Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 1 min read

* थके पथिक को *

** गीतिका **
~~
थके पथिक को जब थोड़ा सा, मिल जाए विश्राम।
आगे बढ़ जाएगा फिर से, लेकर प्रभु का नाम।

सभी दिशाओं में अविरल ये, रहते नित गतिमान।
सीमित नहीं हुआ करते हैं, जीवन के आयाम।

श्रम करते हैं खूब अहर्निश, सबको लेकर साथ।
सभी चाहते हैं जीवन में, खूब कमाएं नाम।

मन हो जाता है आनंदित, खुशियों से भरपूर।
संघर्षों में मिल जाते जब, जय के शुभ परिणाम।

श्रम करके भी कहीं नहीं जब, बन पाती है बात।
ऐसे में कुछ समय बिताकर, कर लेना आराम।

थके हताश हुए तन मन में, आ जाता उत्साह।
प्रीति भरे भावों के जब भी, मिल जाते पैगाम।

नदी किनारे खड़े पथिक को, जाना है उस पार।
हिम्मत है तो हो जाएगी, मुश्किल हल नाकाम।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, ०५/०४/२०२४

1 Like · 37 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
पिता का पेंसन
पिता का पेंसन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बस भगवान नहीं होता,
बस भगवान नहीं होता,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
छीना झपटी के इस युग में,अपना स्तर स्वयं निर्धारित करें और आत
छीना झपटी के इस युग में,अपना स्तर स्वयं निर्धारित करें और आत
विमला महरिया मौज
पहले प्रेम में चिट्ठी पत्री होती थी
पहले प्रेम में चिट्ठी पत्री होती थी
Shweta Soni
*डूबतों को मिलता किनारा नहीं*
*डूबतों को मिलता किनारा नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दिल से जाना
दिल से जाना
Sangeeta Beniwal
यहाँ सब काम हो जाते सही तदबीर जानो तो
यहाँ सब काम हो जाते सही तदबीर जानो तो
आर.एस. 'प्रीतम'
हे बुद्ध
हे बुद्ध
Dr.Pratibha Prakash
महाकाल का आंगन
महाकाल का आंगन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
यह दुनिया है जनाब
यह दुनिया है जनाब
Naushaba Suriya
चला मुरारी हीरो बनने ....
चला मुरारी हीरो बनने ....
Abasaheb Sarjerao Mhaske
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
शेखर सिंह
एहसास दिला देगा
एहसास दिला देगा
Dr fauzia Naseem shad
संगीत
संगीत
Neeraj Agarwal
साइंस ऑफ लव
साइंस ऑफ लव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
त्याग
त्याग
Punam Pande
थोड़ा सच बोलके देखो,हाँ, ज़रा सच बोलके देखो,
थोड़ा सच बोलके देखो,हाँ, ज़रा सच बोलके देखो,
पूर्वार्थ
" जुदाई "
Aarti sirsat
# जय.….जय श्री राम.....
# जय.….जय श्री राम.....
Chinta netam " मन "
जिंदगी को बोझ नहीं मानता
जिंदगी को बोझ नहीं मानता
SATPAL CHAUHAN
"आँख और नींद"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं राम का दीवाना
मैं राम का दीवाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
उसकी वो बातें बेहद याद आती है
उसकी वो बातें बेहद याद आती है
Rekha khichi
मेरी धुन में, तेरी याद,
मेरी धुन में, तेरी याद,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
धारा छंद 29 मात्रा , मापनी मुक्त मात्रिक छंद , 15 - 14 , यति गाल , पदांत गा
धारा छंद 29 मात्रा , मापनी मुक्त मात्रिक छंद , 15 - 14 , यति गाल , पदांत गा
Subhash Singhai
पतग की परिणीति
पतग की परिणीति
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
*शुगर लेकिन दुखदाई (हास्य कुंडलिया)*
*शुगर लेकिन दुखदाई (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
भरे हृदय में पीर
भरे हृदय में पीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
याद आयेगा हमें .....ग़ज़ल
याद आयेगा हमें .....ग़ज़ल
sushil sarna
Loading...