Manjari
दोस्त, ज़िंदगी में तीन चीजे काम करती हैं,नीति,नियम और नियत,अ
दोस्त, ज़िंदगी में तीन चीजे काम करती हैं,नीति,नियम और नियत,अ
Piyush Goel
बढ़ती हुई समझ,
बढ़ती हुई समझ,
Shubham Pandey (S P)
*खत आखरी उसका जलाना पड़ा मुझे*
*खत आखरी उसका जलाना पड़ा मुझे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जुदाई - चंद अशआर
जुदाई - चंद अशआर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
डॉ निशंक बहुआयामी व्यक्तित्व शोध लेख
डॉ निशंक बहुआयामी व्यक्तित्व शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चिड़िया
चिड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
24/243. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/243. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"" *प्रेमलता* "" ( *मेरी माँ* )
सुनीलानंद महंत
उम्र के हर एक पड़ाव की तस्वीर क़ैद कर लेना
उम्र के हर एक पड़ाव की तस्वीर क़ैद कर लेना
'अशांत' शेखर
भारत के राम
भारत के राम
करन ''केसरा''
शब्द लौटकर आते हैं,,,,
शब्द लौटकर आते हैं,,,,
Shweta Soni
ज़िन्दगी वो युद्ध है,
ज़िन्दगी वो युद्ध है,
Saransh Singh 'Priyam'
मुस्तक़िल बेमिसाल हुआ करती हैं।
मुस्तक़िल बेमिसाल हुआ करती हैं।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"सलाह"
Dr. Kishan tandon kranti
माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा
माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
प्रतिशोध
प्रतिशोध
Shyam Sundar Subramanian
"वक्त इतना जल्दी ढल जाता है"
Ajit Kumar "Karn"
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
" नाराज़गी " ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तुम जा चुकी
तुम जा चुकी
Kunal Kanth
लोकतंत्र में —
लोकतंत्र में —
SURYA PRAKASH SHARMA
इश्क़ कर लूं में किसी से वो वफादार कहा।
इश्क़ कर लूं में किसी से वो वफादार कहा।
Phool gufran
Loading...